Monthly Archives: January 2016

Discovery of the truth … 5 (सत्य की खोज…5)

Adventure of the Truth…

Discovery of the truth … 5

Knowledge realizes the pain.

-7: 15 a.m.

Knowledge increases responsibility and seizes happiness because happiness is relative, happiness is transient and happiness is falsehood. Due to ignorance it is also not known to us that on what we should be sad and at what we should be happy. Just as we cry, moan or rush of fear, tend to migrate in a tragic horrible scene of a dream but after waking up at the same point we laugh at our lack of perception of the knowledge that scene of the dream was virtual, was false, not true.

-8: 10 a.m.

Now all the tastes, all the senses, all the colors and enjoy does not produce the pleasures for me but has become a mere instrument to run the body.

-8: 15 a.m.

My confidence has increased.

-9: 15 a.m.

A strange pain, strange motivation and a strange hangover have overlapped together in my inner world.

-9: 40 a.m.

There is a space only for experiences in search of truth, not for prospects.

Terms are limitations and truth cannot be found binding in boundaries so encroach your inner world.

-10: 50 a.m.

My hands are shaking. I’m experiencing a bizarre little lassitude. I am experiencing that all my strength is losing. Is this weakness of my mind or is a play of any third power. No, but my heart has become even more powerful. The reason of physical infirmity is not my mind but something else.

-11: 43 a.m.

Books works as ladder in the path our growth, brings us closer to success, but not to the success, these offers only way, we ourselves have to walk to achieve success. After reaching the top for us they are not worth anymore for us, Further up the ladder are our experience. It can only arise the thirst, cannot be the water to quench our thirst. Only our own knowledge can become nectar for our thirst. But this does not diminish the usefulness of books. Whose spiritual thirst is not awoke, for them they are very important.                                                                                                                                                           -11: 55 a.m.

Where have I lost? Only the sensation of hunger and thirst realize me myself and I lose myself again in my anguish.

-12: 10 p.m.

I heard that if the anguish becomes unbearable then the difference of body and anguish disappears, anguish becomes overall existence. I am experiencing that today.

-12: 20 p.m.

The attraction of nudity is not in nudity but to expose naked. Attraction is not in the scene but is in the action which cannot do physically and then we do mentally. Nudity is not in the scene but a mental act, a prohibitive process of the mind, which gives us the sensation of momentary flutter of joy.

-12: 30 p.m.

On looking closely at nudity it discloses the truth because the truth is also naked. It is false which requires the wearing of the hypocrisy, not the truth.

-12: 45 p.m.

Lest my search for the truth becomes only the game of intellect and skills so I have to keep my heart open.

-12: 50 p.m.

Truth will change your attraction even in distaste so do not be upset because knowledge of the truth gives rise to distaste to, because the thing that we already know or attain then our further interest towards it ends so knowledge and confusion can only be of interest, not the truth.

Truth is strength and nothing.

I did not know the absolute truth, and does not claim that I will know, but come to know some of the different aspects of life, so do not arise the question that how I’m explaining the truth while not knowing the truth. Do not make this mistake, because the truth cannot be explained, only can be realized. The truth about which I’m saying in-between, these are not the absolute-truth but the highlights of the truth perceived from afar, which I am trying to show you guys. The journey will be boring without them, so you see them and understand them, and this time I am nothing more than a traveler.

Claims are dangerous, they often prove false and the person resort to lies to prove them truth hence there is no place of claims and possibilities in the search of the truth. My search of the truth is fast unto death.

-1: 15 p.m.

 

Even on seeing the sufferings to disregard them, to flee from them or not to accept them is ignorance but to create suffering deliberately and to hug them is stupidity.

-1:25 p.m.

We have too heard the word of men, proverbs, thoughts. These are just a pile of dead words; these are only death bodies of thoughts. The soul have fled from them, now they are useless to us, we should not make disaster to get the sense from them. Now is the time that we listen to the voice of our soul.

-2: 45 p.m.

Do not disrespect me assuming me a saint or a religious preacher, because I do not want to put any principle before you. All the principles are ready-made rules. Principles are not eternal, these are circumstantial. As they produced, in the same way die. So please do not tag me a saints or religious leader. I’m only the traveler of the way of the truth and nothing.

-3: 00 p.m.

I was on my way, on my bicycle, lost in my tune. A fast moving ball came towards me, hit my head and fell down. Some of the kids playing there came to me and said – ‘Please forgive uncle, it was by mistake, it is not our fault.’ I said – ‘No son! How it could be your fault, to play in the street is the habit of the children and habit or nature is not considered anyone’s fault. The fault is of the ball which crashed accidentally to my head, it should say sorry.’ After a while, I thought something then said – ‘What mistake but that poor ball, the way it was being, I come in his way, so I should say sorry – “O Ball! forgive me. “…” and children went laughingly. Perhaps assuming me a mad…

-6: 35 p.m.

‘I have dipped into the cauldron of boiling oil by stepping on the path of the truth’ I cannot express my anguish and distraction in other words.

– 9: 40 p.m.

(अंतर्यात्रा)
सत्य की खोज…5

ज्ञान दुख का बोध कराता है।
-७:१५ a.m.

ज्ञान उत्तरदायित्व बढ़ाता है तथा खुशियां छीन लेता है क्योंकि हर ख़ुशी सापेक्षिक होती है, क्षणिक होती है, झूठी होती है। अज्ञानता के कारन हमें ये भी ज्ञात नहीं होता कि हमें किस बात पर दुखी होना चाहिए और किस बात पर खुश। ठीक वैसे ही जैसे हम सपने में किसी दुखद भयानक दृश्य पर रोते हैं, विलाप करते हैं या किसी भय से भागते हैं, पलायन करते हैं पर जागने के बाद उसी बात पर हँसते हैं, अपने ज्ञान के बोध के अभाव पर हँसते हैं कि सपने का दृश्य आभासी था, झूठा था, सत्य नहीं।
-८:१० a.m.

अब मेरे लिए सारे स्वाद, सारे रस, सारे रंग और भोग आनंद उत्पन्न नहीं करते बल्कि शरीर को चलाने के साधन मात्र बनकर रह गए हैं।
-८:१५ a.m.

मेरा आत्मविश्वास बढ़ गया है।
-९:०५ a.m.

एक अजीब सा दर्द, अजीब सी प्रेरणा और अजीब सी खुमारी एक साथ छाए हुए हैं मेरे अंतर्जगत में।
-९:४० a.m.

सत्य की खोज में अनुभवों का स्थान है, संभावनाओं का नहीं।
नियम सीमाएं हैं और सीमाओं में बंधकर सत्य को नहीं पाया जा सकता अतः अतिक्रमण करो अपने अंतर्जगत का।
-१०:५० a.m.

