Monthly Archives: March 2016

Discovery of the truth … 8 (सत्य की खोज…8)

Adventure of the Truth…

Discovery of the truth … 8

22 November 2003, Saturday

Violence is also important, for spreading of non-violence. Non-violence would had never born if violence was not there. Non-violence does not exist without violence. On the outbreak of collective violence man’s personal violence is satisfied, which cools his predatory instinct. After the outbreak of a riots or violent movement, for a few days, violent tendencies are stopped in that area.

-12: 05 am.

A devil is hidden inside every person who often cannot gather the courage to get out. Hence, when we read news of rapes or watch porn scenes, it indulges our sexual desires. Similarly, robbery, burglary and massacre news indulge our predatory instinct.

-12: 30 a.m.

Very often, the devil sitting inside a person awake in the crowd, where person’s personal introduction (survival) lose in the crowd, where his personal identity ends and he becomes safe. Servility of human raises head in the crowd. That’s why a person could do all that in the crowd which he could not have even thought in his dream alone. Or perhaps alone, thinking about the act itself it may generate hatred in his heart.

That is why the person afraid of doing any misdeeds alone and looks for companion. In alone, feeling of Insecurity prevents him from doing so. Crowd can never be gentle or saint. Similarly, a person absolutely alone can never be evil. The devils walk in the league and a saint walks alone.

-12: 55 am.

The power is the eternal law of the universe.

-7: 22 am.

Merely knowing the truth, all the disorders are cured.

-7: 40 am.

Trust on your self-power, the power from out is not useful for you.

-7: 58 am.

Power is not a subject to receive by demand, it is cultivated because to demand the power is also a debility and debility can never generate power.

-8: 00 am.

Only truth can favors you and nothing else.

-8: 05 am.

As the flood water inundates lowlands to wreak havoc, similarly, the power too creates havoc in low-level powerless creatures.

-8: 20 am.

My inner ugliness is turning into beauty.

Each light is hidden in the dark, be careful, light should not be less.

Only by reading the truth cannot be found. Only by experiencing the truth can be found.

-9: 08 AM.

To understand the truth to the mind of a child or to calm their curiosity often resorted to symbols. But his simple heart remains entangled in these symbols, cannot reach the truth so beware of such symbols. All existing religions have made the mistake to understand the truth by symbols.

That is the orgy of my inner power which realizes me my powerlessness.

-9: 35 am.

Eternity is beyond the relativity. Relativity can never corrupt the eternity, but the relativity contaminates our vision with dirt of confusion.

-9: 55 a.m.

The comparison can never be truth, comparison is a relative confusion. Truth is incomparable.

-10: 03 a.m.

It is the ugliness every time which tries to bring the beauty.

-10: 15 a.m.

Fear of life brings us in worse condition than animals.

-10: 18 a.m.

I frequently used “power” implies not only the muscular force but the blending of force, wisdom and courage (will power).

-10: 30 a.m.

The rules and principles are absolutely necessary to run an entity (system) smoothly, but search for the truth cannot be done by binding in such rules or principle.

Righteousness is the bond of limitations, the truth is liberation. Righteousness is question, truth is answer. Righteousness is curiosity, truth is satisfaction. Righteousness is resource, truth is the goal.

-11:25 a.m.

If you live life like a dog, shall be slain like a dog. How does a dog live? It barks at anyone, bites someone, stands shaking its tail at anyone’s entrance having longing of bread, runs after a bitch to satisfy his sexual desire and fights with other dogs for that bitch and if anyone picked up stone to hit then downs the tail runs away.

That is not a man doing? He gets angry on others, argues with others, determines to kill and cut in the name of religion-cult, stands folded hands at the door of God, in temples with crave of his wishes and demands, runs after a woman to satisfy his lust and gets ready to shed the rivers of blood and if anyone raises arms to hit or kill finding him alone, unarmed, then asks for mercy falling at his feet or flees giving him dodge.

You decide putting your hand on your heart that so far you are not the one among these dogs?

-11:35 a.m.

Now my waking state has taken the form of a permanent mental unconsciousness. Mind has become blank from the outer world. The body remains engaged in its functioning but mind does not participate in those activities rather watches the show being busy in the inner consciousness. Now my body and mind gives the impression of two separate entities.

-2: 28 p.m.

My experiences could match the experiences described by any other great man; it does not imply that I’m following any great man. To follow is not the path of the truth. Truth is a flight in open sky. I’ve freed from all the texts, from tied-bound principles, from authoritative statements of great persons, from the hymns of the Vedas. All these have become unimportant to me; have become a pile of garbage. These have destroyed in my imagination. So in this situation, do not compare my experiences to others experiences. Comparison produces illusion and takes us away from the truth. My experiences are true to me, it does not mean that it cannot be true for someone else.

Anyone do not make mistake considering them any tied-bound principle. I have already stated that the principles are often relative, they are bounded by situation and time but the truth is always free, with every limitation.

-4: 35 p.m.

Not require any effort to get to the truth; you should have just a deep longing within to get it. It experiences itself, it appears automatically.

-4: 45 p.m.

Strength is life, infirmity is death.

Courage is life, fear is death.

-6: 25 p.m.

Mystery of the truth, the mystery of the life, sometimes generate fear but my courage suppresses the fear and says you’re the source of power, you not need to fear from anyone and then the truth will be true in every case, then why this fear?

And then my resolution becomes stronger that I will get the truth even by losing myself.

-8: 45 p.m.

My search of truth cannot stop until I shall know it. My atheism asks me every moment -“Tell! What is the truth? What is the Almighty power?”

Stone statues irritate me and ask me, what is the truth?

Temple irritates me, laugh at me and ask me, what is the truth?

Tone of the Psalms playing on loudspeakers irritates me and asks me, what is the truth?

The whole world irritates me and asks me, what is the truth? What is the power which is almighty?

Just a single question is resonating in the environment around me. Smiling people pinch me like prong. Events full of joy and glee give me violent blow on my heart. And then again starts the screaming of the same question all around me and starts tearing my brain, Increases my frenzy to the extent of madness.

This whole colorful world appears of the same color – Black, ugly, featureless, clunky and I ask myself if my life is made for distractions and afflictions? Are the sufferings of all around the world for me? And all the razzle-dazzle, joy, celebration are for ignorant? When shall I have the boundless joy?

My mind spins while swinging in the swing of deviation of thoughts and after spinning sits at a place in search of peace, but peace, and in my life? Nothing can be a joke bigger than this to me? And my search of the peace buries in the echoes of the same questions again. And I ask myself if the truth is so complicated?

-9: 50 p.m.

I bear so much distraction and anguish anyhow, on what basis? Just on the basis of a sense of satisfaction that I am not a coward, not a timid, not a fugitive, not afraid and escaping of the truth, but having the courage to face the truth, but a courageous warrior not tilting the head before the falsehood. The world will surely bow ahead of me one day, the world will of course believe on my strength one day. Then my soul tells me that let these ignorant people die the death of dogs, let them live lives of dogs. My life is not the life of the dog, is the life of a lion. What to do with happiness of dogs? What to do with celebration of dogs? What to do with a piece of bone lying in the mouth of dogs?

