Monthly Archives: December 2015

Psychology of Generation Gap… (जनरेशन गैप का मनोविज्ञान…)

‘Generation Gap’ is a small word that you will get to hear anywhere in the debate between teenagers of the modern younger generation and their parents. The word is not new; it has been in use for generations and will come in use for generations. Let come and know what its psychology is…

Generation Gap is the state of differences in two generations taking the spirit of not understanding each other. Why these differences…?

The main reason of generation gap is to refuse by the parents to the children to those works which either they have done already or they are doing in their daily life. The children emotionally lose the spirit of trust to their parents. After going the trust, essentially required faith in the relationship ends and it becomes hard for them to give the essential respect to their older generation. If you refuse anyone to do any work and do the same work yourself then the faith towards you will naturally go away from his mind. Therefore, before becoming a preacher, who offers his theory to others, we must apply it ourselves.

Generation Gap is nothing in reality, is only disbelief of one generation to the second generation, is a sense of insecurity that the other generation cannot understand us. It is only the difference of circumstances, the only difference of viewpoints. When we are young, we hate older generation or think that joy has taken away from their life so they envy us and when we are old, we think that we have seen the world as our experiences and our children do not understand and are making the same mistakes that we have done. Some mistakes are inevitable, everyone has to do it. One who wants to escape someone to do a mistake, if he get another chance, he will repeat the same mistake. Neither one escaped with these mistakes nor one will escape. Yet the man who had done these mistakes says that don’t do it but the new man cannot live without doing these mistakes. This difference is basic. The difference is only of a few ideas. The difference is only a few viewpoints. The same thing seems to be different from different angles. This difference is not in the object, it is of the views, it is of the place to look. In old age there is the ego of experiences then youth is full of pride of power. It is only the difference of circumstances and the age. Your grandfather also felt the generation gap, your grandfather and father felt, you felt, your child will also feel and your children’s children will feel, nobody can erase the generation gap.

-11 August 2002

जनरेशन गैप का मनोविज्ञान…
‘जनरेशन गैप एक छोटा सा शब्द है जो आपको मॉडर्न होती युवा पीढ़ी में टीन-एजर्स और उनके माता-पिता के बीच होने वाली बहस में कहीं भी सुनने को मिल जाएगा। ये शब्द कोई नया नहीं है, पीढ़ियों से उपयोग में आता रहा है और पीढ़ियों तक उपयोग में आता रहेगा। आइये, जाने क्या है इसका मनोविज्ञान…
जनरेशन गैप दो पीढ़ी में एक-दूसरे को समझ न पाने की भावना को लेकर मतभेद की स्थिति है। क्यों होता है यह मतभेद…? जनरेशन गैप का मुख्य कारण है माता-पिता का बच्चों को वे काम करने से मना करना जो या तो वे खुद कर चुके होते हैं या कर रहे होते हैं, जिससे बच्चे भावनात्मक रूप से अपने माता-पिता के प्रति विश्वास की भावना खो बैठते हैं। विश्वास के जाने से संबंधों में अपेक्षित अनिवार्य श्रद्धा ख़त्म होती जाती है और वे अपनी पुरानी पीढ़ी को सम्मान नहीं दे पाते। यदि आप किसी को कोई काम करने से मना करते हैं और खुद उस काम को करते हैं तो उसके मन से आपके प्रति श्रद्धा स्वाभाविक रूप से चली जाएगी। अतः उपदेशक बनने से पहले हमें अपने सिद्धांत पर अमल करने वाला कर्ता होना चाहिए।
जनरेशन गैप हक़ीक़त में कुछ भी नहीं, केवल एक पीढ़ी का दूसरी पीढ़ी के प्रति अविश्वास है, एक असुरक्षा की भावना है कि दूसरी पीढ़ी हमें नहीं समझ सकती। यह केवल परिस्थितियों का फर्क है, केवल नजरिये का फर्क है। जब हम युवा होते हैं तो वृद्ध पीढ़ी से घृणा करते हैं या सोचते हैं कि इनके जीवन से आनंद विद्दा ले चुका है इसलिए ये हमसे ईर्ष्या करते हैं और जब हम वृद्ध होते है तो सोचते हैं कि हमने अपने अनुभवों के रूप में दुनिया देखी है और हमारी संतानें हमें नहीं समझ कर वही गलती करने जा रही है जो हम कर चुके हैं। कुछ गलतियां अवश्यम्भावी होती हैं। इन्हें तो हर किसी को करना ही होता है। गलती से बचाने वाले को अगर एक मौका फिर मिले तो वह दोबारा भी वही गलती करेगा। इन गलतियों से न कोई बचा है, न कोई बचेगा। फिर भी इन गलतियों को कर चुका आदमी कहता है कि इन्हें मत करो लेकिन नया आदमी इन गलतियों को किये बिना नहीं रह सकता। यह फर्क बुनियादी है। यह फर्क केवल कुछ विचारों का है। यह फर्क केवल कुछ दृष्टिकोणों का है। एक ही चीज अलग-अलग कोणों से अलग-अलग दिखाई पड़ती है। यह फर्क वस्तु में नहीं बल्कि दृष्टिकोणों का है, देखने के स्थान का है। वृद्धावस्था में अनुभवों का अहंकार होता है तो युवावस्था में यौवन तथा शक्ति का मद रहता है। यह केवल परिस्थितियों और उम्र का फर्क है। आपके दादा के दादा ने भी इस जनरेशन गैप को महसूस किया, आपके दादा और पिता ने भी महसूस किया, आपने भी महसूस किया, आपके बच्चे भी महसूस करेंगे और आपके बच्चों के बच्चे भी महसूस करेंगे। इस जनरेशन गैप को कोई नहीं मिटा सकता।
-११ अगस्त २००२

