Monthly Archives: May 2016

Discovery of the truth…11 (सत्य की खोज…11)

Adventure of the Truth…

Discovery of the truth…11

November25, 2003, Tuesday,

You do whatever you feel appropriate, let others do whatever they feel appropriate, just remember that your task should not interfere any other’s task, other’s belief should not be broken because of you, even if it may be false belief.

This path is not for everyone, anyone can not be dragged by force on this path. Who is coming willingly, let them come.  Don’t do perversion by dragging someone forcefully on this path. If you are confident that you can walk on the path only then you enter in it otherwise by going this route incompletely you will not remain anywhere. So neither you will find the truth nor be able to go back so be careful that your decision is not the result of any huff. This path is full of dangers, one who have the courage to take the risk; those only can walk on this path. The path can be walked alone; no one except your courage will stand by with you. So if you are afraid of loneliness or afraid of losing yourself, so do not give any attention towards it, because it is the religion of a courageous warrior, this is a war, to get power from power, there is no place for cowards and quitters.

-12:12 a.m.

So far I’ve defeated every evil coming on the path and the next I have to be more careful.

-12: 15 a.m.

I have full faith in my powers because I have killed already myself and my fear before step on this path. I am walking on this path shroud shackled head, now I have neither greed of life nor the fear of separation from kin.

-12: 22 a.m.

Lie needs Publicity, truth does not need any publicity, it arrives itself to the right successor.

-12: 17 a.m.

Frightful surprise! Still I have imprisoned my inner powers in seven locks by tying with a rope named God. These locks were – Rules, worship, superstition, ancient dogmas, time, destiny (fate) and the biggest lock my infirmity, my inability, my pessimism.

Now my inner power is free from these shackles, and is supporting me. You just cannot believe on my power, I don’t say even to believe; if possible, you just break your locks, cut the rope named God and See yourself your strength.

-12:35 a.m.

Today I am able to reflect the king in myself, who is going to invade the external power by filling the pith of courage in his eyes, in his arms and in his spirit to expand his power.

-12: 45 a.m.

Do not be afraid of conflict. Conflict is the process of increasing your strength.

-12: 45 a.m.

The power knows only how to struggle, it doesn’t know surrender. The power is a long chain, on getting one end the links easily get caught up.

-12: 57 a.m.

The door of my heart has opened, a divine light is glinting from inside.

-12: 55 a.m.

Now I have not longing for any intercourse, now I have to have intercourse with that power. I have to embrace that power; I have to crimp that power in the loop of my arms.

-1: 00 A.m.

Sense of worship makes you weak while sense of courage makes you powerful. You decide yourself, whom you have to choose.

-1:02 a.m.

No value of the life before the truth.

-1:02 a.m.

The observation of the truth, that’s the only way to overcome every adversity, to overcome all sorrow.

-7: 35 a.m.

Do not mistake to fight with others assuming just the physical force to the power. Otherwise you will harm both him and yourself. Power is – inner strength, courage and self-confidence. You do not have to fight anyone; you have to fight against yourself.

Remember, anger is weakness, not the strength. Abuse is not a symbol of power, it’s a symbol of weakness. Violence is not strength, it is faltering; reveal that the man himself is frightened by how much, how much is he afraid of himself.

-7: 55 a.m.

If physical force would be the only means of power then now wrestlers should be ruling on this world.

-8: 17 a.m.

Non-violence does not mean that we should leave to retaliate the evil but when you need to use force to defend truth and justice can be done; even the life can be gamble.

Orgy of power within me is now becoming a dance to me.

-12: 25 a.m.

Nothing is frightful sin more than infirmity, whose punishment has to suffer immediately.

-8: 32 a.m.

My everything has changed, everything… my inner world has gleamed up by the light of truth, it has filled with aroma of power. The shining of the world is appearing faded before the shining of truth.

-9: 15 a.m.

The shine of sun is also dull before the shine of the truth .

-9: 25 a.m.

The man is like a coconut, the outer shell is the so-called religion and he collides within the shell and makes the sound of colliding, he produces sound that I am Hindu, I am Muslim, I am a Sikh, I’m Christian but the outer shell is not the actual coconut, the real coconut is the ball situated inside, we break and throw the outer shell. We cannot know our usefulness without breaking the shell, cannot know our sweetness. We can only sense our false firmness and hardness.