-10: 05 p.m.

After the circulation of power the intense sensation of pain is because I should not sit forgetting my existence, I should not sit forgetting my aim; I should not sit forgetting those questions.

-10:30 p.m.

My bitter imaginations of years ago are now taking shape of truth, what is this mathematics of truth?

-10: 40 p.m.

It is the courage of the true, which could enjoy punishment too.

-10: 45 p.m.

(अंतर्यात्रा)

सत्य की खोज…8

22 नवंबर २००३

 

हिंसा भी जरूरी है, अहिंसा के फैलने के लिए। अहिंसा का जन्म ही न होता यदि हिंसा न होती। हिंसा के बिना अहिंसा का अस्तित्व ही नहीं। सामूहिक हिंसा के भड़कने पर मनुष्य की व्यक्तिगत हिंसा तृप्त होती है, जिससे उसकी हिंसक वृत्ति शांत होती है। किसी दंगे या हिंसात्मक आंदोलन के भड़कने के बाद कई दिनो तक उस क्षेत्र की हिंसक प्रवृत्तियाँ थम जाती हैं।

-१२:०५ am.

प्रत्येक व्यक्ति के अंदर एक शैतान छिपा बैठा है। जो अक्सर बाहर निकलने का साहस नहीं जुटा पाता इसलिए जब कभी हम बलात्कार की ख़बरें पढ़ते हैं या अश्लील दृश्य देखते हैं तो हमारी काम-वासना तृप्त होती है। इसी तरह लूट-मार, चोरी डकैती और नर-संहार की ख़बरें हमारी हिंसक वृत्ति को तृप्त करती हैं।

-१२:३० am.

व्यक्ति के भीतर बैठा शैतान अक्सर भीड़ में जाग्रत होता है, जहाँ व्यक्ति का व्यक्तिगत परिचय (अस्तित्व) भीड़ में विलीन हो जाता है, जहाँ उसकी व्यक्तिगत पहचान समाप्त हो जाती है और वह सुरक्षित हो जाता है। इंसान का कमीनापन भीड़ में सर उठाता है इसलिए भीड़ में व्यक्ति वो सब कर सकता है जो अकेले में वह स्वप्न में भी करने की न सोच सके या शायद अकेले में उस कृत्य के बारे में सोच कर ही उसके मन में घृणा का भाव उत्पन्न हो जाए।

यही कारण है कि व्यक्ति कोई भी दुष्कर्म अकेले करने से डरता है और साथी की तलाश करता है। अकेले में असुरक्षा की भावना उसे ऐसा करने से रोक देती है। भीड़ कभी सज्जन या संत नहीं हो सकती।  इसी तरह नितांत अकेला व्यक्ति कभी भी शैतान नहीं हो सकता। शैतान जमात में चलते हैं और संत अकेले।

-१२:५५ am.

शक्ति ही इस सृष्टि का शाश्वत नियम है।

-७:२२ am.

सत्य को जान लेने मात्र से सारे विकार दूर हो जाते हैं।

-७:४० a.m.

केवल अपनी आत्म-शक्ति पर विश्वास करो, बाहर की शक्ति तुम्हारे किसी काम की नहीं।

-७:५८ am.

शक्ति कभी मांगी नहीं जाती, पैदा की जाती है क्योंकि शक्ति को मांगना भी दुर्बलता है और दुर्बलता कभी शक्ति को उत्पन्न नहीं कर सकती।

-८:०० a.m.

एकमात्र सत्य ही आपका उपकार कर सकता है और कुछ नहीं।

-८:०५ am.

जिस प्रकार बाढ़ का पानी निचले क्षेत्रों को जलमग्न कर तबाही मचाता है उसी प्रकार शक्ति भी निम्न स्तर के शक्तिहीन प्राणियों में ही तबाही मचाती है।

-८:२० am.

अगर सत्य को जान लोगे तो कमजोरी ताकत बन जाएगी।

-८:५२ am.

मेरे भीतर की कुरूपता सुंदरता में परिवर्तित होने लगी है।

हर उजाले में अँधेरा छिपा है, ध्यान रहे कि रौशनी कम न होने पाए।

केवल पढ़कर सत्य को नहीं पाया जा सकता। अनुभव करके ही सत्य को पाया जा सकता है।

-९:०८ am.

एक बाल मन को सत्य समझने के लिए अथवा उसकी जिज्ञासा शांत करने के लिए प्रायः प्रतीकों का सहारा लिया जाता है परन्तु उसका सरल ह्रदय इन प्रतीकों में ही उलझकर रह जाता है, सत्य तक नहीं पहुँच पाता अतः प्रतीकों से सावधान रहें। सत्य को प्रतीकों से समझाने की गलती सभी वर्तमान धर्मों ने की है।

मेरी भीतरी शक्ति का तांडव ही मुझे शक्तिहीनता का बोध कराता है।

-९:३७ am.

शाश्वतता सापेक्षिकता के परे है। सापेक्षिकता शाश्वतता को कभी दूषित नहीं कर सकती, परन्तु सापेक्षिकता हमारी दृष्टि को भ्रम के मैल से दूषित कर देती है।

-९:५५ a.m.

तुलना कभी सत्य नहीं होती, तुलना सापेक्षिक भ्रम है। सत्य अतुलनीय है।

-१०:०३ a.m.

हमेशा कुरूपता ही सुंदरता को लाने का प्रयास करती है।

-१०:१५ a.m.

प्राणो का भय हमें जानवरों से भी बदतर स्थिति में ला देता है।

-१०:१८ a.m.

मेरे द्वारा बार-बार प्रयुक्त ‘शक्ति’ का तात्पर्य केवल शरीर की ताक़त से नहीं है वरन बल, बुद्धि और साहस के सम्मिश्रण (आत्मबल) से है।

-१०:३० a.m.

नियम तथा सिद्धांत किसी निकाय (सिस्टम) को सुचारू रूप से चलाने के लिए परम आवश्यक हैं पर सत्य की खोज इनमे आबद्ध होकर नहीं की जा सकती।

धर्म, बंधन हैं मर्यादाओं के, सत्य मुक्ति। धर्म प्रश्न हैं, सत्य उत्तर। धर्म जिज्ञासा है, सत्य तृप्ति। धर्म साधन है, सत्य लक्ष्य।

-११:२६ a.m.