Salute to readers…

Mr. Justin churchill wrote-

I was just looking for this information for some time. After six hours of continuous Googleing, finally I got it in your website. I wonder what is the lack of Google strategy that do not rank this kind of informative websites in top of the list. Generally the top web sites are full of garbage.

I want to say Mr. churchil, like the world google works on mass, it shows the content which are frequently searched. First of all let me tell you one thing, there are two types of people in this world, one who think how to get and second who think how to give… there are 98% people of first type and only 2% remains the second type. I need some of these 2%. these 2% are sufficient to balance rest 98%. These 98% are the users and formers of the garbage, which they need that’s why people like you have to work for six hours to find some valuable. Of course we will decrease this 98%.  And you are here with me means you are among those 2%. And it is sufficient for me. Those 2% are the only people who leads the world. This Along the infinity is the community of such people…

Salute to all of you…

-Modern Yogi

A yogi… (एक योगी… )

He is not a man who is in bondage to lust. The man blind from his conscience throw his whole life into the furnace of lust, yet he does not get satisfaction and as many he will find the lives he wants to lose all of them in the furnace of the lust.

Oh God! What is this illusion in the life of thy creatures? As the moth knows that it will be burn and turned into ashes in the flame of the lamp but still hover there and there and finally gives his life by jumping into the flame. Similarly, the people involved in lust and desires take to ruin his life.

I had heard the story of a Yogi in childhood; it was such that a monk being angry for any reason, gave a curse a man that your whole pedigree will singe in the fire of lust and the fire will not extinguish until a single man will live in thy pedigree and then this consecution was continue. Generation by generation the pedigree was suffering the curse and had been making their life a hell. At the end of the day the last heir of the Pedigree was born. Thus a day came when the last heir was born in the pedigree. By the luck he got good atmosphere, good discourses and good books as well as he found all of the world dusting, which shook his life. His life was filled with echoes of the questions and it became aware his conscience, his Inner consciousness and finally he drew a cure to this curse. He thought there is no advantage of living of such a cursed family. So it is better that the dynasty died out here to me. He found the solution in this idea. And he abandoned the path of lust taken to the path of service and he got joy in sharing joy to others, serving others, to overcome their troubles and he became a yogi.