मेरे हाथ काँप रहे हैं। मैं एक विचित्र सी शिथिलता का अनुभव कर रहा हूँ। मैं अनुभव कर रहा हूँ कि मेरी सारी शक्ति का हास होता जा रहा है। कहीं ये मेरे मन की दुर्बलता तो नहीं या फिर ये दुर्बलता किसी तीसरी शक्ति का खेल है। नहीं, पर मेरा मन तो पहले से भी अधिक बलशाली हो गया है। इस शारीरिक दुर्बलता का कारण मेरा मन नहीं कुछ और ही है।
-११:४३ a.m.

किताबें हमारे प्रगतिपथ में सीढ़ी का काम करती हैं, हमें सफलता के करीब पहुंचाती हैं लेकिन सफलता तक नहीं, ये केवल रास्ता बनाती हैं, सफलता को हासिल करने के लिए चलना तो हमें स्वयं को ही पड़ेगा। ऊपर पहुँच जाने के बाद हमारे लिए इनका कोई महत्त्व नहीं रह जाता, आगे की सीढ़ी हमारे अनुभव होते हैं। ये तो केवल प्यास जगा सकती हैं, हमारी प्यास को बुझाने के लिए पानी नहीं बन सकतीं। हमारा स्वयं का ज्ञान ही हमारी प्यास के लिए अमृत बन सकता है। परन्तु इससे किताबों की उपयोगिता कम नहीं हो जाती। जिनकी आत्मिक प्यास न जागी हो, उनके लिए ये अतिमत्त्वपूर्ण हैं।
-११:५५ a.m.

मैं कहाँ खो गया? केवल भूख और प्यास की अनुभूति ही मुझे मेरा आभास कराती है और मैं फिर खो जाता हूँ अपनी वेदना में।
-१२:१० p.m.

सुना था कि जब वेदना असह्य हो जाती है तो वेदना और शरीर का अंतर मिट जाता है, वेदना ही समग्र अस्तित्व हो जाती है। आज अनुभव कर रहा हूँ।
-१२:२० p.m.

नग्नता का आकर्षण नग्नता में नहीं बल्कि उघाड़कर नग्न करने में है। आकर्षण दृश्य में नहीं बल्कि उस क्रिया में है जो हम शारीरिक रूप से न कर पाने पर मानसिक रूप से करते हैं। नग्नता दृश्य नहीं बल्कि मानसिक कृत्य है, निषेधात्मक प्रक्रिया है मन की, जो हमें क्षणिक आनंद के स्फुरण की अनुभूति देता है।
-१२:३० p.m.

नग्नता को ध्यान से देखने पर नग्नता सत्य का प्रकटीकरण करती है क्योंकि सत्य भी नग्न ही होता है। असत्य को ही आडम्बरों के कपडे पहनने की आवश्यकता होती है, सत्य को नहीं।
-१२:४५ p.m.

कहीं मेरी ये सत्य की खोज केवल बुद्धि और कौशल का खेल ही न बन के रह जाए अतः अपने ह्रदय को भी खोल कर रखना होगा।
-१२:५० p.m.

सत्य आपके आकर्षण को अरुचि में ही बदलेगा अतः विचलित न हों, सत्य का ज्ञान अरुचि को ही जन्म देता है क्योंकि जिस चीज को हम जान लेते हैं या पा लेते हैं फिर उसके प्रति आगे हमारी रूचि ख़त्म हो जाती है अतः ज्ञान तथा भ्रम ही रुचिकर हो सकते हैं, सत्य नहीं।
सत्य एक शक्ति है और कुछ नहीं।
मैं पूर्णतः परम सत्य को नहीं जान पाया हूँ, और न ही दावा करता हूँ कि जान लूँगा पर जीवन के सत्य के कुछ विभिन्न पहलुओं को जान गया हूँ अतः ये प्रश्न न उठाएं की सत्य को न जानते हुए भी मैं उसे कैसे समझा रहा हूँ, ये गलती न करें क्योंकि सत्य को समझाया नहीं जा सकता, सिर्फ अनुभूत किया जा सकता है। जिस सत्य के बारे में मैं बीच-बीच में कह रहा हूँ, ये वह परम-सत्य नहीं बल्कि दूर से अनुभूत होने वाली उस सत्य की झलकियाँ हैं, जो मैं आप लोगों को दिखने की च्येष्टा कर रहा हूँ। इनके बिना हमारी ये यात्रा नीरस हो जाएगी अतः इन्हे आप भी देखें और समझें, इस समय मैं एक पथिक से बढ़कर और कुछ नहीं। दावे खतरनाक होते हैं, ये अक्सर झूठे साबित होते हैं और इन्हे सत्य सिद्ध करने के लिए व्यक्ति झूठ का सहारा लेने लगता है अतः सत्य की खोज में दावों और संभावनाओं का कोई स्थान नहीं। सत्य की खोज मेरा आमरण व्रत है।
-१:१५ p.m.

दुखों को देखते हुए भी उनसे मुँह फेर लेना, पलायन करना, उन्हें स्वीकार न करना नादानी है परन्तु जानबूझ कर दुखों को उत्पन्न करना और उन्हें गले लगाना मूर्खता।
-१:२५ p.m.
बहुत सुन चुके हम महापुरुषों के वचन, सूक्तियाँ, विचार। ये मात्र मृत शब्दों के ढेर हैं, ये केवल शव हैं विचारों के। इनसे प्राण पलायन कर चुके हैं, अब ये हमारे लिए निरर्थक हैं, इनसे अर्थ निकालने में हम अर्थ का अनर्थ न करें। अब समय आ गया है कि हम अपनी आत्मा की आवाज सुनें।
-२:४५ p.m.
मुझे साधु-संत या धर्मगुरु समझ कर मेरा अनादर न करें, मैं आपके सामने कोई सिद्धांत नहीं रखना चाहता क्योंकि सिद्धांत बंधे-बंधाए नियम होते हैं। सिद्धांत शाश्वत भी नहीं हैं, परिस्थितिजन्य हैं। ये जिस तरह उत्पन्न होते हैं उसी तरह मर भी जाते हैं अतः कृपा कर मुझ पर साधू-संत या धर्मगुरु का ठप्पा न लगाएं। मैं तो केवल सत्य के मार्ग का पथिक हूँ और कुछ भी नहीं।
-३:०० p.m.
मैं अपने रास्ते पर जा रहा था, अपनी साइकिल पर, अपनी धुन में खोया हुआ। तेजी से सनसनाती हुई एक गेंद आई और मेरे सर से टकराती हुई नीचे गिर पड़ी। वहां खेल रहे बच्चों में से कुछ बच्चे आए और बोले -‘माफ़ कर दीजिये अंकल, गेंद धोखे से आकर आपको लगी, इसमें हमारी कोई गलती नहीं है।’ मैंने कहा – ‘नहीं बेटा! ये तुम्हारी गलती हो भी कैसे सकती है, बच्चों की तो आदत ही है गली में खेलना और किसी की आदत या स्वभाव को उसकी गलती नहीं माना जाता। गलती तो उस गेंद की है जो आकर मेरे सर से टकराई, माफ़ी तो उसे मांगनी चाहिए।’ थोड़ी देर रुक कर कुछ सोचकर मैं फिर बोला – ‘पर उस बेचारी गेंद की भी क्या गलती, वो तो जा रही थी अपने रास्ते, मैं ही आ गया उसके रास्ते में, तो माफ़ी तो मुझे मांगनी चाहिए – ” ऐ गेंद! मुझे माफ़ कर दो। “…’ और बच्चे हँसते हुए चले गए। शायद मुझे पागल समझ कर।
-६:३५ p.m.