यदि कुत्ते की तरह जीवन जिओगे तो कुत्ते की तरह मारे जाओगे। कुत्ता कैसे जीता है? किसी पर भौंकता है, किसी को काटता है, किसी के द्वार पर रोटी की लालसा लिए पूंछ हिलाता खड़ा रहता है, अपनी कामवासना तृप्त करने के लिए किसी कुतिया के पीछे भागता है और दूसरे कुत्तों से उस कुतिया के लिए लड़ता-झगड़ता है और यदि किसी ने मारने के लिए पत्थर उठा लिया तो दुम दबाकर भाग खड़ा होता है।

क्या एक आदमी भी यही सब नहीं कर रहा है? दूसरों पर क्रोध करता है, दूसरों से बहस करता है, धर्म-सम्प्रदाय के नाम पर मारने-काटने पर उतारू हो जाता है। भगवान के द्वार पर, मंदिरों में अपनी इच्छाओं और  मांगों की लालसा लिए हाथ जोड़े खड़ा हो जाता है।अपनी काम-वासना मिटाने के लिए किसी स्त्री के पीछे भागता है और उसके लिए खून की नदियां तक बहा देने को तैयार हो जाता है और यदि किसी ने अकेला, निहत्था पाकर मारने के लिए हथियार उठा लिया तो हाथ-पैर जोड़कर रहम की भीख मांगता है या चकमा देकर भाग जाता है।

-११:३५  a.m.

अब मेरी जाग्रत अवस्था ने एक स्थाई मानसिक अचेतनता का रूप ले लिया है। मन बाह्य जगत से संज्ञा शून्य हो गया है। शरीर अपने क्रियाकलाप करते रहता है पर मन उन क्रियाकलापों में भाग नहीं लेता बल्कि आतंरिक चेतनता में व्यस्त होकर उन्हें दूर से देखते रहता है। अब मेरा शरीर और मेरा मन दो अलग-अलग सत्ताओं का आभास देते हैं।

-२:२८ p.m.

हो सकता है कि मेरे अनुभव किसी अन्य महापुरुष के बताए अनुभवों से मेल खाएं। इसका अर्थ ये न लगाएं कि मैं किसी महापुरुष का अनुसरण कर रहा हूँ। अनुसरण सत्य का मार्ग नहीं है। सत्य का मार्ग आकाश की उन्मुक्त उड़ान है। मैं मुक्त हो चुका हूँ सारे ग्रंथों से, बंधे-बंधाए सिद्धांतों से, महापुरुषों के आप्त वचनों से, वेदों की ऋचाओं से। ये सब मेरे लिए महत्वहीन हो चुके हैं, कचरे का ढेर हो चुके हैं। ये मेरी कल्पना में जलकर ख़ाक हो चुके हैं अतः इस स्थिति में मेरे अनुभवों की किसी और के अनुभवों से तुलना न करें। तुलना भ्रम उत्पन्न करती है, सत्य से दूर करती है। मेरे अनुभव मेरे लिए सत्य हैं इसका ये तात्पर्य भी नहीं कि ये किसी और के लिए सत्य नहीं हो सकते।

इन्हें कोई बंधे-बंधाए सिद्धांत समझने की भी भूल न करे, मैं पहले भी कह चुका हूँ कि सिद्धांत प्रायः सापेक्षिक होते हैं, परिस्थिति तथा समय से बंधे होते हैं परन्तु सत्य सदैव मुक्त होता है, हर परिसीमा से।

-४:३५ p.m.

सत्य को पाने के लिए किसी प्रयास की आवश्यकता नहीं, बस आपके भीतर उसे पाने की तीव्र उत्कंठा होना चाहिए। वह अपने आप ही अनुभूत होता है, स्वयं ही प्रकट होता है।

-४:४५ p.m.

शक्ति ही जीवन है, दुर्बलता ही मृत्यु है।

साहस ही जीवन है, भय ही मृत्यु है।

-६:२५ p.m.

सत्य का रहस्य, जीवन का रहस्य, कभी-कभी भय उत्पन्न करते हैं पर मेरा साहस इस भय को दबा देता है और कहता है कि तुम शक्तिपुंज हो, तुम्हे किसी से डरने की आवश्यकता नहीं और फिर सत्य तो हर परिस्थिति में सत्य ही होगा, फिर इससे कैसा डर?

और फिर मेरा संकल्प और दृढ़ हो जाता है कि मैं खुद को खोकर भी सत्य को प्राप्त करूंगा।

-८:४५ p.m.

मेरी ये सत्य की खोज तब तक नहीं रुक सकती जब तक कि मैं इसे जान न लूँ। मेरी नास्तिकता हर पल मुझसे पूछती है कि बता, सत्य क्या है? क्या है वह सर्वशक्तिमान शक्ति?

पाषाण प्रतिमाएं मुझे चिढ़ाती हैं और मुझसे पूछती हैं कि सत्य क्या है?

मंदिर मुझे चिढ़ाते हैं, मुझ पर हँसते हैं और मुझसे पूछते हैं कि बता सत्य क्या है?

लॉउडस्पीकरों पर बजते भजन के स्वर मुझे चिढ़ाते हैं और मुझसे पूछते हैं कि बता सत्य क्या है?

सारी दुनिया मुझे चिढ़ाती है और मुझसे पूछती है कि बता सत्य क्या है? वह कौन सी शक्ति है जो सर्वशक्तिमान है?

बस एक ही प्रश्न गुंजायमान है मेरे चारों तरफ वातावरण में। हँसते हुए लोग मुझे शूल की तरह चुभते हैं। खुशियों और उल्लासों से भरे आयोजन मेरे ह्रदय पर कुठाराघात करते हैं और फिर शुरू हो जाती है उसी एक प्रश्न की चीत्कार चारों ओर से और मेरे मस्तिष्क को फाड़ने लगती है, मेरे उन्माद को पागलपन की सीमा तक बढ़ा देती है।

ये सारा रंग-बिरंगा संसार एक ही रंग का नजर आता है – काला, बदसूरत, कुरूप, भद्दा और मैं अपने आप से पूछता हूँ कि क्या मेरा जीवन व्याकुलताओं और वेदनाओं के लिए ही बना है? क्या दुनिया भर के दुःख मेरे ही लिए हैं और सारे राग-रंग, आनंद, उत्सव अज्ञानियों के लिए हैं? कब प्राप्त होगा मुझे वह असीम आनंद?

मेरा मन विचारों के विचलन के झूले में झूलते-झूलते फिर से घूमने लगता है और चकराकर एक जगह पर बैठ जाता है, शांति की तलाश में, पर शांति? और मेरे जीवन में? इससे बड़ा परिहास मेरे लिए कुछ हो ही नहीं सकता और मेरी शांति की तलाश फिर से उन्हीं प्रश्नों की अनुगूंज में दबकर रह जाती है और मैं फिर अपने आप से पूछता हूँ कि क्या सत्य इतना जटिल है?

-९:५० p.m.