-5 August 2002

एक योगी…
आदमी वासना की गुलामी में जो न करे वह थोड़ा है। आदमी अपने विवेक से अँधा होकर अपना सारा जीवन वासना की भट्टी में झोंक देता है फिर भी उसे तृप्ति नहीं मिलती और उसे जितने ही जीवन मिलें वह उन सबको वासना की इस भट्टी में झोंक देना चाहता है।
हे प्रभु! तेरे जीव के जीवन में ये कैसी माया है? जिस प्रकार पतंगा जानता है कि चिराग की लौ में वह जल-भुन कर राख हो जाएगा पर फिर भी वहीं-वहीं मण्डराकर अंत में उस अग्निशिखा में कूद कर अपनी जान दे देता है। उसी प्रकार ये आदमी वासनाओं और कामनाओं में लिप्त होकर अपना जीवन बर्बाद कर लेता है।
मैंने बचपन में एक योगी की कहानी सुनी थी, वह ऐसी थी कि एक साधु ने किसी कारणवश क्रोध में आकर एक आदमी को यह श्राप दे दिया कि जा तेरा पूरा खानदान वासना की आग में झुलसता रहेगा और यह आग तब तक नहीं बुझेगी, जब तक कि तेरे खानदान में एक भी आदमी जिन्दा रहेगा और तब से यह सिलसिला चला आ रहा था। पीढ़ी दर पीढ़ी इस अभिशाप को झेलती चली आ रही थी और अपना जीवन नरक बनाती आ रही थी। इस प्रकार दिन बीतने पर उसी खानदान का एक आखिरी वारिस पैदा हुआ। भाग्य से उसे अच्छा वातावरण मिला, सत्संग मिला, अच्छी पुस्तकें मिलीं और साथ ही मिली दुनिया की तमाम ठोकरें, जिन्होंने उसके जीवन को झिंझोड़ कर रख दिया। उसका जीवन प्रश्नों की अनुगूंज से भर गया। और जाग्रत हो गया उसका विवेक, उसकी अन्तर्चेतना और उसने इस श्राप का तोड़ निकाल लिया। उसने सोचा कि ऐसे अभिशप्त खानदान के जीने का कोई लाभ नहीं। इससे तो अच्छा यही होगा कि ये खानदान यहीं मुझ पर ही ख़त्म हो जाए और इसी विचार में उसे समाधान मिल गया। और उसने वासना का मार्ग त्याग कर सेवा का मार्ग अपना लिया। उसे दूसरों में खुशिया बांटकर, दूसरों की सेवा करके उनकी परेशानियां दूर करने में ख़ुशी मिलने लगी और वह एक योगी बन गया।
-५ अगस्त २००२

I and she… (मैं और वो…)

 

I – Do you think that you have taken the right decision? Sometimes we take our decision in the flow of emotions and then left to repent.

She- Sometimes the decisions are not taken by us, they are taken by the life and we left standing to see… Like pawns on the chess board… We go on to move but the move is followed by the life…

I- Do you think you will be able to move along with me after this turn of life? I’ve been kicked numerous times at every step. I was crushed in the rush of the world… My life is just a thirst, a yearning and nothing, what would I give you…?

She- It could also be that you get dissolve into me and I get dissolve into you and the existence of both could become a river for each other to quench the thirst both of us…

I- Two thirsty can raise each other’s thirst but cannot quench and two rivers cannot go with ever. One who is thirsty himself, how will his existence become the river for the other…?

She- Well! Since childhood, I am like a train on the track of world’s customs, which cannot be separated with it, even if I wish…

I- And … I am like an eagle used to fly in the open sky since childhood… Who keeps his eyes on his destination… But what is this? How the sea of tears in the eyes of a thirsty? Control them! Do not they shatter the dreams lay inside the heart…

She – What of the dreams! Dreams are not always true?

I – Life is not just desires to be completed, the thirst also…

She – Why are you so torturing yourself? Come out of the world of thoughts and philosophies, there is nothing but thirst and pain…

I – Nothing in my life if not the thirst… nothing if not yearning…

She – Then do you like to wander hither and thither like stray desires…?

I – probably … yes! Maybe … No! Cannot say, but life turned out so far only the deviation, nothing else…

She – So why not eliminate the deviation here…

I – How’s that…?

She – I assume you and you assume me our destination…

I – Perhaps I might be your destination…But my journey does not end up on you… Two companions together can never go to their destinations. We’ll have to walk alone… In fact the word ‘companion’ is wrong in the journey of life…One does not get the prop of any hands on falling there… When tired, defeated and shattered does not get anyone’s lap… Sun-scorched does not get someone’s scarf’s shadow… wobbled do not get embrace of anyone… there companion are – dusting, silence and loneliness… perhaps you cannot get anything else except despair from me… nothing… Oh! Sometimes I think that Why I am so selfish?

She – After all why are you rejecting me as a companion? Why do you think I am your path interruption? Maybe I should help you to reach the destination…

I – Believe on others is maneuver to self, It is deceit. Faith is blind. Believe on others is the root of all suffering. Confidence is an achievement but believe to others is feint… Now you think that your and my destination might be one but it is only the illusion of distance because the present is not always present, every day is to be turned into the yesterday… As we come closer to the destinations, destinations will become individual and then we have to be separate or to be deviate from our destination… I do not want you to leave your destination for the sake of me…  And I cannot leave my destination at any cost …

She – Then what will be the climax of the story?

I – The consequences, it can happen that we arrive to their destination and become one of those heights and maybe die down while trying on the way…

O.K. friend! Good Bye!