-9: 40 a.m.

You speak in your praise, prayer, worship that O Lord! Give me strength, give me force, give me wit, give me lore. He is also willing to give (because the power is everywhere in the world) but you do not accept, do not embrace that power and rote the same thing like a parrots. Even it is not easy to accept. It also requires courage to handle that power, which is not within you. Cramming is comfortable for you, like the parrot. So you do the same.

10:13 a.m.

First I was running distraught by the frequent insufferable injury of the whip of afflictions but now I am running to my destination full of strength and courage, like a race horse.

-10: 57 a.m.

I can feel that how lonely the truth will be, but where alone, his daughter strength will be there along with him.

-11: 23 a.m.

How else can I make my bride? How can I marry someone else and make her my wife? In this world, all are little girls, laughing, playing, shrieking, playing the game of home and making marriages of dolls. My bride is the strength, who is waiting for me sitting at her father truth’s home.

-11: 40 a.m.

Strength is emerging like flames of fire through every pore of my body, through my nostrils in the form of expiratory flames. My every pore is vibrating with this strength. The strong force is breathing fire in my heart. The stormy strength is breathing fire in my heart.

My ears have become very sensitive, microcosm of the voices is clearly heard, micro voices can be heard loudly.

-12:10 p.m.

Light of outer world cannot please them who are filled with darkness within.

-12:40 p.m.

Today the mind is saying, ‘nowhere should be waste in the world. Clean the entire world like your mind, shine this also like your mind with the broom of your confidence.’

Every action has become knowledge for me.

-12: 55 p.m.

Now my every day is discovering a new paradise for me.

1:15 p.m.

I did not imagine so many colors even in my dream, as much are now glimpsing from my life.

1:18 p.m.

‘Proudly say we are Hindus,’ I cannot do the slogan because I’ve become free from all religious bondage. To be proud on Hindu, Muslim, Sikh, Christian is false. These religions are not eternal, are relative. You cannot tell what you were in your past life and what will be in the next life. These conventions are relative to you. If you want to give the true shout proudly say – “I’m brave, I am the truth, I am free from all the lies,” but not like a parrot, after the experience.

-1:30 p.m.

Now even I am watching a reality behind the acting of the characters of the play in the world that every act is the copy of the truth.

-1:40 p.m.

Perfection of life can never give rise to a new life.

I would like to say once again that do not put my sayings in the category of prejudices, Tied-bound route cannot take you to the truth ever because the truth is gone from there, person who is running ahead you adopted it already. Each person has to make a new route to get to the truth.

-1: 55 p.m.

The world has only one principle – Show work, get faith. The world cannot trust you without seeing your work. But as I have said already that these principles subsequently die, this belief is also a relative truth, the illusion of truth is not the truth.

-2: 05 p.m.

I put the incense stick still but not to please God or to worship him but to fill my soul with the fragrance of happiness.

-2: 10 p.m.

My prior Sadness of dissatisfaction has now become the glow of confidence.

-2:15 p.m.

If you will see the sky of truth within the narrow well of mind then you will see the sky only equal to mouth of the well. To direct the vastness of sky of the truth you will have to come out of the narrow well of the mind. And you have to come out of the mind on the vast open plain.

-3: 35 p.m.

Austerity and self control get distract in crowd so save yourself from the crowd.

-3:40 p.m.

That exists today, can break tomorrow except the true will power. Lion remains a lion even when injured but becomes more powerful.

-4: 05 p.m.

Logic of the arguments wears the robe of truth to a false so beware of arguments.

Strength of the truth makes it dangerous if it is misused.

-4: 20 p.m.

Even delicious sweet does not taste delicious if the stomach is completely filled and there is not even the slightest appetite. Similarly, even true wisdom can’t sense the true if there is no true curiosity, true thirst and true yearning for the truth.

-4: 33 p.m.

Feel gratitude of that power identifying it in yourself, due to which you have not given birth from the vagina of insects or dogs. Recognize the power within yourself otherwise even having the human body you will live like these small creatures.

-4: 40 p.m.

Life is burning like a pyre but I am happy that its ashes will avail for people.

-8: 45 p.m.