इतनी व्याकुलता और वेदना भी मैं किसी तरह सह ही जाता हूँ, किसके बूते पर? सिर्फ एक संतुष्टि के भाव के बूते पर कि मैं कायर नहीं, डरपोक नहीं, सत्य से डरकर भागने वाला भगोड़ा नहीं, बल्कि सत्य का सामना करने की हिम्मत रखने वाला, झूठ के आगे सर न झुकाने वाला एक साहसी योद्धा हूँ। ये दुनिया एक दिन मेरे आगे जरूर झुकेगी, ये दुनिया एक दिन मेरी ताकत का लोहा जरूर मानेगी।

फिर मेरी आत्मा मुझसे कहती है कि इन अज्ञानियों को मरने दो कुत्ते की मौत, जीने दो इन्हें कुत्तों का जीवन। मेरा जीवन कुत्ते का जीवन नहीं,सिंह का जीवन है। कुत्तों की खुशियों से मुझे क्या लेना-देना? कुत्तों के जश्न से मुझे क्या मतलब? कुत्तों के मुंह में पड़ी हड्डी के टुकड़े से मुझे क्या लेना-देना?

-१०:०५ p.m.

शक्ति के संचार के बाद वेदना की तीव्र अनुभूति इसलिए है कि कहीं मैं अपने अस्तित्व को भुला न बैठूं, उन प्रश्नों को भुला न बैठूं।

-१०:३० p.m.

मेरी वर्षों पूर्व की कटु-कल्पनाएं अब सत्य का आकार ले रही हैं, ये कैसा गणित है सत्य का?

-१०:४० p.m.

वह सत्य का ही साहस है, जो सजा का भी मजा ले सकता है।

-१०:४५ p.m.

Discovery of the truth … 7 (सत्य की खोज…7)

Adventure of the Truth…

Discovery of the truth … 7

21 November 2003

Poorness-inferiority, helplessness (sense of being poor, inferior and helplessness) is sin. When you feel poor, inferior, helpless then your position is exactly like the beggar who stood at someone’s entrance to solicit and often he receives ignorance. The only difference is the magnitude. The beggar asks for alms of food, you beg for mercy, sympathy. In this position he is little beggar, you are far bigger than that beggar.

-7: 15 a.m.

Courage poverty (lack of courage) is much greater than economic poverty.

Arrogance of knowledge is false because knowledge of the ignorance is the true knowledge.

If you will beg for life like a goat helplessly snufflingly then your neck will down, if you will give a war whoop bravely and bout like a lion, adversities will run away in fear.

Everyone should be a bold warrior, to fight adversity.

Plucked death is better than the life filled with cowardice, begged from others.

Infirmity of mind (lack of courage) is enormity.

-8: 07 a.m.

Poorness-inferiority-helplessness are the enemies of self-pride. After the fall of self-pride man is like an animal.

-8: 30 a.m.

An amazing strength and courage is conducting within me today. Courage is erupting in my every pore.

Excitement and impatience are the enemies of truth. They can distract you from the truth. Be wary.

Walking the path of truth wanderer becomes fearless than lions.

-9: 35 a.m.

Ready-made rules are dangerous, they do not take you anywhere but let you to move around the pegs.

-9: 45 a.m.

 

Only courage counteracts the evil. Courage is another name of inner strength. Courage is the inner attempt which you have done, and then it appears in the form of retribution.

-9: 50 a.m.

False values and false pride do not remain longer; they touch the knees giving the test of truth and disappear like camphor in fire.

-9: 45 a.m.

After suffering Injustice guilt presses, bearing injustice results a feeling of guilty conscience. The more it is felt by victim is not felt by the unjust doer because it was dare for the unjust doer but for the victim it is lack of courage and the punishment of his/her defeat. Therefore, the only victim has to suffer the tragedy of injustice.

-10: 15 a.m.

We cannot escape easily from the old superstition, when they are revolted; they attract us towards them frequently. It realizes us to be guilty for breaking the dogmas but we should not distract. We should use our discretion and current circumstances.

-10:28 a.m.

Sadness was the narrowness of the alley of my mind, now I’m in the open field of the mind, now I have in front of me – the infinite sky of the secrets, solemn silence sky and my goal.

-10: 55 a.m.

The possibilities are hypotheses about the truth, which may be options of the truth, but not the truth because truth is immutable. You cannot know the truth by these possibilities. To know about the truth is the deception of knowing the truth, it’s an illusion and confusion cannot be truth so be aware from the possibilities that may confuse you.

Abstinence of sexual desires sprout as the power but mind that suppression of the sexual desires is not abstinence. Suppression is like a hurt enemy. This can attack anytime.

-12:03 p.m.

There cannot be an irony fierce than mental slavery to humans. The mental slavery is like to crush one’s own existence under own feet. Mental slavery is insulting own by own hands.

-1:05 p.m.

Now the time is unimportant to me. I started to live beyond the time, in the infinity; time is relative criterion and relativity is illusion of truth.

-1:15 p.m.

If my words increase your agony piercing in your heart like spike then do not put off these pages, do not consider the route is not for you, then only you will be the true authority to walk on this path. If my words Increase your agony, increase your thirst, increase your curiosity and then understand that you can also discover the truth. Truth takes the test of its candidates from these severe afflictions lest you would be a fugitive which should flee leaving the field. So it checks and approves you by these afflictions.

-1:30 p.m.

Earlier I thought that every task is not possible for everyone. For which one is made can do the same. I was right, but now I understand there is a partial change in my understanding that every person has its own level and every man can do a work of his own level efficiently. The lower level person can pretend only to do the task of the high level. Actually he could not do that task until his level may not be equal to the task level. It is not required to tell the outcome to fill water in the raw pitcher.

I am experiencing that whose inner conscience awake, whose inner sight awake, he need not the knowledge from outer world, then his heart becomes the source of bottomless knowledge.

-1:45 p.m.

I am going to reach on the experiences told by Buddha, Swami Vivekananda and Osho gradually. But accepting any other’s experiences without revealing is pose. So before crudely, I could not muster the courage to accept them, but now they are revealed, they do not need any arguments, any evidence or any no debate. These are fulfilled in itself.

-1:55 p.m.

Trickery is felony, with self, with others.

I am proud of myself that I have the courage to walk on the path of truth, to discover the truth.

-2: 10 p.m.

Today I have not the slightest doubt on the relevance of my name because now my goal is visible to me.

-2: 20 p.m.

Now my heartbeats have become a rhythm for me and my breaths have become a melodious voice of a flute. Together they are filling adventures in every pore of my body; these are vibrating my existence and are generating a melodious supernatural music. The first time I am able to experience the true beauty of truth which seems ugly from the outside.

Slowly I’m going to move ahead on my progression path but it is not my success, my success will be in the achievement of the ultimate truth.

-2: 38 p.m.

It is the thirst that makes the sense of utility and importance of the water, similarly, without the true thirst (curiosity) you cannot know the utility of the knowledge, cannot understand its importance. Without true curiosity knowledge is meaningless, is inadmissible.

Truth does not require claims and evidence; it is perfect in itself, it is direct, and it is enough for the truth. The truth does not say you to believe on it rather it says that distrust on it and then only you shall know the truth of the truth. It tells to test it on the criterion and you will know the truth of the truth yourself.

-2: 54 p.m.

I feel sad that people are ignorant, they do not see the truth but laugh at it and treat him as crazy who reflect the path of truth and hit with stone, hang him on the cross, hang him on the gallows, burn him alive. But the truth is fearless, in every situation.