-24 July 2002

 

मैं और वो…
मैं- क्या तुम्हे लगता है कि ये फैसला तुमने ठीक लिया है? कभी कभी हम अपने फैसले जज़्बातों की रौ में आकर करते हैं और फिर पछताते रह जाते हैं।
वो- कभी-कभी फैसले हम नहीं करते, ज़िन्दगी करती है और हम खड़े देखते रह जाते हैं… शतरंज की बिसात पर मोहरों की तरह… हम चलते चले जाते है पर चाल ज़िंदगी की होती है…
मैं- क्या तुम्हे लगता है कि तुम जीवन के इस मोड़ पर आकर मेरे साथ-साथ चल सकोगे? मैं तो हर कदम पर कई बार ठुकराया गया हूँ। दुनिया की भीड़ में कुचला गया हूँ…मेरा जीवन सिर्फ प्यास ही प्यास है, तड़प ही तड़प है, और कुछ नहीं, मैं तुम्हे क्या दे पाउँगा…?
वो- ये भी तो हो सकता है कि तुम मुझमे समा जाओ और मैं तुममे समा जाऊं और दोनों का वजूद एक-दूसरे के लिए दरिया बन जाए और हम दोनों की प्यास बुझ जाए…
मैं- दो प्यासे एक-दूसरे की प्यास को बढ़ा तो सकते हैं मगर बुझा नहीं सकते और दो दरिया भी कभी एक साथ नहीं चल सकते। जो खुद प्यासा हो उसका वजूद क्या दूसरे के लिए दरिया बनेगा…?
वो- खैर! मैं तो शुरू से दुनिया के रिवाज़ों की पटरी पर रेल की तरह हूँ, जो चाहकर भी इससे जुदा नहीं हो सकती…
मैं- और मैं… बचपन से ही खुले आकाश में उड़ने का आदी एक (उकाब) बाज की तरह… जो अपनी नज़र केवल अपनी मंज़िल पर रखता है… पर ये क्या? एक प्यासे की आँखों में आंसुओं का समंदर कैसा? सम्भालो इन्हे! कहीं ये बिखरकर दिल में रखे सपनों को चूर-चूर न कर दें…
वो – सपनों का क्या! सपने हमेशा तो सच नहीं होते?
मैं – हाँ… ज़िन्दगी महज़ पूरी हो जाने वाली हसरतें ही नहीं, प्यास भी है…
वो – क्यूँ अपने आप को इतना तड़पाते हो? खयालों और फलसफों की दुनिया से बाहर आओ, इनमे प्यास और दुःख के सिवा कुछ भी नहीं…
मैं – अगर मेरी ज़िन्दगी में प्यास नहीं तो कुछ भी नहीं, तड़प नहीं तो कुछ भी नहीं…
वो – तो तुम्हे यूँ आवारा तमन्नाओं की तरह दरबदर भटकना क्या अच्छा लगता है…?
मैं – शायद… हाँ! शायद… नहीं! कुछ कह नहीं सकता, फिर भी ज़िंदगी अब तक तो भटकाव ही निकली…
वो – तो क्यूँ न इस भटकाव को यहीं ख़त्म कर दें…
मैं – वो कैसे…?
वो – मैं तुम्हें और तुम मुझे अपनी मंज़िल मानकर…
मैं – तुम्हारी मंज़िल शायद मैं हो जाऊं पर मेरा सफर तुम पर ख़त्म नहीं होता… दो हमसफ़र एक साथ चलकर कभी भी अपनी-अपनी मंज़िलें नहीं पा सकते… मंज़िल पाने के लिए हमें अकेले ही चलना पड़ेगा… हक़ीक़त में ‘हमसफ़र’ शब्द ही ज़िंदगी के सफर में गलत है…वहां गिरने पर किसी के हाथों का सहारा नहीं मिलता… थक-हारकर चूर हो जाने पर किसी की गोद नहीं मिलती… धूप में झुलसने पर किसी के दामन का साया नहीं मिलता… लड़खड़ाते हुओं को किसी का आग़ोश नहीं मिलता… वहां हमसफ़र होती हैं – ठोकरें, सन्नाटे और तन्हाई…शायद तुम्हे मेरे पास से निराशा के सिवा और कुछ नहीं मिल सकता… कुछ भी नहीं… ओह्ह! कभी-कभी लगता है कि मैं इतना स्वार्थी क्यों हूँ ?
वो – आखिर तुम्हे मुझे अपना हमसफ़र मानने से इंकार क्यों है? तुम ऐसा क्यों समझते हो कि मैं तुम्हारे रास्ते की रुकावट हूँ ? हो सकता है कि मैं ही तुम्हे मंज़िल तक पहुँचाने में मदद करूँ…
मैं – दूसरों पर विश्वास करना अपने आप से छल है, फरेब है। विश्वास अँधा है। दूसरों पर विश्वास ही तो सारे दुखों की जड़ है। आत्मविश्वास एक उपलब्धि है पर औरों पर विश्वास भुलावा है… अभी तुम्हे लगता है कि तुम्हारी और मेरी मंज़िल एक हो सकती है पर ये केवल दूरी का भ्रम है क्योंकि वर्तमान हमेशा वर्तमान नहीं रहता, हर आज को कल में बदल जाना होता है…जैसे-जैसे हम मंज़िल के करीब पहुंचेंगे, मंज़िलें अलग-अलग होती चली जाएंगी और हमें फिर या तो बिछड़ना होगा या भटकना पड़ेगा…पर मैं नहीं चाहता कि तुम मेरी खातिर अपनी मंज़िल छोड़ दो… और मैं तो अपनी मंज़िल किसी भी कीमत पर नहीं छोड़ सकता…
वो – तो फिर इस कहानी का अंजाम क्या होगा?
मैं – अंजाम, ये भी हो सकता है कि हम अपनी-अपनी मंज़िल तक पहुंच जाएं और उन ऊंचाइयों को छू कर एक हो जाएं और ये भी हो सकता है कि राह पर कोशिश करते- करते फ़ना हो जाएं…
अच्छा दोस्त! अलविदा!
-२४ जुलाई २००२