There is very subtle difference between Joy and happiness. Joy is momentary impulse while happiness is everlasting spirit. Joy is impulse and happiness is nature. Happiness is not the synonym of joy but is the synonym of bonhomie.

-9: 40 p.m.

(अंतर्यात्रा)

सत्य की खोज…11

25 नवंबर २००३

 जो तुम्हे उचित लगे वो तुम करो, जो दूसरों को उचित लगे वो उन्हें करने दो। बस इतना ध्यान रहे कि तुम्हारे किसी कार्य से किसी के कार्य में बढ़ा न पहुंचे, तुम्हारे कारण किसी का विश्वास खंडित न हो, भले ही वह झूठा विश्वास क्यों न हो।

हर कोई इस मार्ग के लिए नहीं बना है, किसी को भी बलपूर्वक घसीटकर इस मार्ग पर नहीं लाया जा सकता। जिन्हे स्वयं आना है, उन्हें आने दो। किसी को जबरदस्ती इस मार्ग पर घसीट कर अपना और उसका अनर्थ मत करो। यदि तुम्हे स्वयं पर पूर्ण विश्वास है कि तुम इस मार्ग पर चल सकते हो तो ही इसमें प्रवेश करना अन्यथा इस मार्ग पर अधूरी यात्रा करके तुम कहीं के न रहोगे, न तो तुम सत्य को ही पा सकोगे, न ही वापस जा सकोगे इसलिए ध्यान रहे कि तुम्हारा निर्णय किसी आवेश का परिणाम न हो। यह मार्ग खतरों से भरा है, जिनमे जोखिम उठाने का साहस है, वे ही इस मार्ग पर चल सकते हैं। इस मार्ग पर अकेले ही चला जा सकता है, तुम्हारे साहस के सिवा और कोई न होगा तुम्हारा साथ देने वाला। अतः यदि तुम अकेलेपन से डरते हो या स्वयं को खो देने से डरते हो तो इसकी तरफ ध्यान भी मत देना क्योंकि यह एक साहसी योद्धा का धर्म है, यह एक युद्ध है, शक्ति से शक्ति को पाने के लिए, कायरों, डरपोकों और भगौड़ों के लिए इसमें कोई जगह नहीं।

-12:12 a.m.

अब तक रास्तों पर आने वाली हर विपत्ति को मैंने परास्त कर दिया, अब आगे मुझे और भी सावधान रहना होगा।

-१२:१५ a.m.

मुझे अपनी शक्तियों पर पूरा विश्वास है क्योंकि मैंने स्वयं को तथा अपने भय को इस मार्ग पर कदम रखने से पहले ही मार डाला। मैं सिर पर कफ़न बाँध कर चल रहा हूँ इस मार्ग पर, अब न तो मुझे प्राणो का लोभ है और न ही परिजनों से विछोह का भय।

-१२:२२ a.m.

झूठ को प्रचार की जरूरत होती है, सत्य को किसी प्रचार की जरूरत नहीं होती, वह स्वयं ही आ पहुँचता है, सत्पात्र के पास।

-१२:१७ a.m.

घोर आश्चर्य कि मैंने अब तक अपनी भीतरी शक्तियों को ईश्वर नाम की रस्सी से बाँध कर सात तालों में कैद करके रखा था, ये ताले थे – नियम, पूजा, अन्धविश्वास, पुरातन रूढ़ियां, समय, प्रारब्ध (भाग्य) और सबसे बड़ा ताला अपनी दुर्बलता का, अपनी असमर्थता का, अपनी अक्षमता का, अपनी निराशावादिता का।

अब मुक्त हो चुकी है मेरी अन्तर्शक्ति इन बंधनों से, और मेरा सहयोग कर रही है। आप रंच मात्र भी विश्वास नहीं कर सकते मेरी इस शक्ति पर, मैं कहता भी नहीं की विश्वास करें, बस हो सके तो आप भी अपने ताले तोड़ दें, ईश्वर नाम की रस्सी को काट दें और फिर स्वयं देखें अपनी शक्ति को।

-१२:३५ a.m.

आज मैं स्वयं में उस राजा को परिलक्षित कर पा रहा हूँ जो अपनी शक्ति का विस्तार करने के लिए अपने नेत्रों में, अपनी भुजाओं में और अपनी आत्मा में साहस का रस भर कर बाहरी शक्ति पर आक्रमण करने जा रहा है।

-१२:४५ a.m.