-3: 30 p.m.

When only a glimpse of the truth is so powerful then what will be the absolute truth?

-3: 40 p.m.

People are afraid of the unknown, afraid of losing, afraid of death, so cannot gather the courage to get to the truth.

-4: 00 p.m.

The sensation of sex is ignorance-oriented attraction of Inhibition, is an impulse which arises from the predominance of inner strength when the power fails to expend it or convert it.

-5: 10 p.m.

People will agree or not? It never bothered me; I shall get to the truth that would be enough.

-8: 25 pm

No one is here whom I can say the distraction of my mind. To be in front of people seems like I have to act, I have to speak the dialogues, I have to laugh, but all is acting, all lie, so what should I do? Should I capture myself in a room? Perhaps that would be appropriate.

In what state have I arrived? What is this compulsion? What is this loneliness? What is this madness? Which is increasing agitation and distraction in my mind. I don’t want to do hypocrisy but I have to, everything as an act, which I do not like. I am constrained because people see the virtue like spectacle, they hear, they pretend to understand or consider it my madness and bookish frenzy. They interpret which I haven’t said and do not understand what I mean. No one can understand my grief, no one

-8: 30 pm.

Looking at mirror every day the question arises whether it is the same person who was yesterday? No, I’m changing every moment.

-8: 50 pm.

Sometimes the quest for the truth seems to be a disease like burden, but no, retreat is not my nature, cowardice is not my nature, Infirmity is not my nature, power is my true form. Power is my absolute form.

-9: 15 pm.

I’m dead for others from today, I am living only for myself and nothing could be better solution than this.

-9: 15 pm.

I’m not afraid of defeat because after losing it will be the truth in front of me and I will be able to embrace easily and even in this situation victory would be mine.

-9: 30 pm.

 

This world is such a liar that simply cannot accept the truth. No wonder that the world would not keep my words so easily. If this world will believe my words so easily will become chaotic, It will fill with consternation, it will stop the religious activities, buildings of false religions built on the beliefs of years and centuries will be collapsed so my points would be denied as possible. I’m ready for this because I know the facts become stronger by denial and one day the truth will come in front of the world. The truth is that fire, which cannot be hidden by any curtain, all efforts to cover it are futile, when it will flare will burn every screen and the truth will come breaking every challenge. Even after my death.

-9: 55 pm.

Here a question arises that if the truth is a fire, then why it has not come yet in front of the world?

I have the answer, that the sacred fire of truth is muffled as a spark behind the ash of lies, deceit, deception, fraud, superstition, hypocrisy and trickery and my job, my aim is to change the spark by provoking it into the intense flames of fire. It is desirable to have the courage to fight for the world, which is present within me. The world is an animal kingdom, forest-law runs here, here rebel’s neck is given off and for this too I am presented happily because now my existence is my goal and courage is my duty. When I shall be dying, my battle cry will be ‘truth’.

-10: 00 pm.

In the travel of truth my speed will be so quick, so intense I did not anticipate. Truth is my new religion. Courage is the only its worship. Truth is personal, subjective religion, not collective. A true religion can never be collective and if someone wanted to make it too very soon this will be choked. And soon it will die and the people will continue to worship likewise the dead as the people are doing in other religions.

-9: 45 pm.

Where has gone my ‘I’? Anyone else is forcing my pen to spit out these words. When I write these things my existence fades out. ‘I’ disappears somewhere in the infinite universe, “I” is no longer anywhere in me. What is the magic?

Who will explain to me?

-10: 25 pm.

No inkling of time, no inkling of body, no inkling of thrust and hunger, even no inkling of distraction, what is this distraction inside me.

Who will explain to me?

-10: 30 pm.

Who moved inside of me who wants to reveal the subtle secrets of infinite universe from my pen?

Who will tell me?                                                                                                                             -10: 40 pm.

What is it like mercury which is flowing within my eternal soul from the last seven days and swilling it, squeezing it?

Who will tell me?

-10: 42 pm.

Who is it who is putting the pieces of truth like the hymns in my ears?

Who will tell me?

-10: 45 pm.

A power, which is forcing me to run and making me tired, which is making me jaded and the other power which does not let me sit, which is forcing me to run faster and faster? In which game of powers I have caught?

Who will tell me?

-10: 50 pm.

I did not expect so much power; strong impulse of power is being unbearable for me, I’m being churned like butter. From where, these powers have created suddenly within me?

Who will tell me?

-10: 58 pm.

Are these solutions of my problems or a new explosion of problems?

Who will explain me?

-11: 10 pm.

O my soul! O my heart! Where have you gone go to sleep, making me to become mouthful of these horrible problems, leaving between them? Is it the result of not tilting the head in front of those stone statues? No, I do not believe this. If indeed such a power, then come to fight me, answer my questions, justifying their crimes. However, these cannot be the results of ignoring those stone statues because even in this situation I am on the side of truth and if the true god is not with the truth then he is not the god, Oh! How the god has come between me and the truth?

While bowing in front of the Stone statue in fact I was given foot on snake hole. Now it has come out from the bill, it will definitely hiss. Absolutely I should not distract with it.

So far I did not know the power of power and I used to call the power, now I have known the power of power.

-11: 25 pm.

Now I’m feeling, the peace after the storm, with sweat in the cold of November.

-11: 35 pm.

Innocence is not a sin but weakness hidden in innocence is a sin. Man without strength and courage is insignificant like insect-moth. Then no wonder on his fate like the insect-moth, in chafing it like an insect-moth. The nature has divided the universe on a single basis and that is – the power.

-11: 54 pm.

(अंतर्यात्रा)

सत्य की खोज…7

21 नवंबर २००३

दीनता-हीनता-असहायता (दीन, हीन, असहाय होने का बोध ) पाप है। जब आप दीन, हीन, असहाय महसूस करते हैं तो आपकी स्थिति ठीक उस भिखारी की तरह होती है जो किसी के द्वार पर खड़े होकर याचना करता है और प्रायः जिसे दुत्कार ही मिलती है। फर्क सिर्फ परिमाण का होता है। वह भिखारी अन्न की भीख मांगता है, आप दया की, रहम की। इस स्थिति में वह तो छोटा भिखारी है, आप उससे कहीं अधिक बड़े भिखारी हैं।

-७:१५ a.m.

साहस की निर्धनता (साहस का अभाव) आर्थिक निर्धनता से बहुत अधिक बड़ी है।

ज्ञान का दम्भ झूठा है क्योंकि सच्चा ज्ञान तो ज्ञान का ज्ञान है।

यदि बकरी की तरह असहाय होकर मिमियाते हुए प्राणों की भीख मांगोगे तो गर्दन उतार दी जाएगी सिंह की तरह डटकर साहसपूर्वक सिंहनाद करोगे तो विपत्तियाँ डरकर भाग जाएंगी।

प्रत्येक व्यक्ति को एक साहसिक योद्धा होना चाहिए, प्रतिकूल परिस्थितियों से लड़ने के लिए।

कायरता भरे, दूसरों से भीख में मिले जीवन से साहसपूर्ण मौत अच्छी।

मन की दुर्बलता (साहस का अभाव) महापाप है।

-८:०७ a.m.