Mazes… (उलझने…)

Fireflies shone then it seemed that dawn is about to come…

But my luck had only a black dark night…

I thought I will solve the mazes…

But solving them I myself became a maze…

In the crevices of relationships even a wound was unable to fill and two-four new injuries were found…

Age was simply passed…

In counting and caressing the wounds…

Thought that maybe get a Messiah…

Who could ever understand my pain…

But the life does not only the desires to be completed…

There is a thirst too…

The storm of hates washed away everything…

Now I have nothing left…

The desire to give pleasure to others also brought the sea of sorrows…

No one has right on anything…

Leaf flying at the behest of winds knows that it has no right on the winds…

Still goes fighting with the winds…

-20 July 2002

उलझने…
जुगनू चमकते थे तो लगता था कि सहर होने वाली है…
पर अपनी किस्मत में तो काली अँधेरी रात ही थी…
सोचा कि उलझनों को सुलझा लूँगा…
पर इन्हे सुलझाते-सुलझाते खुद एक उलझन बन गया…
रिश्तों की दरारों में एक ज़ख्म भी भर नहीं पाता था की और दो चार नए ज़ख्म मिल जाते थे…
उम्र यूँ ही गुजरती जा रही थी…
ज़ख्मों को गिनने और सहलाने में…
सोचता था कि शायद कोई मसीहा मिल जाए…
जो कभी मेरे दर्द को समझ सके…
पर ज़िंदगी केवल पूरी हो जाने वाली हसरतें ही नहीं हुआ करती…
प्यास भी होती है…
नफरतों की आंधी हर शै बहा कर ले गई…
अब कुछ भी नहीं बचा मेरे पास…
दूसरों को ख़ुशी देने की तमन्ना भी ग़मों के समंदर ही लेकर आई…
किसी का भी किसी चीज़ पर अख्तियार नहीं…
हवाओं के इशारों पर उड़ता हुआ पत्ता जानता है कि उसका हवाओं पर कोई अख्तियार नहीं…
मगर फिर भी हवाओं से लड़ता चला जाता है…
-२० जुलाई २००२

Interlocution… (गुफ़्तग़ू…)

  • The loneliness of the night… the silence of the night… do not know what are saying… my own chanting voice is giving a rise to a new spiritual music…… wings of fantasies are flapping in the mind…
  • The loneliness of the night… the silence of the night… light is splitting the pitch darkness… darkness is gobbling up the light… light is shrinking in the darkness…
  • The loneliness of the night… the silence of the night… Innocent heart is again surrounding strange whims and slyness… In a moment heart says to cry, in other moment heart says to laugh… God knows… These are difficulties or the solutions…
  • The loneliness of the night… the silence of the night… Oops! Why you made these nights… Many embers of burning thoughts are falling into the lake heart-o-minded sputteringly… I’m extinguishing or going on burning…
  • The loneliness of the night… the silence of the night… Moon-stars make way… Caravan is moving on the black sky…
  • O companion… O moon … stop a while … Just take a rest… stop a little longer to talk with me… Or you also want to move forward leaving me behind like this world…
  • The loneliness of the night… the silence of the night… Again I am left alone. .. No, no … where alone! How many scattered memories’ crowd are standing with outstretched arms surrounding me… Again they are arranging their gathering… Look! Clarinet of memories started blowing again… but it’s their joy or grief…
  • Oops! What’s happening…? Is going to be morning again…? The world is going to wake up again…?  Has the moon and stars come to their destination…? Has the crowd of these memories gotten up to go…? The loneliness of the night… the silence of the night… Will all be over again…? Yes! Morning is occurring… Let’s now go for sleep…

-9 July 2002

 

The expectations and ambitions in excess of requirement cause our suffering.