संघर्ष से मत डरो। संघर्ष तुम्हारी ताकत को बढ़ाने की प्रक्रिया है।

-१२:४५ a.m.

शक्ति तो संघर्ष जानती है समर्पण नहीं। शक्ति एक लम्बी श्रृंखला है जिसका एक सिर पकड़ में आ जाने पर बाकी कड़िया सरलता से मिलती जाती हैं।

-१२:५७ a.m.

मेरे ह्रदय के द्वार खुल चुके हैं, एक दिव्य प्रकाश अंदर से बाहर झलक रहा है।

-१२:५५ a.m.

मुझे अब किसी सम्भोग की लालसा नहीं, अब मुझे सम्भोग करना है उस शक्ति से। मुझे आलिंगन में बांधना है उस शक्ति को, अपने बाहुपाश में समेटना है उस शक्ति को।

-१:०० a.m.

पूजा भाव तुम्हे निर्बल बनाता है और साहस का भाव तुम्हे शक्तिशाली। तुम स्वयं निर्णय करो, तुम्हे किसे चुनना है।

-१:०२ a.m.

प्राणो का कोई मूल्य नहीं सत्य के आगे।

-१:०२ a.m.

सत्य का दर्शन, बस यही एकमात्र उपाय है हर विपत्ति, हर दुःख को दूर करने के लिए।

-७:३५ a.m.

शक्ति को सिर्फ शारीरिक बल समझकर किसी से लड़ने मत बैठ जाना वर्ना अपना और उसका दोनों का अहित कर बैठोगे। शक्ति है – आतंरिक बल, साहस, आत्मविश्वास। तुम्हे और किसी से नहीं लड़ना है, स्वयं से संघर्ष करना है।

याद रखना, क्रोध शक्ति नहीं दुर्बलता है। अपशब्द शक्ति का नहीं, दुर्बलता का प्रतीक हैं। हिंसा शक्ति नहीं, दुर्बलता है, जो यह प्रकट करती है कि आदमी स्वयं से कितना भयभीत है, स्वयं से कितना डरा हुआ है।

-७:५५ a.m.

शक्ति का तात्पर्य यदि केवल शारीरिक बल से होता तो अभी पहलवान इस दुनिया पर शासन कर रहे होते।

-८:१७ a.m.

अहिंसा का अर्थ ये नहीं कि बुराई का प्रतिकार करना ही छोड़ दें बल्कि आवश्यकता पड़ने पर सत्य और न्याय  की रक्षा के लिए बल प्रयोग भी किया जा सकता है, प्राणों को भी दांव पर लगाया जा सकता है।

मेरे भीतर चल रहा शक्तियों का तांडव अब मेरे लिए भी नृत्य बनता जा रहा है।

-१२:२५ a.m.

दुर्बलता से भयंकर पाप और कोई नहीं, जिसका दण्ड तुरंत भोगना पड़ता है।

-८:३२ a.m.

मेरा सब कुछ बदल गया, सब कुछ। मेरा अंतर्जगत सत्य के प्रकाश से जगमगा उठा, शक्ति की महक से गमक उठा, इसकी चमक के आगे मुझे संसार की चमक फीकी दिखाई देती है।

-९:१५ a.m.

इस सूर्य की चमक भी फीकी है उस सत्य की चमक के आगे।

-९:२५ a.m.

आदमी एक नारियल की तरह है, जिसका बाहरी आवरण तथाकथित धर्म है और वह भीतर से इसी आवरण से टकरा-टकरा कर गडगडाता  है, आवाज पैदा करता है कि मैं हिन्दू हूँ, मैं मुसलमान हूँ, मैं सिख हूँ, मैं इसाई हूँ, पर वह आवरण तो वास्तविक नारियल नहीं होता, वास्तविक नारियल तो अंदर का गोला होता है, आवरण को तो हम तोड़ कर फेंक देते हैं। बिना उस आवरण के टूटे हम अपनी उपयोगिता नहीं जान सकते, अपनी मिठास नहीं जान सकते। केवल अपनी दृढ़ता और कठोरता का ही झूठा आभास कर सकते हैं।

-९:४० a.m.

