Loneliness (मैं और मेरी तन्हाई)…

Autobiography of a modern yogi part I

(Loneliness)…

When my loneliness speaks nothing left for me to say… If we listen sincerely, loneliness is the voice of our soul; if we hear and go ahead then we no longer need any master in this world, then our heart becomes the source of our inspiration. So I believe that I have no master except my loneliness. If our hearts are opened then no one can stop us being dynamic in the journey of the soul, when it came to my mind it began my inner journey automatically. My motivation becomes your inspiration that is the goal of my life…

A few sentences which inspired me…

Be your own lamp (App deepo bhav )…

-Gautam Buddha

A single idea can light up the world…

-Unknown

Life to be extinguished once the shine is better than continuing to reek…

-Mahabharat

Every path the world is formed by a nailed stumble traveler…

-Sharatchandra (Shrikant)

If you show me a person without a problem then I will show you the perfect world…

-R.K. Narayan (The Guide)

God gave man two hands and given the power to create, now he is using them to sin or virtue depends on it in his discretion…

-Modern Yogi (myself)

Slow progress is better to move fast on the wrong path…

-Modern Yogi

Live every day like it’s your first and last day…

-Unknown

-Modern yogi

पाठकों से…
जब मेरी तन्हाई बोलती है तो मेरे कहने को कुछ भी नहीं रह जाता, अगर हम ईमानदारी से सुनें तो तन्हाई हमारी आत्मा की आवाज है, बस इसे सुनें और आगे बढ़ें तो मैं समझता हूँ कि फिर संसार में किसी और गुरु की आवश्यकता नहीं रह जाती, फिर हमारा ह्रदय ही हमारा प्रेरणा स्त्रोत बन जाता है. इसलिए मैं मानता हूँ की मेरा कोई और गुरु नहीं है मेरी तन्हाई के सिवा। अगर हमारे ह्रदय के द्वार खुल जाएँ तो फिर हमें आत्मा की यात्रा में गतिशील होने से कोई नहीं रोक सकता, जब यह बात मेरी समझ में आई तो मेरी अंतर्यात्रा आप ही आप शुरू हो गई। मेरी यह प्रेरणा आपकी भी अंतर्यात्रा की प्रेरणा बन जाये यही मेरे इस जीवन का लक्ष्य है…
मुझे प्रेरित करने वाले कुछ वाक्य…
अप्प दीपो भव ( अपने दीपक खुद बनो )… -गौतम बुद्ध
सिर्फ एक विचार सारे संसार में उजाला फैला सकता है… -अज्ञात
जिंदगी भर धुआं देते रहने से बेहतर है, एक बार चमक कर बुझ जाना… -महाभारत
दुनिया की हर राह किसी न किसी मुसाफिर की ठोकर ने ही बनाई है… -शरतचन्द्र (श्रीकांत में)
अगर तुम मुझे समस्याओं से रहित एक भी व्यक्ति दिखा सको तो मैं तुम्हें समस्याओं से रहित संसार दिखा दूंगा… -आर. के. नारायण (गाइड में)
ईश्वर ने मनुष्य को दो हाथ दिए और सृजन करने की शक्ति दी पर वह इनका उपयोग पाप करने में करता है या पुण्य करने में यह उसके विवेक पर निर्भर करता है… -मॉडर्न योगी (स्वयं)
गलत रास्तों पर तीव्र उन्नति से बेहतर है सही रस्ते पर धीमे-धीमे अग्रसर होना… -मॉडर्न योगी
हर दिन ऐसे जियो जैसे ये तुम्हारा पहला और आखिरी दिन हो… -अज्ञात
-मॉडर्न योगी

2 thoughts on “Loneliness (मैं और मेरी तन्हाई)…

Leave a Reply