‘मैंने इस मार्ग पर कदम रख कर तेल के खौलते कड़ाहे में डुबकी लगाईं है’ अपनी वेदना और उद्विग्नता को मैं और किसी शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकता।

-९:४० p.m.

Discovery of the truth … 4 (सत्य की खोज…4)

Adventure of the Truth…

Discovery of the truth … 4

We get clothes of words from books to enhance and decorate our ideas. But keep in mind that these clothes should not be worn clothes of others. Lest others thoughts should become your thoughts. lest the originality of your ideas should be end. Your thoughts should be your own experiences, not someone else’s.

-8: 05 p.m.

I have to find the definition of happiness once again because so far, which was pleasure for me now it’s a lie, a delusion to me. By now I was living in illusion, considering truth to lie, but now the old joy is like a sweet of a child’s dreams for me, meaningless, useless because I’ve woken up from the illusion. My dream has broken.

Confusion is always pleasant because it is consistent with our imagination, but reality does not suit us, but it happens as it to be, that’s why the truth is not pleasant.

It is simple to live assuming truth a delusion but a truth cannot be assumed an illusion.

-8: 45 p.m.

To lose is an illusion to achieve is the true.

Where I turned out in search of the truth and where the reality has become the dream.

-9: 30 a.m.

Much of the scriptures of all religions are fictional, based on imagination because without the imagination beauty cannot come in the creation therefore creators relied on the fantasies to create them. The criterion of a literature to be popular is describing a surprise or curiosity in it, which is unthinkable, unimaginable, only then literature becomes funny, exciting and popular. Monotonous truth can never be popular because people do not want to get the truth but joy therefore in the scriptures of all the religions such spice of events of awe and amazement is poured. These exaggerations are either cast to make them thrilling or to put any argument or fact in symbolic form. It has secured their popularity and faith. But these exaggerations made disadvantage than advantage to the people. The biggest disadvantage is that they get entangled in these exaggerations and now do not want to know the truth; the truth has become inadmissible for the people.

-10: 30 a.m.

Life is nothing more than a drama, but at whom direction it is happening?

Do you want to get the absolute truth? Want to know the truth? Then know that the truth is only a question and you have to find its answer yourself. And any other’s answer is useless for you.

To break false hopes sooner, the better.

-11: 10 a.m.

Woman in man’s spiritual progress is hampered, but it’s not the woman’s fault but the fault of the man that he slips unruly. Even speed breakers are made to control the speed.

-11: 30 a.m.

The world assumed my disqualification to be my ability, no wonder, but what a wonder the world is assuming my ability to my ineptitude.

-11: 50 p.m.

(अंतर्यात्रा)
सत्य की खोज…4

किताबों से हमें हमारे विचारों को सजाने संवारने के लिए शब्दों के कपडे मिलते हैं पर ध्यान रहे, ये कपडे किसी की उतरन न हों। कहीं दूसरों के विचार ही आपके अपने विचार न बन जाएं, कहीं आपके विचारों की मौलिकता ख़त्म न हो जाए। आपके विचार आपके स्वयं के अनुभव हों, किसी और के नहीं।
-८:०५ a.m.

मुझे सुख की परिभाषा एक बार फिर ढूंढनी होगी क्योंकि अब तक जो मेरे लिए सुख था अब वह मेरे लिए झूठ है, भ्रम है। अब तक मैं भ्रम में जी रहा था, झूठ को सच समझकर, परन्तु अब मेरे लिए पुरानी खुशियां किसी बच्चे की सपने की मिठाई की तरह निरर्थक हैं, बेकार हैं क्योंकि मैं भ्रम से जाग चुका हूँ। मेरा सपना टूट चुका है।
भ्रम सदैव सुखद होता है क्योंकि हमारी कल्पना के अनुरूप होता है परन्तु सत्य हमारे अनुरूप नहीं होता बल्कि उसे जैसा होना होता है, वैसा ही होता है इसलिए सत्य सुखद नहीं होता।
किसी भ्रम को सत्य मानकर जीना सरल है परन्तु किसी सत्य को भ्रम नहीं माना जा सकता।
-८:४५ a.m.

खोना भ्रम है पाना सत्य।
कहाँ तो मैं निकला था सत्य की खोज में और कहाँ वास्तविकता ही स्वप्न बनकर रह गई।
-९:३० a.m.

सभी धर्मों के धर्मग्रंथों का अधिकांश भाग काल्पनिक है, कल्पना पर आधारित है क्योंकि कल्पनाशीलता के बिना सृजन में सुंदरता नहीं आ सकती इसलिए इनके रचयिताओं ने इन्हे रचने के लिए कल्पनाओं का आश्रय लिया। साहित्य के लोकप्रिय होने की कसौटी है, उसमे किसी अचम्भे या कुतूहल का वर्णन, जो कल्पनातीत हो, कल्पना से परे हो, तभी साहित्य मजेदार, रोमांचक और लोकप्रिय बनता है। नीरस सत्य कभी भी लोकप्रिय नहीं हो सकता क्योंकि लोग सत्य नहीं आनंद पाना चाहते हैं इसलिए सभी धर्मों के धर्मग्रंथों में इस तरह के विस्मय और अचम्भों वाली घटनाओं का मसाला, ये अतिशयोक्तियां या तो इन्हे रोमांचकारी बनाने के लिए डाली गई या प्रतीकात्मक रूप में किसी तर्क अथवा तथ्य को रखने के लिए। इससे इनकी लोकप्रियता और आस्था सुरक्षित हो गई। पर इन अतिशयोक्तियों से लोगों का लाभ कम, नुकसान अधिक हुआ है। सबसे बड़ा नुकसान यही है कि लोग इन्ही में उलझ कर रह गए और अब सत्य को जानना ही नहीं चाहते, सत्य इन लोगों के लिए अग्राह्य हो चुका है।
-१०:३० a.m.

जीवन एक नाटक से बढ़कर कुछ नहीं, लेकिन ये किसके इशारे पर हो रहा है?