-10 July 2002

गुफ़्तग़ू…

  • ये रात की तन्हाई… ये रात का सन्नाटा… न जाने क्या कह रहे हैं… अपनी ही गुनगुनाती आवाज़ एक नए आत्मिक संगीत को जन्म दे रही है… ज़हन में कल्पनाओं के पर फड़फड़ाने लगे हैं…
  • ये रात की तन्हाई… ये रात का सन्नाटा… रौशनी घुप्प अँधेरे को चीरती जा रही है… अँधेरा रौशनी को निगलता जा रहा है… रौशनी अँधेरे में सिमटती जा रही है…
  • ये रात की तन्हाई… ये रात का सन्नाटा… दिल-ऐ-नादाँ फिर से अजीब सी सनकों और फ़ितरतों से घिरने लगा है… कभी एक पल में इस पर रोने का जी करता है तो कभी एक पल में इस पर हंसने का जी करता है… वो ही जाने… ये मुश्किलें हैं कि हल…
  • ये रात की तन्हाई… ये रात का सन्नाटा… उफ़! तूने ये रातें क्यों बनाईं…खयालों के कई जलते हुए शोले भभकते हुए दिल-ओ-दिमाग की इस झील में गिरते जा रहे हैं…मैं बुझता जा रहा हूँ कि जलता चला जा रहा हूँ…
  • ये रात की तन्हाई… ये रात का सन्नाटा… चाँद-सितारों का सफर जारी है… काले आसमान पर कारवां चल रहा है…
  • ऐ हमसफ़र… ऐ चाँद… जरा देर तो रुक जा… जरा तो दम ले ले…जरा देर तो रुक कर मुझसे बातें कर ले… या तू भी दुनिया की तरह मुझे पीछे छोड़ कर आगे बढ़ जाना चाहता है…
  • ये रात की तन्हाई… ये रात का सन्नाटा… फिर से मैं अकेला रह गया हूँ… नहीं, नहीं… अकेला कहाँ कितनी बिखरी यादों के हूजूम बाँहें पसारे मुझको घेरे खड़े हैं… फिर से इनकी महफ़िल जम रही है… लो! फिर से यादों की शहनाई बजने लगी… पर ये इनकी खुशियां हैं या मातम…
  • उफ़! ये क्या हो रहा है…? क्या फिर से सवेरा होने वाला है…? क्या फिर से दुनिया जागने वाली है…? क्या चाँद तारों की मंज़िल आ पहुंची है…? क्या ये यादों के हूजूम उठकर जाने लगे है…? क्या फिर से खत्म हो जाएगा सब…? हाँ! सहर होने वाली है.. चलो अब सोया जाए…
    -९ जुलाई २००२

आवश्यकता से अधिक अपेक्षाएं और महत्वाकांक्षाएं ही हमारे दुखों का कारण बनती हैं।
-१० जुलाई २००२

Disillusionment… (मोहभंग…)

As the train of life was going to move forward…

The haze of pishogue of relationships was scattering…

Territories were passing one by one and the definitions of the relationships-kinships were solving…

The strings of emotions associated with each other’s hearts were involving and breaking due to the pull of selfishness…

And the question of self-existence was exposing ever and anon…

A dumb question echoing in the world of the forest of relationships-kinships…

As I was trying to drown myself, so the world was trying to drown in me…

And was screaming commotion in the sea of emotions deep inside me…

And was causing complications…

Perhaps these complications are the chapters of the book of my future…

-11 June 2002

 