आप स्तुति, प्रार्थना, इबादत, प्रेयर में बोलते हैं कि हे प्रभु शक्ति दो, बल दो, बुद्धि दो, विद्या दो।  वह तैयार भी रहता है देने के लिए (क्योंकि शक्ति तो संसार में सर्वत्र है ) परन्तु आप स्वीकार नहीं करते, अंगीकार नहीं करते उस शक्ति को और तोते की तरह वही रटते जाते हैं। स्वीकार करना सहज भी नहीं है। इसके लिए भी साहस चाहिए, उस शक्ति को सँभालने का, जो आपके भीतर नहीं होता। आपके लिए वही तोते की तरह रटना सहज होता है इसलिए आप वही किये जाते हैं।

१०:१३ a.m.

पहले मैं वेदनाओं के कोड़े की लगातार होने वाली असह्य चोट से व्याकुल होकर दौड़ लगा रहा था पर अब मैं बल, शक्ति और सहस से भरा दौड़ लगा रहा हूँ, अपने लक्ष्य की ओर, रेस के घोड़े की तरह।

-१०:५७ a.m.

मैं अनुभव कर सकता हूँ कि सत्य कितना अकेला होगा, पर अकेला कहाँ, उसके साथ तो उसकी बेटी शक्ति होगी।

-११:२३ a.m.

कैसे किसी और को अपनी दुल्हन बन लूँ? कैसे किसी और से शादी करके उसे अपनी पत्नी बन लूँ? इस संसार में तो सब नन्ही बालिकाएं हैं, हंसती खेलतीं, किलकारियां मारतीं, घरघूला खेलतीं,गुड्डे और गुड़ियों का ब्याह रचातीं। मेरी दुल्हन तो शक्ति है जो अपने पिता सत्य के घर में बैठी मेरी प्रतीक्षा कर रही है।

-११:४० a.m.

शक्ति मेरे अंग-प्रत्यंग से अग्नि की लपटों के समान निकल रही है, मेरी नासिका द्वार से निःश्वास के शोलों के रूप में निकल रही है। मेरा रोम-रोम प्रकम्पित हो रहा है इस शक्ति से। मेरे ह्रदय में धधक रही है यह प्रचण्ड शक्ति।

मेरे कान अतिसंवेदनशील हो गए हैं, सूक्ष्म जगत की आवाजें भी स्पष्ट सुनाई दे रही हैं, सूक्ष्म से सूक्ष्म आवाज़ें भी तेजी से सुनाई पड़ने लगी हैं।

-१२:१० p.m.

जिनके भीतर अंधकार भरा हो उन्हें बाहर का उजाला भी नहीं भाता।

-१२:४० p.m.

आज मन कह रहा है कि दुनिया में कहीं भी कचरा न रहने पाए। साफ़ कर दो सारी दुनिया को अपने मन की तरह, चमका दो इसे भी अपने मन की तरह, अपने आत्मविश्वास की झाड़ू से।

अब मेरे लिये हर क्रिया ज्ञान हो गई है।

-१२:५५ p.m.

अब मेरा हर दिन मेरे लिए एक नए स्वर्ग की खोज है।

-१:१५ p.m.

इतने रंगों की तो मैंने स्वप्न में भी कल्पना नहीं की थी, जितने अब मेरे जीवन से झलक रहे हैं।

-१:१८ p.m.

‘गर्व से कहो हम हिन्दू हैं,’ मैं नहीं कर सकता यह उद्घोष क्योंकि मैं मुक्त हो चुका हूँ समस्त धार्मिक बंधनों से। हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई होने पर गर्व मिथ्या है। ये धर्म शाश्वत नहीं हैं, सापेक्षिक हैं। आप नहीं बता सकते कि आप पूर्वजन्म में क्या थे और अगले जन्म में क्या होंगे। ये परिपाटियां सापेक्षिक हैं आपके लिए। यदि सच्चा उद्घोष ही करना चाहते हो तो गर्व से कहो – ‘मैं साहसी हूँ, मैं सत्य हूँ, मैं मुक्त हूँ असत्य से’ लेकिन किसी तोते की तरह नहीं, अनुभव करने के बाद।

-१:३० p.m.