क्या आप परमसत्य को पाना चाहते हैं? सत्य को जानना चाहते हैं? तो जान लें कि सत्य केवल एक प्रश्न है जिसका उत्तर आपको स्वयं ढूंढना है। किसी और का उत्तर आपके किसी काम का नहीं।

झूठी आशाएं जितनी जल्दी टूट जाएं, उतना अच्छा।
-११:१० a.m.

नारी पुरुष की आत्मिक प्रगति में बाधक है, लेकिन ये नारी का दोष नहीं बल्कि उस पुरुष का दोष है कि वह अनियंत्रित होकर फिसल जाता है। गति अवरोधक तो गति को नियंत्रित करने के लिए बनाए जाते हैं।
-११:३० a.m.

दुनिया ने मेरी योग्यता को मेरी अयोग्यता माना, कोई आश्चर्य नहीं, पर घोर आश्चर्य कि दुनिया मेरी अयोग्यता को मेरी योग्यता मान रही है।
-११:५० p.m

Discovery of the truth … 3 (सत्य की खोज…3)

Adventure of the Truth…

Discovery of the truth … 3

November 17, 2008, Monday

Scholars, wise men say that God is in every particle of creation. How should I see the God in bestial predators?  If every person is God, then how God can be so savage, so predator? How God can be so evil? How can he do so evil actions? And if he can do then he is not God?

-9: 05 p.m.

The whole world seems an Illusion, just like watching a 3-D movie. I am experiencing a bizarre inner consciousness, which is making me to feel an external unconsciousness. The inner noise is increasing so much that outer noise is getting disappears. And now my own existence seems like an automatic robot. Sometimes old rites attract me like dark spots but my inner consciousness has kept hold of me.

-10:12 a.m.

Mind wants solitude, it bothers on meeting others. It is getting intolerable and ponderous on meeting others. Sometimes internal consciousness and external consciousness hurl the mind like volleyball from one side to the other.

A man is sitting here, a man who is wandering freely there in the whole universe. These two men are two parts of my own existence.

What could do a helpless creature besides cry and moan in pain? But I am not helpless poor.

-10: 15 a.m.

What happens by changing clothing? I will remain the same what I am from inside. I want to know my ‘I’. I do not want to tag label of anyone other on myself.

I think, now I do not need books.

-10: 50 a.m.

When an infant cries in hunger, some attractive toys may attracts its attention for a while but after some time distraction of hunger attracts infant’s attention towards it againsame way attraction of the world pulls my attention for a while but distraction of hunger of my soul start pulling my mind again towards it.

-11: 20 a.m.

Why this sadness, the severity and the monotony? Why not the joy and enthusiasm?

No-no! The enthusiasm is lie for me, its deceit for me and what is the work of them in the discovery of truth? Strangeness can produce surprise, mystery and solemnity only. Enthusiasm arises when the results are according to our choice. Immense-infinity can cause only mystery, not exaltation and enthusiasm. These words are lie to me and lie is like poison to me.

-12: 20 p.m.

The lust within me has transformed into knowledge. I am getting sex neutral. Perhaps after the prevail velocity of sex, I have got the state of true stoicism.

-12: 31 p.m.

When a child grows older then he does not need those toys with which he played in his childhood and he throws them aside. The same way, the person inspired to the true religion does not need idolatry rituals and pomp any longer. In this situation he should leave these things.

-12: 45 p.m.

(अंतर्यात्रा)
सत्य की खोज…3
१७ नवंबर २००३, सोमवार
विद्वजन, ज्ञानी पुरुष कहते हैं कि ईश्वर सृष्टि के कण-कण में है। मैं वहशी दरिंदों में ईश्वर को कैसे देखूं? पापी, दुराचारियों में ईश्वर को कैसे देखूं? यदि हर व्यक्ति में ईश्वर है तो फिर ईश्वर इतना वहशी, इतना दरिंदा कैसे हो सकता है? वह इतने बुरे कर्म कैसे कर सकता है? और अगर कर सकता है तो फिर वह ईश्वर ही नहीं?
-९:०५ p.m.

सारा संसार केवल एक भ्रमजाल नजर आ रहा है, ठीक वैसे ही, जैसे कोई एक ३-डी फिल्म देख रहा हो। एक विचित्र सी आतंरिक चेतना का अनुभव हो रहा है, जो बाह्य अचेतनता का अनुभव करा रही है। अंदर का कोलाहल इतना बढ़ता जा रहा है कि बाहर का कोलाहल मिटता जा रहा है। और अब स्वयं का अस्तित्व एक स्वचालित यंत्र मानव सा जान पड़ रहा है। कभी-कभी पुराने संस्कार गहरे काले धब्बों की तरह अपनी ओर आकर्षित करते हैं पर मेरी आंतरिक चेतना ने मुझे जकड़ रखा है।
-१०:१२ a.m.

मन एकांत चाहता है, दूसरों से मिलने पर खीझता है। दूसरों से मिलना असहनीय, कष्टकारक होता जा रहा है। कभी-कभी आतंरिक चेतना और बाह्य चेतना मन को बॉलीबॉल की गेंद की तरह एक पाले से दूसरे पाले में उछलती है।
एक आदमी जो यहाँ बैठा है, एक आदमी जो वहां सारे ब्रह्माण्ड में स्वतंत्रता पूर्वक विचरण कर रहा है। ये दोनों आदमी मेरे ही अस्तित्व के दो हिस्से हैं।
असमर्थ प्राणी दुःख में रुदन और विलाप के अलावा और कर भी क्या सकता है? पर मैं असमर्थ नहीं।
-१०:१५ a.m.

चोला बदलने से क्या होता है? रहूँगा तो मैं वही, जो मैं अंदर से हूँ। मैं अपने ‘मैं’ को जानना चाहता हूँ। मैं अपने ऊपर किसी और का लेबल लगाना नहीं चाहता।
मैं समझता हूँ अब मुझे किताबों की जरूरत नहीं।
-१०:५० a.m.

जैसे किसी भूख से बिलखते, अबोध बालक का ध्यान थोड़ी देर को आकर्षक खिलौनों पर ठहर जाता है, पर थोड़ी देर बाद उसी भूख की व्याकुलता उसका ध्यान फिर से अपनी तरफ खींच लेती है, उसी तरह मेरा ध्यान भी थोड़ी देर को संसार में आ फंसता है पर मेरी आत्मा की भूख की व्याकुलता मेरा ध्यान फिर से अपनी और खींच लेती है।
-११:२० a.m.

ये उदासी ये, गंभीरता और ये नीरसता क्यों? उमंग और उत्साह क्यों नहीं?
नहीं-नहीं! उमंग और उत्साह मेरे लिए झूठ हैं, फरेब हैं और सत्य की खोज में इनका क्या काम? विचित्रता आश्चर्य, रहस्य और गंभीरता ही उत्पन्न कर सकती है। उमंग और उत्साह तो वहां उत्पन्न होता है जहाँ परिणाम मनोनुकूल होते हैं। असीम-अपरिमित रहस्य ही पैदा कर सकता है, उमंग और उत्साह नहीं। ये शब्द मेरे लिए झूठ हैं और झूठ मेरे लिए विष के समान है।
-१२:२० p.m.