मोहभंग…
जैसे-जैसे ज़िंदगी की रेल आगे बढ़ती चली जा रही थी…
रिश्तों के मोहजाल का कुहरा छंटता चला जा रहा था…
मक़ाम पर मक़ाम ग़ुजरते जा रहे थे और रिश्ते-नातों की परिभाषाएँ सुलझतीं जा रहीं थी…
एक-दूसरे के दिलों से जुड़े भावनाओं के तार स्वार्थ के खिंचाव के कारण उलझते और टूटते जा रहे थे…
और रह-रह के सामने आ रहा था स्वयं के वजूद का प्रश्न…
दुनिया के रिश्ते-नातों के जंगल में गूंजता एक मूक प्रश्न…
जैसे-जैसे मैं खुद में डूबने की कोशिश करता, वैसे-वैसे ये दुनिया मुझमे डूबने का प्रयत्न करती…
और मेरे अंदर की गहराइयों में भावनाओं के समुद्र में हलचल मचाती जाती…
और उलझने पैदा करती जाती…
पर शायद ये उलझने भी मेरे भविष्य की किताब के चेप्टर हैं…
-११ जून २००२

Beware! Probably you also have hidden a bomb inside… (सावधान ! शायद आपके अंदर भी छिपा है एक बम…)

A man is like an explosive bomb if he recognizes his ability hidden inside… There is the potential lie in a man alone that he can be upheaval cause in the world. The smallest part of the substance, a single nucleus has the potential to produce the panic in the entire world. The society is afraid of that explosion of the loneliness of a man, raises the tricks to eliminate that loneliness, sees a single man in enemy’s point of view, spreads hassle of navigating through rules, limitations and bonds around him so that his hidden powers may vanish in fighting and breaking the trap… As a hunter uses attractive fodder to capture or kill a dangerous prey, the same way the society uses a woman or a man as fodder to kill the invisible explosive powers of a man, adds a woman with single guy or adds a man a single woman and then begins impaction of the social sphere, regulations, bonds and limitations, which abuses the explosive ability of a person. That is why every single revolutionary, ascetic, scientific or bringer of a new consciousness has to break social circle first and have to come out of the social circle. Maybe, that’s why so much importance is given to celibacy in our spiritual philosophy.

-8 June 2002

सावधान ! शायद आपके अंदर भी छिपा है एक बम…
अकेला आदमी एक विस्फोटक बम की तरह होता है बशर्ते वह अपने अंदर छिपी हुई क्षमता को पहचान ले। एक अकेले आदमी में इतनी क्षमता छिपी होती है कि वह सारी दुनिया में उथल-पुथल मचा सकता है। पदार्थ के सबसे छोटे भाग एक अकेले नाभिक में इतनी क्षमता होती है कि वह सारी दुनिया में तहलका मचा सकता है। समाज आदमी के इसी अकेलेपन के विस्फोट से डरता है, इसी अकेलेपन को ख़त्म करने के लिए तरकीबें जुटाता रहता है, एक अकेले आदमी को दुश्मन के नज़रिये से देखता है, उसके चारों तरफ नियमों, सीमाओं और बंधनों के मकड़जाल फैलाता है ताकि उसमे छिपी हुई शक्तियां इसी जाल से लड़ने और इनको तोड़ने में उलझकर ख़त्म होती चली जाएँ। जिस तरह एक शिकार खतरनाक शिकार को पकड़ने या मारने के लिए आकर्षक चारे का उपयोग करता है यह समाज व्यक्ति की अदृश्य विस्फोटक शक्तियों को मारने के लिए स्त्री अथवा पुरुष का चारे के रूप में प्रयोग करता है, एक अकेले पुरुष के साथ एक स्त्री को जोड़ देता है या एक अकेली स्त्री के साथ एक पुरुष को जोड़ देता है और फिर शुरू हो जाता है सामाजिक दायरों, नियमों, बंधनों और सीमाओं का कसाव, जो व्यक्ति की विस्फोटक क्षमता का हनन करने लगता है। यही कारण है कि हर एक क्रन्तिकारी, सन्यासी, वैज्ञानिक या नई चेतना लाने वाले को पहले सामाजिक दायरे तोड़ने पड़ते हैं और सामाजिक दायरे से बाहर आना पड़ता है। शायद इसीलिए हमारे आध्यात्मिक दर्शन में ब्रह्मचर्य को इतना महत्त्व दिया गया है।
-८ जून २००२

Endless … non-stop…(अंतहीन…अविराम…)

Life is not just a tale full of suffering but a divine power too.