अब मैं इस संसार के नाटक के पात्रों के अभिनय के पीछे भी एक सत्य देख रहा हूँ कि यह अभिनय सत्य की ही नक़ल है।

-१:४० p.m.

जीवन का पूर्णत्व कभी नए जीवन को जन्म नहीं दे सकता।

मैं एक बार फिर कहना चाहूंगा कि मेरी बातों को पूर्वाग्रहों की श्रेणी में न रखें, बंधे-बंधाए मार्ग आपको कभी सत्य तक नहीं ले जा सकते क्योंकि वहां से सत्य जा चूका होता है, आपसे पहले चलने वाला व्यक्ति उसे आत्मसात कर चुका होता है। हरेक व्यक्ति को एक नया मार्ग बनना है, सत्य को पाने के लिए।

-१:५५ p.m.

दुनिया का एक ही सिद्धांत है – काम दिखाओ, विश्वास पाओ। आपका काम देखे बिना दुनिया आप पर विश्वास नहीं कर सकती लेकिन जैसा कि मैं पहले ही कह चुका हूँ कि ये सिद्धांत भी आगे चलकर मर जाता है क्योंकि यह विश्वास भी सापेक्षिक सत्य होता है, सत्य का भ्रम होता है, सत्य नहीं।

-२:०५ p.m.

मैं अगरबत्ती अब भी लगाता हूँ लेकिन भगवान् को प्रसन्न करने के लिए या उसकी पूजा करने के लिए नहीं बल्कि अपनी आत्मा को प्रसन्नता की खुशबू से भरने के लिए।

-२:१० p.m.

मेरी पहले की असन्तुष्टि की उदासी अब आत्मविश्वास की चमक बन गई है।

२:१५ p.m.

मन के संकरे कुँए के भीतर से सत्य रुपी आसमान को देखोगे तो आसमान उतना ही बड़ा नजर आएगा जितना की कुँए का मुंह। सत्य रुपी आकाश की विस्तीर्णता को प्रत्यक्ष करने के लिए मन के संकीर्ण कुँए में से खुद को बाहर निकालना होगा और मन के बाहर विशाल खुले मैदान पर आना होगा।

-३:३५ p.m.

आत्मसंयम और आत्मनियंत्रण भीड़ में विचलित होने लगते हैं अतः भीड़ से स्वयं को बचाओ।

-३:४० p.m.

जो आज है वो कल टूट भी सकता है, सिवाय सच्चे आत्मबल के। शेर घायल हो जाए फिर भी शेर ही रहता है बल्कि और अधिक ताकतवर हो जाता है।

-४:०५ p.m.

तर्क असत्य को भी सत्य का जामा पहना देते हैं अतः तर्कों से सावधान रहें।

सत्य की शक्ति ही उसे खतरनाक भी बना देती है यदि उसका दुरूपयोग किया जाए।

-४:२० p.m.

स्वादिष्ट से स्वादिष्ट मिठाई का स्वाद भी पता नहीं चलता यदि पेट पूरी तरह भरा हो और थोड़ी सी भी भूख न हो। इसी प्रकार सच्चे से सच्चा ज्ञान भी सच्चा नहीं लग सकता यदि सच्ची जिज्ञासा, सच्ची प्यास और सच्ची तड़प न हो।

-४:३३ p.m.

उस शक्ति का उपकार मानो, उसे स्वयं में पहचान कर कि उसने हमें कीड़े-मकोड़ों अथवा कुत्तों की योनि में जन्म नहीं दिया। उस शक्ति को पहचानो अपने भीतर अन्यथा मनुष्य शरीर लिए हुए भी इन क्षुद्र जंतुओं की भांति ही जीवन जीते रहोगे।

-४:४० p.m.

जीवन एक चिता की तरह जल रहा है लेकिन मुझे प्रसन्नता है कि इसकी अस्थियां लोगों के काम आएंगी।

-८:४५ p.m.

खुशी और प्रसन्नता में बहुत बारीक अंतर है। ख़ुशी क्षणिक आवेग है जबकि प्रसन्नता चिरस्थाई भाव। ख़ुशी आवेग है और प्रसन्नता स्वभाव। प्रसन्नता ख़ुशी का पर्याय नहीं बल्कि खुशमिजाज़ी का पर्याय है।

-९:४० p.m.