मेरे भीतर की वासना रूपांतरित हो चली है ज्ञान में। मैं विरक्त होता जा रहा हूँ काम से। शायद मैं काम के प्रबल वेग के बाद यथार्थ वैराग्य की स्थिति पा गया।
-१२:३१ p.m.

एक बच्चा जब बड़ा हो जाता है तब उसे उन खिलौनों की आवश्यकता नहीं रह जाती जिनसे वह अपने बचपन में खेला है और वह उन खिलौनों को एक किनारे फेंक देता है। ठीक वैसे ही सच्चे धर्म की और प्रेरित होने पर व्यक्ति को मूर्तिपूजा, कर्मकांडों और आडम्बरों की आवश्यकता नहीं रह जाती। इस स्थिति में उसे इन चीजों को छोड़ देना चाहिए।
-१२:४५ p.m.

Discovery of truth … 2(सत्य की खोज…२ )

Adventure of the Truth…

Discovery of truth … 2

November 26, 2008, Sunday

Now, I have two questions before me-

  1. If God exists, why the creation of so called God, the world is so deformed? Why the world is full of sin, injustice, oppression, deceit, guile and rapes? Why the pain is more than the pleasure in the world? Why the so called God is so helpless and poor that he is unable to keep his creation dubbed with the pleasures and virtues? Why the God is so helpless that his creation could not overcome these evils? And if he is so helpless and poor then will he be God?
  2. If we suppose, God doesn’t exist, how the conduction of such a large creation is going on? How all the creation is running a law-abiding? And more importantly, how such a fantastic creation was created? How did it originate and where did it begin from?

Scholars say that God is latent, God is formless, infinite then how did they get him? They also tell that God is a mystery, even after knowing the God the knower cannot express the God in any way.

Then why so many discourses are there to express the latent? Why so many speeches? Why so many books? Why so many claims? Why so many argue and fight?

-9: 45 p.m.

My head is spinning. I feel like I will go mad. So much deviation, such a disturbance I have never experienced before. The more peaceful I am getting from outside, the more I am becoming turbulent from the inside. I am listening to the noise of my heart, just like someone hears the waves by sitting ashore the sea. The echo of the questions wants to come out tearing the walls of my brain. Since I have denied the power of God, since then there is no other concept except God in my mind. Is this the charm of prohibition or a supernatural power which is literally pulling me in the same direction?

Since I have refused the existence of God, since then why my inner world and outer world has so changed? It seems that I’m unfamiliar to myself, because he, who was living inside me till now, is dead and a new person has born in its place. My vision is giving a different color to the world. Who knows, whether this is a realization of strength, or realization of lack of strength? Whatever the outcome, I have to make the path of truth; I have to discover the truth, beyond all stereotypes and superstitions and this is the extreme goal of my life.

-10: 42 p.m.

My heart cries out, why people laugh at others’ weaknesses, ignorance, ineptitude, incompetence.

-10: 58 p.m.

Today, I felt myself so alone in this world, like I’m not passing through the world but going through a forest. Like walking men are not men but trees in the forest.

-11: 52 p.m.

सत्य की खोज…२
१६ नवंबर २००३, रविवार
मेरे सामने अभी दो प्रश्न हैं –
१. यदि ईश्वर है, तो उसकी सृष्टि, संसार इतना विकृत क्यों है? संसार में इतने पाप, अन्याय, अत्याचार, फरेब, मक्कारी और बलात्कार क्यों है? सुख से ज्यादा दुःख क्यों है? वह इतना बेबस और लाचार क्यों है कि अपनी सृष्टि को सुखों और अच्छाइयों से सजा-संवारकर नहीं रख सकता। वह इतना बेबस क्यों है कि अपनी सृष्टि से इन बुराइयों को दूर नहीं कर सकता? और यदि वह इतना बेबस और लचर है तो वह ईश्वर ही क्या?
२. यदि ईश्वर नहीं है तो इतनी बड़ी सृष्टि का संचालन कैसे हो रहा है? कैसे एक नियम में आबद्ध होकर सारी सृष्टि चल रही है? और उससे भी बड़ी बात कि इतनी अद्भुद सृष्टि का निर्माण कैसे हुआ? उसकी शुरुवात कैसे और कहाँ से हुई?
विद्व-जन कहते हैं कि ईश्वर अव्यक्त है, निराकार है, असीम है तो फिर उन्होंने इसका साक्षात्कार कैसे कर लिया? वे यह भी कहते हैं कि ईश्वर एक रहस्य है जिसे जानने के बाद जानने वाला उसे किसी तरह भी व्यक्त नहीं कर सकता। फिर उस अव्यक्त को व्यक्त करने के लिए इतने प्रवचन क्यों? इतने भाषण क्यों? इतनी किताबें क्यों? इतने दावे क्यों? इतने झगडे क्यों?
-९:४५ p.m.
मेरा दिमाग चकरा रहा है। मुझे लगता है, मैं पागल हो जाऊंगा। इतना विचलन, इतनी अशांति मैंने पहले कभी अनुभव नहीं की। मैं बाहर से जितना शांत होता जा रहा हूँ, अंदर से उतना ही अशांत होता जा रहा हूँ। मैं अपने अंदर के कोलाहल को ठीक उसी तरह सुन रहा हूँ जैसे समुद्र के किनारे बैठा कोई व्यक्ति उसकी लहरों के उफान को सुनता है। प्रश्नो की अनुगूंज मस्तिष्क की दीवारों को फाड़कर बाहर आना चाहती है। जबसे मैंने ईश्वर की सत्ता को अस्वीकार किया है, तबसे मेरे मस्तिष्क में उस ईश्वर के अलावा और कोई विचार नहीं आया। ये निषेध का आकर्षण है या सचमुच ही कोई अलौकिक शक्ति है जो मुझे एक ही दिशा में खींचे जा रही है? जबसे मैंने ईश्वर के अस्तित्व को अस्वीकार किया है तब से मेरा अंतर्जगत और बहिर्जगत इतना परिवर्तित क्यों हो गया है? ऐसा लगता है जैसे में स्वयं के लिए ही अपरिचित हो गया हूँ, जैसे वह जो अब तक मेरे अंदर जी रहा था, मर चुका है और उसकी जगह कोई नया व्यक्ति पैदा हो गया है। मेरी दृष्टि इस संसार को एक अलग ही रंग में ढाल रही है। कौन जाने, ये किसी शक्ति की अनुभूति है की शक्ति के अभाव की, दुर्बलता की?
परिणाम चाहे जो भी हो, मुझे सत्य का मार्ग बनाना है, सत्य की खोज करना है, सारी रूढ़ियों और अंधविश्वासों से परे होकर। यही मेरे जीवन का चरम लक्ष्य है।
-१०:४२ p.m.
मेरा ह्रदय रोता है कि क्यों लोग हँसते हैं दूसरों की दुर्बलताओं पर, अज्ञानता पर, अयोग्यता पर, अक्षमता पर।
-१०:५८ p.m.
आज मैंने स्वयं को इतना अकेला महसूस किया है जैसे मैं इस संसार से नहीं बल्कि किसी जंगल से गुजर रहा हूँ। मानो चलते फिरते आदमी, आदमी न हों, जंगल में लगे पेड़ हों।
-११:५२ p.m.