-2 In June 2002

Endless … non-stop…

While moving on the way of the life, suddenly it seemed…

As paths were ended abruptly and there is no way left to live…

I sat listless and tired as I lost…

But a voice came from an edge of my soul that the passer by vanish by walking on the paths but the path does not end…

This is confusion of your eyes…

It is a deception…

Come on! Go ahead…

Sitting tiresomely defeatedly is not your job…

Your job is to go forward to the last breath,

to move on…

And felt like someone held my hand and took me further…

And just a short walk on the path I could see clear…

The illusion of way to end was only a blind turning…

Yes! Only a blind turning…

Often we consider a turn as end of the path and left it and stand aside…

But life is not only painful sensations…

But a divine power also…

-7 June 2002

 

ज़िन्दगी सिर्फ दुखों से भरी दास्तान ही नहीं बल्कि एक दिव्य शक्ति भी है।
-२ जून २००२
अंतहीन…अविराम…
ज़िन्दगी की राह पर चलते-चलते अचानक यूँ लगा…
जैसे राहें अचानक ख़त्म हो गईं और जीने के लिए कोई राह नहीं बची…
मैं उदासीन होकर थक-हारकर बैठ गया…
पर मेरी आत्मा के किसी छोर से आवाज़ आई कि चलते-चलते राही ख़त्म हो जाते हैं
पर राहें ख़त्म नहीं होतीं…
ये तेरी नज़रों का धोखा है…
एक फरेब है…
चल! आगे बढ़…
थक-हार कर बैठ जाना तेरा काम नहीं…
तेरा काम है आखिरी सांस तक आगे बढ़ते जाना…
चलते जाना…
और जैसे कोई मेरा हाथ थामकर मुझे आगे ले जाने लगा…
और चंद कदमो पर ही चलकर मुझे रास्ता साफ़ नज़र आने लगा…
राह खत्म हो जाने का फरेब केवल एक अँधा मोड़ था…
हाँ! केवल एक अँधा मोड़…
अक्सर हम मोड़ को राह का खत्म समझ बैठते हैं और राह छोड़ कर खड़े हो जाते हैं…
पर जीवन केवल दुखद अनुभूतियाँ नहीं है…
बल्कि एक दिव्य शक्ति भी है…
-७ जून २००२

Secret … of the night…(राज़… रात का…)

He created two of everything…

Every coin has two sides created…

If shining sun is made so glowing moon is also created…

Ground is created so sky is also created…

Rivers are created so mountains are also created…

Lifeless stones created so man filled with feelings are also created…

Then he created two forms of the human spirit also…

One truth and goodness and second demonic evil…

He made a day to highlight righteousness and truth so made the night to hide the black sins in the soot of night…

The work which a person fears to do in daylight is made easily in the darkness of the night…

The sleeping devil inside him awakes in the darkness of night…

All those work which every human being have to do prowling at night and makes vulnerable a person, is a sin…

-17 May 2002

 

Altruistic do benevolence in every circumstance regardless of their praise or condemnation. Praise or condemnation does not affect their path of duty to charity because it is their nature. Their existence is made to charity. In the same manner as a fruitful tree gives fruit in every circumstance, whether seen in terms of love, caress with love or cast a stone.

-30 May 2002

 

राज़… रात का…
उसने हर चीज़ के दो रूप बनाए…
हर सिक्के के दो पहलू बनाए…
दहकता सूरज बनाया तो चमकता चाँद भी बनाया…
ज़मीन बनाई तो आसमान भी बनाया…
नदियां बनाई तो पहाड़ भी बनाए…
बेजान पत्थर बनाए तो जज़्बातों से सराबोर इंसान भी बनाए…
फिर उसने इंसानी फितरत के भी दो रुप बनाए…
एक तो सच्चाई और भलाई का और दूसरा शैतानी बुराई का…
उसने दिन बनाए नेकी और सच्चाई को उभारने के लिए तो रातें बनाईं काले गुनाहों को रात की कालिख में छिपाने के लिए…
हर वो काम जो इंसान दिन के उजाले में करने से डरता है, रात के अँधेरे में आसानी से कर जाता है…
रात के अँधेरे में उसके अंदर सोया हुआ शैतान जाग जाता है…
हर वो काम जो इंसान को रात के अँधेरे में छिपकर करना पड़े और इंसान को कमजोर बनाए, गुनाह है…
-१७ मई २००२
परोपकारी हर परिस्थिति में परोपकार ही करते हैं चाहे कोई उनकी प्रशंसा करे चाहे बुराई। प्रशंसा या निंदा उनके कर्तव्य पथ को प्रभावित नहीं करती क्योंकि उनकी प्रकृति ही परोपकार करने की होती हैं। उनका अस्तित्व ही परोपकार करने के लिए बना होता है। ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार की एक फलदायी पेड़ हर परिस्थिति में फल देता है, चाहे कोई उसे प्रेम भरी दृष्टि से देखे, प्यार से सहलाए या उसे पत्थर मारे।
-३० मई २००२