दीनता-हीनता-असहायता आत्मगौरव के शत्रु हैं। आत्मगौरव के पतन के बाद मनुष्य, पशु के समान है।

-८:३० a.m.

आज मेरे भीतर एक अद्भुद बल और साहस का संचार हो रहा है। साहस मेरे रोम-रोम से फूट रहा है।

उत्तेजना और उतावलापन सत्य के शत्रु हैं। ये आपको सत्य के मार्ग से भटका सकते हैं। इनसे सावधान रहें।

सत्य के मार्ग पर चलने वाला पथिक सिंह से भी अधिक निर्भय हो जाता है।

-९:३५ a.m.

बंधे-बंधाए नियम खतरनाक होते हैं, ये आपको कहीं नहीं ले जाते बल्कि एक ही खूँटी के इर्द-गिर्द चक्कर लगवाते रहते हैं।

-९:४५ a.m.

बुराई का प्रतिकार साहस ही कर सकता है। साहस, आतंरिक बल का ही दूसरा नाम है। साहस वह आतंरिक प्रयास है जो आप कर चुके होते हैं, तभी वह प्रतिकार के रूप में प्रकट होता है।

-९:५० a.m.

झूठा मान और झूठा अभिमान ज्यादा दिनों तक नहीं टिकते, सत्य की कसौटी पर ये घुटने टेक देते हैं और इस तरह गायब हो जाते हैं जैसे आग में कपूर।

-९:५५ a.m.

अन्याय सहने के बाद एक अपराध-बोध दबाता है, आत्मग्लानि की अनुभूति होती है। यह जितनी अधिक अन्याय सहने वाले को होती है, उतनी अधिक अन्याय करने वाले को भी नहीं होती क्योंकि अन्याय करने वाले का अन्याय करना तो दुःसाहस था परन्तु सहने वाले के बल तथा साहस की कमी एवं पराजय का दंड होती है अतः अन्याय की त्रासदी सहने वाले को ही भोगनी पड़ती है।

-१०:१५ a.m.

पुराने अन्धविश्वास इतनी आसानी से नहीं छूटते, इनसे विद्रोह करने पर पुरातन रूढ़ियाँ हमें बार-बार अपनी ओर आकर्षित करती हैं, हमें बार-बार रूढ़ियों को तोड़ने का दोषी होने का आभास दिलाती हैं पर इनसे विचलित नहीं होना चाहिए। इस अवस्था में अपने विवेक तथा प्रत्यक्ष परिस्थितियों की सहायता लेनी चाहिए।

-१०:२८ a.m.

उदासी मेरे मन की गली की संकीर्णता थी, अब मैं मन के खुले मैदान में आ गया हूँ, जहाँ मेरे सामने है – रहस्यों का अनंत आकाश, गंभीर मौन आकाश और मेरा लक्ष्य।

-१०:५५ a.m.

संभावनाएं परिकल्पनाएं होती हैं सत्य को लेकर, जो सत्य का विकल्प हो सकती हैं पर सत्य नहीं क्योंकि सत्य तो निर्विकल्प होता है। इन संभावनाओं से आप सत्य को नहीं जान सकते। सत्य के बारे में जानना, सत्य को जानने का धोखा है, भ्रम है और भ्रम सत्य नहीं हो सकता अतः संभावनाओं से सावधान रहें क्योंकि ये आपको भ्रमित कर सकती हैं।

काम का संयम शक्ति के रूप में प्रस्फुटित होता है पर ध्यान रहे काम का दमन काम का संयम नहीं। दमन चोट खाए शत्रु की तरह होता है जो कभी भी आक्रमण कर सकता है।

१२:०३ p.m.

मानसिक गुलामी से भयंकर और कोई विडम्बना नहीं हो सकती मनुष्य के लिए। मानसिक रूप से किसी की  गुलामी करना अपने अस्तित्व को अपने पैरों तले कुचलने के बराबर है। मानसिक गुलामी अपने ही हाथों अपना ही अपमान है।

-१:०५ p.m.

अब समय मेरे लिए महत्वहीन है। मैं काल (समय) से पर अनंत में जीने लगा हूँ, समय तो सापेक्षिक मापदंड है और सापेक्षिकता भ्रम है सत्य का।

-१:१५ p.m.

मेरी बातें अगर आपके ह्रदय में शूल की भांति चुभकर आपकी वेदना बढ़ाए तो इन पृष्ठों को बंद करके न रख दें, ये न समझें कि ये मार्ग आपके लिए नहीं है, बल्कि केवल तभी आप इस मार्ग पर चलने के सच्चे अधिकारी हो पाएंगे। वेदना बढे, प्यास बढे, जिज्ञासा बढे तो समझें कि आप भी सत्य की खोज कर सकते हैं। सत्य अपने उम्मीदवारों की इन कड़ी वेदनाओं से परीक्षा लेता है कि कहीं आप भी भगौडे तो नहीं जो आगे मैदान छोड़कर भाग जाएं इसलिए वह आपको वेदनाओं से जांचता-परखता है।

-१:३० p.m.

पहले मैं समझता था कि हर कार्य को करना हर किसी के लिए संभव नहीं। जो जिस कार्य के लिए बना है, वही कर सकता है। मैं सही था परन्तु अब मेरी इस समझ में आंशिक परिवर्तन  आया है कि हर आदमी का एक अलग स्तर होता है और हर आदमी अपने ही स्तर का कार्य दक्षता पूर्वक कर सकता है। निचले स्तर का व्यक्ति उच्च स्तर के कार्य को करने का ढोंग बस कर सकता है वास्तविक रूप से उसे वह तब तक नहीं कर सकता जब तक कि उसका स्तर उस कार्य के स्तर के बराबर न हो जाए। कच्चे घड़े में पानी भरने का अंजाम क्या होगा ये बताने की आवश्यकता नहीं है।

मैं अनुभव कर रहा हूँ कि जिसकी अंतर्चेतना जागृत हो जाए, जिसकी अंतर्दृष्टि जाग्रत हो जाए उसे बाहर के ज्ञान की आवश्यकता नहीं रह जाती, उसका ह्रदय ही अथाह ज्ञान का स्त्रोत बन जाता है।

-१:४५ p.m.

मैं शनैः-शनैः महात्मा बुद्ध, स्वामी विवेकानंद और ओशो के बताए अनुभवों पर पहुंचता जा रहा हूँ, पर किसी के अनुभवों को प्रत्यक्ष किये बिना स्वीकारना ढोंग होता है इसलिए पहले अपने कच्चेपन में मैं इन्हें स्वीकार करने का साहस नहीं जुटा पा रहा था, पर अब ये प्रत्यक्ष हैं, अब इन्हें किसी तर्क, किसी दलील, किसी साक्ष्य, किसी वाद-विवाद की आवश्यकता नहीं। ये अपने-आप में परिपूर्ण हैं।

-१:५५ p.m.