Discovery of  truth…1(सत्य की खोज…1 )

Adventure of the Truth…

Discovery of the truth…1

November 15, 2003, Saturday

I have cried first time today, on the helplessness and atrocity of human. I don’t want such a helpless God, who can see dirty, disgusting, atrocious and naked play and can’t do anything. I do not believe the existence of such a God. Since today, I am an atheist, a staunch atheist.

-2: 14 p.m.

Will he be the God, who sees the tears of helpless, vulnerable and innocent people, who hears their scream, who hears their tragic cry and his heart should not shake, his soul should not shake? No. there is nothing like God anywhere on earth, he cannot be anywhere in the world. If strength is everything in the world, truth, honesty and ethics are nothing then why one should take his favor which has no mark except a pile of soil and stones? I do not need him now. Now I am the God myself.

-2: 34 p.m.

No one here is sad about anyone’s misery, no one tolerates the pain of others; everyone has to endure his /her grief own. People pretend to be liquefied in others suffering for a while, people show false sympathy and then they start to enjoy in it. The pain of the wound is realized by the one who suffer the prick of lancet.

-2: 44 p.m.

The truth cannot get in that mean, foundation of which has been laid on the lies.

-5: 50 p.m.

सत्य की खोज…1

१५ नवंबर २००३
आज मैं पहली बार रोया हूँ, इंसान की बेबसी पर और इंसान की दरिंदगी पर।
नहीं चाहिए ऐसा बेबस और लाचार ईश्वर, जो गंदे, घिनौने, घृणित, वहशत और दरिंदगी के नंगे खेल देखे और कुछ न कर सके। मैं नहीं मानता ऐसे ईश्वर के अस्तित्व को। आज से मैं नास्तिक हूँ, कट्टर नास्तिक।
-२:१४ p.m.
क्या वो ईश्वर होगा, जो असहाय, मजबूर, कमजोर और मासूम लोगों के बहते हुए आंसू देखे, उनकी चीत्कार सुने, उनका करुण रुदन सुने और उसका कलेजा न दहले, उसकी आत्मा न हिले? नहीं। ईश्वर जैसा कुछ भी इस धरती पर कहीं नहीं है, वह इस दुनिया में कहीं नहीं हो सकता। अगर दुनिया में ताकत ही सब कुछ है, सच्चाई, ईमानदारी और नैतिकता कुछ भी नहीं तो फिर कोई उसके एहसान क्यों उठाए जिसका कोई नामोनिशान नहीं, सिवाय मिटटी और पत्थरों के ढेर के सिवा। मुझे अब उसकी कोई जरूरत नहीं। मैं खुद ही अपना भगवान हूँ, मैं खुद ही अपना ईश्वर हूँ, मैं खुद ही अपना खुदा हूँ।
-२:३४ p.m.
यहाँ किसी को किसी के दुःख से वास्ता नहीं, कोई किसी और का दुःख नहीं सहता, सबको अपना दुःख खुद ही सहना पड़ता है। लोग दूसरों के दुःख में थोड़ी देर द्रवित होने का नाटक करते हैं, झूठी सहानुभूति प्रकट करते हैं और फिर उसमे भी आनंद उठाने लगते हैं। जख्म के दर्द का एहसास तो उसे ही होता है जिसे नश्तर चुभते हैं।
-२:४४ p.m.
जिसकी बुनियाद ही झूठ पर डाली गई हो, उस रास्ते पर चलकर सत्य को नहीं पाया जा सकता।
-५:५० p.m.

Who will answer…?(कौन देगा जवाब…?)

Autobiography of a modern yogi part – II

Adventure of the Truth…

Who will answer…?

Is it the same India, which is called ‘sacred land’? Is it the same India, where Gods were born? Is it the same India, where women are worshiped as the ‘Maternal power’? Is it the same India on which people such as Vivekananda, Gandhi, Tagore and Nehru used to pride?  Is this the same India where men like Gautama, Nanak and Mahavira have attained the salvation? Is this the same India where foreigners come to adopt dev culture of India by getting attracted?

If yes! Where those Gods have gone to sleep today? Where the Almighty God has slept? Is it the India of Gandhi and Vivekananda’s dreams? Is this the same India, where the brutal malfeasance was done in Guwahati- Dadar Express? Is this the same India, where the heathenism played the nude game with the dignity of an innocent girl?  Is this the same India, where many people together tried to cross all the boundaries of heathenism for two hours?  Is this the same India, where some people rubbed soot on the face of humanity? Have they not seen their mother, sister or daughter in the face of the innocent? Didn’t their soul damn them for this malfeasance?

The rape with diplomatic of Switzerland, rape by teachers and rape with innocent little girls, by showing them lure of the candy, doesn’t raise questions on the collapse of our moral level? Are these rapes not leprosy on our society and culture?

These rapes are not happening with women’s body but happening with the soul of India.  These rapes are happening with all those who have slightest humanity within but how many days we shall remember these questions? Who is going to answer them? Who will answer these burning questions? Is there any answer to these questions, which are strangling humanity? If you do not have any answers then sit quietly and let’s wait for the time when the accident will happen with us.

-14 November 2003, Friday

कौन देगा जवाब…?
क्या ये वही भारत है, जिसे पुण्यभूमि कहा जाता है? क्या ये वही भारत है, जहाँ देवताओं ने जन्म लिया? क्या ये वही भारत है, जहाँ नारी को मातृशक्ति के रूप में पूजा जाता है? क्या ये वही भारत है जिस पर विवेकानंद, गांधी, टैगोर और नेहरू जैसे लोगों को नाज़ था? क्या ये वही भारत है, जहाँ गौतम, नानक और महावीर जैसे महापुरुषों ने मोक्ष प्राप्त किया? क्या ये वही भारत है जिसकी देव संस्कृति को अपनाने के लिए विदेशी यहाँ खिंचे चले आते हैं?
अगर हाँ! तो फिर कहाँ सोए पड़े हैं आज वो देवता? कहाँ सोया पड़ा है वो सर्वशक्तिमान ईश्वर? क्या यही है गांधी और विवेकानंद के सपनों का भारत? क्या यही है वो भारत, जहाँ गुवाहाटी-दादर एक्सप्रेस में वह वहशियाना कुकृत्य हुआ? जहाँ एक मासूम लड़की की इज्जत से वहशत ने नंगा खेल खेला? क्या ये वही भारत है, जहाँ कई आदमी मिलकर दो घंटे तक दरिंदगी की तमाम हदें पर करते रहे? क्या ये वही भारत है, जहाँ कुछ लोग मानवता के चेहरे पर कालिख मलते रहे? क्या उन्हें उस मासूम के चेहरे में अपनी माँ, बहन या बेटी नजर नहीं आई? क्या उनकी आत्मा ने उन्हें इस दुष्कृत्य के लिए धिक्कारा नहीं?
क्या स्विट्ज़जेरलैंड की राजनायिक के साथ होने वाला बलात्कार, आये दिन छोटी-मासूम कन्याओं को टॉफी का लालच दिखाकर किए जाने वाले बलात्कार और शिक्षिकाओं से होने वाले बलात्कार हमारे नैतिक स्तर के पतन का प्रश्न नहीं उठाते? क्या ये बलात्कार हमारे समाज और संस्कृति पर कोढ़ नहीं हैं?
ये बलात्कार एक औरत के शरीर से नहीं बल्कि भारत की आत्मा से हो रहे हैं, उन सबकी आत्मा से हो रहे हैं जिनके अंदर थोड़ी सी भी मानवता सोई पड़ी है।
लेकिन हम इन प्रश्नों को कितने दिन याद रखेंगे? किसे पड़ी है इनका जवाब देने की? कौन देगा इन सारे जलते प्रश्नों के उत्तर? है कोई जवाब, मानवता का गला घोंटते इन सवालों का ? अगर नहीं है हमारे पास इनके कोई जवाब तो बैठे रहें हम चुपचाप और करते रहें उस वक़्त का इंतज़ार जब ये हादसा हमारे साथ होगा।
-१४ नवंबर २००३

Background…(पृष्ठभूमि…)

Autobiography of a modern yogi part – II

Adventure of the Truth…

Background…

The questions to know the existence of self and the third unknown force (nature or God?) were rebelling in my mind from a very tender age, but these questions could not get the right direction and I kept wandering in books, temples, stone statues to know the ultimate power. Sometimes *monkey (transient) quietude also generated, which went in a while, and I got entangled in this world.

My questions and my efforts found the right direction and the right intensity when I came to know about the Guwahati-Dadar Express fiendish acts, which led a huge massacre. The injustice and oppression shook my emotional mind, it shook my existence. And my questions became poisonous arrows which kept piercing my wounds all the time and kept deepening by scratching them. And on that the question of the existence of God acted like an acid on the wounds and I writhed in agony. My mind refused to accept the existence of this false god from that time. My mind revolted from the false gods, false principles of the world, from trickery and I started to search that if God is not here, then what is the power which is operating the whole universe. What is the power that is nurturing like a mother? That day began with the discovery of the power and that led this sequential search of the truth…

Don’t say that it is a search of my thinking; it is the search of my life. Truth is not the result of my thinking but is the result of life. I did not think of the truth rather I have lived it and I have lived it such a way a single drop of my blood became the truth; my each breath has become truth. My heart, my brain, my soul, each of my body’s organs has become the truth and then I realized the power and then somewhere truth exploded…

 

 

 

*when a baby monkey dies in flood, her mother wander here and there embracing it letting that it is not died. It seems she does not leave it at any cost but when the water comes to her neck, she puts the dead baby monkey under her feet and stands on it to save herself.

पृष्ठभूमि…
अपने और उस तीसरी अज्ञात शक्ति (प्रकृति या ईश्वर?) के अस्तित्व को जानने के प्रश्न तो बहुत अल्पायु से ही उठते रहे मेरे मन में, पर इन प्रश्नों को सही दिशा नहीं मिल पाई और मैं भटकता रहा किताबों में, मंदिरों में, पाषाण-प्रतिमाओं में, उस परम शक्ति को जानने के लिए। कभी-कभी *मर्कट (क्षणिक) वैराग्य भी उत्पन्न हो जाता था, जो थोड़ी देर में चला भी जाता था और मैं इसी दुनिया में रमकर रह जाता था।
मेरे प्रश्नो और मेरे प्रयासों ने सही दिशा और सही प्रबलता पाई गुवाहाटी-दादर एक्सप्रेस में हुए उस पैशाचिक कृत्य और उसके बाद हुए नर-संहार से। वहां हुए अन्याय और अत्याचार ने मेरे भावुक मन को झिंझोड़ कर रख दिया, मेरे अस्तित्व को हिलाकर रख दिया। और मेरे प्रश्न जहरीले बाण बन गए जो मुझे हर समय छेदते रहे और मेरे घावों को कुरेद-कुरेद कर गहरा करते रहे। उस पर ईश्वर के अस्तित्व के प्रश्न ने इन घावों पर तेजाब का काम किया और मैं छटपटा उठा, बिलबिला उठा, व्याकुल हो उठा। मेरे मन ने उसी समय से इस झूठे ईश्वर के अस्तित्व को मानने से इंकार कर दिया। मेरा मन विद्रोह कर उठा उस झूठे ईश्वर से,दुनिया के झूठे उसूलों से, प्रवंचना से और मैं ढूंढने लगा कि अगर ईश्वर नहीं है तो फिर वह कौन सी शक्ति है जो सारी सृष्टि का संचालन कर रही है। वह कौन सी शक्ति है जो एक माँ की तरह पोषण कर रही है। उस दिन से शुरू हो गई उस शक्ति की खोज और इसी के साथ शुरू हुआ सत्य की खोज का ये सिलसिला…
इसे मेरे चिंतन की खोज नहीं कहिये, ये मेरे जीवन की खोज है। सत्य मेरे चिंतन का परिणाम नहीं, जीवन का परिणाम है। सत्य पर मैंने विचार नहीं किया , वरन सत्य को जिया है। सत्य पर मैंने विचार नहीं किया, वरन सत्य को जिया है और इस तरह जिया है कि मेरे खून की एक एक बूँद सत्य बन गई , मेरी एक-एक सांस सत्य बन गई। मेरा मन, मस्तिष्क, मेरी आत्मा, मेरे शरीर का अंग-प्रत्यंग सत्य हो गए, तब कहीं जाकर साक्षात्कार हुआ है मेरा शक्ति से और फिर हुआ सत्य का ये विस्फोट…

 

 

*एक बन्दर का बच्चा जब बाढ़ में डूबने पर मर जाता है तब उसकी माँ उसे अपने गले से लिपटाए यहाँ वहां घूमती रहती है। उसे देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि वह उसे किसी कीमत पर नहीं छोड़ेगी पर जब पानी उसके गले तक आ पहुँचता है तब वह अपने उस मरे हुए बच्चे को अपने पैरों के नीचे डालकर उस पर खड़ी होकर अपने आप को बचाने की कोशिश करने लगती है।

At glance…(एक दृष्टि…)

Autobiography of a modern yogi part-II

 (Adventure of the truth)

At glance…

I have given all these preaching to myself. If you think, a bit of it availed you then I am blessed, my life became gratified…

The text should be read by the people, who have courage to face the truth, the people, who can accept the truth with courage. It would be fair if false and fraudulent people should not open its page, for them these are nothing but just dead words. Only then you will be able to know the truth, when you mold the truth in your mold, but be careful! There should not be the ash of foul inside the mold.