प्रवंचना महा-अपराध है, स्वयं के साथ भी, दूसरों के साथ भी।

मैं अपने आप में गौरवान्वित हूँ कि मुझमे साहस है सत्य के मार्ग पर चलने का, सत्य की खोज करने का।

-२:१० p.m.

आज मुझे अपने नाम की सार्थकता पर तनिक भी संदेह नहीं रहा क्योंकि अब मुझे मेरा लक्ष्य दिखाई देने लगा है।

-२:२० p.m.

मेरी धड़कनें अब मेरे लिए ताल बन गईं हैं और मेरी सांसें मेरे लिए किसी बांसुरी की स्वर-लहरियां। ये दोनों मिलकर मेरे शरीर के रोम-रोम में रोमांच भर रहे हैं, प्रकम्पित कर रहे हैं मेरे अस्तित्व को, और एक मधुर अलौकिक संगीत उत्पन्न कर रहे हैं। आज पहली बार अनुभव कर पा रहा हूँ मैं सत्य की सुंदरता को जो बाहर से कुरूपता दिखाई देती है।

मैं धीरे-धीरे अपने प्रगतिपथ पर अग्रसर हुआ जा रहा हूँ पर इसमें मेरी सफलता नहीं, मेरी सफलता तो उस परमसत्य की उपलब्धि में होगी।

-२:३८ p.m.

प्यास लगने पर ही पानी की उपयोगिता तथा महत्त्व समझ में आता है, इसी तरह सच्ची प्यास के बिना आप ज्ञान की उपयोगिता नहीं जान सकते, उसका महत्त्व नहीं समझ सकते। सच्ची जिज्ञासा के बिना ज्ञान निरर्थक है, अग्राह्य है।

सत्य को दावों और साक्ष्यों की आवश्यकता नहीं, वह अपने आप में परिपूर्ण है, प्रत्यक्ष है, और यही पर्याप्त है सत्य के लिए। सत्य ये नहीं कहता की मुझ पर विश्वास करो बल्कि वह कहता है कि मुझ पर अविश्वास करो तभी तुम सच्चा सच जान सकोगे। वह कहता है कि मुझे कसौटी पर परखो और तुम खुद ही जान लोगे सत्य का सत्य।

-२:५४ p.m.

मुझे दुख होता है कि लोग अज्ञान वश सत्य को देख ही नहीं पाते बल्कि उसका मजाक उड़ाते हैं और सत्य की राह दिखाने वाले को पागल समझ उसे पत्थर मारते हैं, उसे सूली पर चढ़ाते हैं, उसे फांसी पर लटकाते हैं, उसे जिन्दा जलाते हैं पर सत्य तो निर्भय होता है, हर परिस्थिति में।

-३:३० p.m.

जब उस सत्य की दूर से एक झलक ही इतनी शक्तिशाली है तो वह परमसत्य क्या होगा?

-३:४० p.m.

लोग अज्ञात से डरते हैं, खोने से डरते हैं, मिटने से डरते हैं इसलिए सत्य को पाने का साहस नहीं जुटा पाते।

-४:०० p.m.

कामवासना या सेक्स की अनुभूति अज्ञान मूलक निषेध का आकर्षण है, एक आवेग है जो भीतरी शक्ति की प्रबलता से तब उत्पन्न होता है जब इस शक्ति का व्यय या रूपांतरण नहीं हो पाता।

-५:१० p.m.

लोग मानेंगे या नहीं? इसकी मुझे परवाह नहीं, मैं सत्य को प्राप्त कर लूं, यही पर्याप्त होगा।

-८:२५ pm

अपने मन की व्याकुलता मैं किसी से नहीं कह सकता। लोगों के सामने जाने पर ऐसा लगता है, जैसे अभिनय करना पड़ रहा है, संवाद बोलने पड़ रहे हैं, हंसना पड़ रहा है, पर सब अभिनय है, सब झूठ, तो क्या करूँ? अपने आप को कैद कर लूँ कमरे में? शायद यही उचित होगा।

ये कैसी स्थिति में आ गया हूँ मैं? ये कैसी विवशता है? ये कैसा एकाकीपन है? ये कैसा उन्माद है? जो मेरे मन में क्षोभ और अकुलाहट को बढ़ाते जा रहा है। मिथ्याचार करना नहीं चाहता लेकिन करना पड़ रहा है, एक अभिनय के रूप में वह सब कुछ, जो मन नहीं चाहता। मैं विवश हूँ क्योंकि लोग सदाचार को तमाशे की तरह देखते हैं, सुनते हैं, गुनते हैं या फिर मेरा पागलपन और किताबी उन्माद समझते हैं। वे यही समझते हैं जो मैं बोलना या व्यक्त करना नहीं चाहता और वह नहीं समझते जो मैं बताना चाहता हूँ। मेरी व्यथा कोई नहीं समझ सकता, कोई नहीं।

-८:३० pm

हर दिन आइना देखने पर प्रश्न उठता है कि क्या ये वही व्यक्ति है, जो कल था? नहीं, मैं हर पल बदल रहा हूँ।

-८:५० pm

कभी कभी ये सत्य की खोज एक रोग की तरह बोझ प्रतीत होती है, पर नहीं, पीछे हटना मेरा स्वभाव नहीं, कायरता मेरा स्वभाव नहीं, शक्ति ही मेरा सत्य रूप है। शक्ति ही मेरा निरपेक्ष रूप है।

-९:१५ pm.

मैं दूसरों के लिए आज से मृतप्राय हूँ, केवल अपने लिए ही जीवित हूँ, इससे अच्छा समाधान और कुछ नहीं हो सकता।

-९:१५ pm.

मुझे अपनी पराजय का भी डर नहीं क्योंकि पराजित होने के बाद भी मेरे सामने सत्य ही होगा, जिसे मैं आसानी से गले लगा सकूँगा और इस स्थिति में भी मेरी जीत ही होगी।

-९;३० pm.

यह संसार कितना झूठा है कि सत्य को भी सरलता से स्वीकार नहीं कर सकता। इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि यह संसार मेरी बातें इतनी आसानी से न माने। अगर यह संसार मेरी बातों को आसानी से मान लेगा तो यह अस्त-व्यस्त हो जाएगा, इसमें खलबली मच जाएगी, इसके धार्मिक क्रियाकलाप रुक जाएंगे, वर्षों के, सदियों के विश्वास पर बनी झूठी धर्मों की इमारतें धराशायी हो जाएंगी अतः मेरी बातों का यथासंभव खंडन ही होगा। मैं इसके लिए भी तैयार हूँ क्योंकि मैं जानता हूँ कि खंडन से तथ्य और भी अधिक मजबूत होते हैं और एक दिन सत्य के रूप में संसार के सामने आते हैं। सत्य तो वह आग है, जिसे कोई पर्दा नहीं छुपा सकता इसे ढंकने के सारे प्रयत्न व्यर्थ हैं, जब यह आग भड़केगी तो हर परदे को जलाकर, हर चुनौती को तोड़कर सत्य सामने आएगा। मेरे मरने के बाद भी।                                               -९:५५ pm.

यहाँ एक प्रश्न ये उठता है कि अगर सत्य एक आग है तो अभी तक संसार के सामने आया क्यों नहीं?

इसका उत्तर भी है मेरे पास, वह यह कि सत्य की पवित्र अग्नि इस समय झूठ, फरेब, छल, कपट, अन्धविश्वास, आडम्बर, पाखंड और प्रवंचना की राख के पीछे एक चिंगारी के रूप में दबी हुई है और मेरा काम, मेरा मकसद इस चिंगारी को भड़काकर अग्नि की प्रचंड लपटों में बदलना है। इसके लिए संसार से लड़ने का साहस वांछनीय है, जो मेरे भीतर मौजूद है। यह संसार एक जंगल राज है, यहाँ वन-कानून चलता है। यहाँ विद्रोह करने वाले की गर्दन उड़ा दी जाती है, इसके लिए भी मैं सहर्ष प्रस्तुत हूँ क्योंकि अब मेरा लक्ष्य ही मेरा अस्तित्व है और साहस ही मेरा कर्तव्य। मरते समय भी मेरा सिंहनाद ‘सत्य’ ही होगा।

-१०:०० pm.

सत्य की यात्रा में मेरी गति इतनी जल्दी इतनी तीव्र हो जाएगी ऐसा सोचा भी नहीं था।

सत्य ही मेरा नया धर्म है, सत्य ही नया मजहब। साहस ही इसकी एकमात्र आराधना है, पूजा है, इबादत है। सत्य व्यक्तिगत, व्यक्तिपरक धर्म है, सामूहिक नहीं। सच्चा धर्म कभी भी सामूहिक नहीं हो सकता और यदि किसी ने इसे सामूहिक बनाना चाहा तो बहुत जल्दी इसका दम घुट जाएगा और शीघ्र ही यह मर जाएगा और लोग इसी तरह मुर्दे की पूजा करते रहेंगे जैसे अन्य धर्मों की कर रहे हैं।

-९:४५ pm.

मेरा मैं कहाँ चला गया ? मेरी कलम से ये बातें कोई और उगलवा रहा है। जब मैं ये बातें लिखता हूँ तो मेरा अस्तित्व मिट जाता है। ‘मैं’ विलीन हो जाता है उस अनंत ब्रह्माण्ड में कहीं पर, ‘मैं’ नहीं रह जाता मेरे अंदर कहीं भी। ये कैसा जादू है ? कैसा तिलिस्म है?

कौन समझाएगा मुझे?

-१०:२५ pm.

समय का आभास नहीं, शरीर का एहसास नहीं, भूख-प्यास यहाँ तक कि व्याकुलता का भी आभास नहीं, ये कैसी व्याकुलता है मेरे अंदर?

कौन समझाएगा मुझे ?

-१०;३० pm.

कौन आकर बस गया है मेरे अंदर, जो अनंत ब्रम्हांड के सूक्ष्म रहस्यों को मेरी कलम से उद्घाटित करना चाहता है?

कौन बताएगा मुझे?

-१०:४० pm.

वह क्या है जो पिछले सात दिनों से पारे की तरह बह रहा है मेरी शाश्वत आत्मा के भीतर और इसे खंगाल रहा है? इसे निचोड़ रहा है?

कौन बताएगा मुझे?

-१०:४२ pm.

वह कौन है, जो ऋचाओं की तरह सत्य के टुकड़े-टुकड़े करके डाल रहा है मेरे कानो में?

कौन बताएगा मुझे?

-१०:४५ pm.

एक शक्ति है, जो मुझे दौड़ा-दौड़ा कर थका डाल रही है, क्लांत कर रही है, मुझे विराम में बिठा देना चाहती है और दूसरी शक्ति है जो मुझे बैठने नहीं देती, मुझे और तीव्र गति से भागने पर विवश कर रही है? ये मैं किन शक्तियों के खेल में उलझकर रह गया हूँ?

कौन बताएगा मुझे?

-१०:५० pm.

इतनी शक्ति का तो अनुमान भी नहीं किया था मैंने, शक्ति का प्रबल आवेग मेरे लिए असह्य हुआ जा रहा है, मुझे मथे जा रहा है मक्खन की तरह। कहाँ से पैदा हो गईं अचानक ये शक्तियां अचानक मेरे अंदर?

कौन बताएगा मुझे?

-१०:५८ pm.

ये मेरी समस्याओं का समाधान है कि समस्याओं का एक और नया विस्फोट?

कौन समझाएगा मुझे?

-११:१० pm.

ऐ मेरे मन! ऐ मेरे हृदय! कहाँ जाकर सो गए तुम, मुझे इन विकराल समस्याओं का ग्रास बनने के लिए, इनके बीच अकेला छोड़कर? क्या ये उन पाषाण प्रतिमाओं के आगे सर न झुकाने का ही परिणाम है?

नहीं, मैं नहीं मान सकता। अगर सचमुच ही ऐसी कोई शक्ति है तो आकर मुकाबला करे मुझसे, मेरे प्रश्नो के उत्तर दे, अपने अपराधों की सफाई दे। मगर नहीं, ये उन पाषाण प्रतिमाओं की अवहेलना का परिणाम नहीं हो सकता क्योंकि इस स्थिति में भी मैं सत्य की तरफ हूँ और अगर सच्चा ईश्वर भी सत्य का साथ न दे तो वह ईश्वर ही नहीं। ओह! ये ईश्वर फिर कहाँ से आ गया मेरे और सत्य के बीच में।

उस पाषाण प्रतिमा के आगे सर झुकाते-झुकाते वास्तविक रूप में मैं उस सत्य रुपी सांप के बिल पर पैर दिए हुए था। अब यह बिल में से बाहर निकल आया है, फुंफकार तो मारेगा ही। इससे मुझे कदापि विचलित नहीं होना चाहिए।

अब तक मैं शक्ति की शक्ति को न जानकार शक्ति का आह्वान करता रहा, अब मैं जान गया हूँ शक्ति की शक्ति को।

-११:२५ pm.

अब मैं महसूस कर रहा हूँ, तूफ़ान के बाद की शांति को, नवम्बर की ठण्ड में पसीने के साथ।

-११:३५ pm.

निर्दोषता कोई पाप नहीं लेकिन निर्दोषता में छिपी निर्बलता पाप है। बल और साहस के बिना मनुष्य तुच्छ कीट-पतंगे के समान है। फिर उसका कीट-पतंगे की तरह हश्र होने पर, कीट-पतंगों की तरह मसले जाने पर कोई आश्चर्य नहीं। प्रकृति ने इस सृष्टि का विभाजन एक ही आधार पर किया है और वो आधार है -शक्ति।

-११:५४ pm.