These ideas are the results of a profound and serious experiment which can only be understand by doing. Not logic, observation is the only route to truth.

To watch -‘What’s going on inside you?’ all the time is the self-observation.’

If questions are not arising in your mind after reading it, then know that, you have not read properly.

It is not my theology but account of my work. After reading, if you feel a storm of sadness within you, then know that you are eager to get the truth.

-Modern Yogi.

एक दृष्टि…
ये सारे उपदेश मैंने स्वयं को दिए हैं। यदि आपको लगता है कि इसका अंशमात्र भी आपके कुछ काम आया तो मैं धन्य हुआ, मेरा जीवन कृतार्थ हुआ…
जिनमे सत्य का साक्षात्कार करने का साहस है, जो सत्य को साहस पूर्वक स्वीकार कर सकते हैं, वे ही इसे पढ़ें, झूठे और फरेबी लोग इसके पृष्ठ न ही खोलें तो उचित होगा, उनके लिए ये मृत शब्द हैं और कुछ नहीं। अपने सांचे में ढालने के बाद ही तुम सच जान पाओगे, अनुभव कर पाओगे, लेकिन सावधान! सांचे के अंदर बेईमानी की राख न हो।
ये विचार एक गहन और गंभीर प्रयोग के परिणाम हैं। जिन्हे आप तभी समझ सकते हैं, जब ये प्रयोग आप भी कर के देखें। तर्क नहीं, अवलोकन ही है एकमात्र मार्ग सत्य का।
‘आपके भीतर क्या चल रहा है, इसका हर समय अवलोकन करना ही आत्म-अवलोकन है।’
यदि इसे पढ़ने के बाद आपके अंदर प्रश्न नहीं उठें तो समझियेगा कि आपने ठीक से पढ़ा ही नहीं। ये मेरा धर्मग्रन्थ नहीं कर्मग्रन्थ है। इसे पढ़ने के बाद यदि आपके भीतर उदासी का तूफ़ान उठता है तो समझिए कि आप भी सत्य को पाने के लिए उत्सुक हैं।
– मॉडर्न योगी

Milestone: 1…

Dear Readers,

My Infinite Love…

You read and enjoyed and commented extremely. Your love for my blog filled me with great enthusiasm and gratefulness. You showed that there is no scarcity of good people in the world who favor ‘Truth’.

A big hand to all of you…

Salute…

I have ended here ‘Autobiography of a modern yogi part – I (Loneliness)’…

Now I am going to start ‘Autobiography of a modern yogi part – II (Adventure of the Truth)’…

Hope, I will get more love and attention from you all…

It is not sufficient to just read only. Keep reading and dissolving in it and carry on ‘self analysis’. That is the method which brought me here and made me able to your love. My aim is not only to write blog just for enjoyment. It is the process of ‘Thought-Revolution’. It is the phenomenon to change the entire world. It is a mission. Please help me participating in it. It is certain that we will bring the revolution of the Truth.

Note –

Many people are asking me, why the back dates has been mentioned along with the posts?

Please remember that this blog is accounting the true experience of the discovery the truth, is the thesis of my research…

You will understand the suffering experienced in the discovery of the truth if you note the date and time with the posts…

With Infinite love…

Your,

Modern Yogi.

Knowledge… the conversion of sexual desires…(ज्ञान…काम का रूपांतरण…)

Before one reach the highway of knowledge one should pass through the narrow culvert of sexual desires. People who cross the narrow culvert of sexual desire making their balance; they tend to possess to walk on the highway of the knowledge.

If a person get success to convert his inner sexual desire into wisdom and uses it in a constructive and creative functions then he comes out from the narrow culvert of sexual desire by conflict despite implicated in it otherwise remains implicated in the same whole life. Practical people say that the life is not possible without consumption of sex that a life gets hard without marriage. It is true that to live without consuming sexual desire is a very complex task, but it is not necessary to be consumed only in married life. Consumption of sexual desires can also be used in constructive and creative functions. Sexual desire is a very large force. This conversion of sexual desire into knowledge gives rise to new dimensions of knowledge. The new discoveries eternally in Spirituality, Science and Literature and new mysteries are the examples of that.

-11 November 2003

The person who envies you does not possess your hatred or anger but deserve your mercy. You should take pity on him that he is jealous of the thing that thing is lacking in it.

-13 November 2003

ज्ञान…काम का रूपांतरण…
ज्ञान के राजमार्ग पर पहुंचने से पहले काम की संकीर्ण पुलिया से होकर गुजरना पड़ता है। जो काम की इस संकीर्ण पुलिया को अपना संतुलन बनाकर पार कर लेते हैं, वे ही ज्ञान के राजमार्ग पर चलने के अधिकारी होते हैं।
यदि व्यक्ति अपने भीतर के काम को ज्ञान में रूपांतरित कर उसका उपयोग रचनात्मक एवं सृजनात्मक कार्यों में करता है तो वह कामरूपी संकीर्ण पुलिया में फंसने के बावजूद संघर्ष करके इससे बाहर निकल आता है अन्यथा जीवन भर इसी में फंसा रहता है। व्यावहारिक लोग कहते हैं कि काम के उपभोग के बिना जीवन संभव नहीं अर्थात विवाह के बिना जीवन कठिन हो जाता है। यह सत्य है कि काम के उपभोग के बिना जीवन व्यतीत करना बड़ा ही जटिल है परन्तु यह आवश्यक नहीं की काम का उपभोग केवल दाम्पत्य जीवन में ही किया जाए। काम का उपभोग रचनात्मक एवं सृजनात्मक कार्यों में भी किया जा सकता है। काम एक बहुत बड़ी शक्ति है। इसका ज्ञान में रूपांतरण ज्ञान के नए आयामों को जन्म देता है। अध्यात्म, विज्ञान और साहित्य में नित नई खोजें और नए रहस्य इसी के उदाहरण हैं।
-११ नवंबर २००३
आपसे ईर्ष्या करने वाला आपकी नफरत या आपके क्रोध का अधिकारी नहीं बल्कि आपकी दया का पात्र है। आपको उस पर दया करना चाहिए कि वह जिस चीज से ईर्ष्या कर रहा है उस चीज का उसमे अभाव है।
-१३ नवंबर २००३