Discovery of the truth…10 (सत्य की खोज…10)

Adventure of the Truth…

Discovery of the truth…10

November24, 2003, Monday

So much excitement! In my search for truth! I am not able to handle the excitement.

-12: 00 a.m.

I’m tired badly in the search for truth. Its fastest motion causing me breathlessness, my brain is not able to decide anything. The body is moving on but the mind is left behind. Mind is sticking on void frequently. The mind wants a break, from the fastest laborious ten-day visit, but spirit says – ‘break? What break? There is no place of break in this journey, and I get entangle in this dangerous game of strength.

The body is not able to cooperate with the brain, Brain is not able to cooperate with the mind, the mind is not able to cooperating with the spirit and my hands are not cooperating with me, my pen started to falter, due to the temblor of the strength.

-12: 20 a.m.

I am experiencing a sphere of power (energy) around me, which walks along with me, wakes along with me, and sleeps along with me. I can feel the consciousness even in sleep. I want, but can’t sleep. a distraction wakes me every time shaking my inner conscience. On waking a strange world appears in front of my eyes and asks me – ‘Who are you?’ I want to answer but the words remains stuck in my throat and then I forget who I am? And then I ask to myself that who I am? But instead of the answer I get the echo of my question – ‘who am I?’

-12:35 a.m.

A bizarre body temperature has kept my breath fast and hot. A bizarre thing wants to get out tearing exactly the central part of my head. Due to a bizarre dizzy my head and my eyes start moving. I try to manage myself and let my eyes rest on any object, but the sight loses in the void between the object and the eyes.

The risk of accidents has increased while riding motor cycle due to this vision blankness, but while riding motorcycle I alert myself frequently to this danger.

Heart beats push abnormally the walls of the heart and sometimes suddenly become faster, sometimes I feel that the heart wants to come out with a low pain tearing the arteries and veins, sometimes gives the impression of a warm touch. The arc of my feet produces surprise while walking and this wonder stand in front of me and asks me – ‘Is there anyone else with you?’ I peer armpit to armpit surprisingly and then I walk ahead repeating the same question – ‘Is there anyone else with me?’

My courage bounces and comes right in front of me and calls -‘come! Come on! Come in front, if you are someone else talk to me including eyes, do not follow me like cowards. If you are power, get merge into me or test me but come out once. The lion behind my head on the wall, as comes out, enters inside me and roar from inside me – ‘Power is the truth.’ And orgy of powers stops.

-11: 10 A.m.

So much secret! In my life?

I had never imagined.

-1:25 a.m.

Does any power that want to intimidate me? Then it should know that I will fight until the last breath but I will not accept defeat and even after death one should ask me-‘Tell, who you are? So my corpse will say – ‘The pursuit of truth.’

-1:30 a.m.

External beauty is transient but the stimulus for our inner beauty

-7: 30 a.m.

Neither I have ever considered any guru nor will I make any disciple. There cannot be any other master greater than our own experiences, our own failings. There cannot be a disciple greater than our sincere curiosity, our own thirst.

-7: 50 a.m.

Sign, convention, limitations, terms these are unimportant to me now, these are meaningless to me because I’ve risen above.

-8: 00 a.m.

What is worship? A high sense of honor, to isht (adorable), but in fact without knowing yourself, without respecting yourself you cannot respect anyone else. So be careful, the person who can respect today, tomorrow he may offend too, the man who makes false worship, tomorrow he could throw the statues and under certain conditions, he often throws.

-5: 15 a.m.

I still see photos of topless women published in newspapers, but not in view of lust but in view of beauty, exactly the same way as someone sees a beautiful flower. I experience exactly the same beauty which you could probably feel at that time, when a little girl comes to you in nakedness.

-8: 35 a.m.

Faith and trust placed in others are often deceived, but confidence could not be cheated.

-8: 46 a.m.

A small wave arose, and then a big wave arose. A small fish plashed, a big fish plashed and small fish went into the mouth of big fish. Big wave became calm with a few drops of blood, Short wave calmed down and everything was calm.

-9: 00 a.m.

At every step you are a stranger for yourself, but not to panic about, guidance of your courage is also with you.

-9: 15 a.m.

Terrible surprise! People imagine a young woman in a little girl and rape with her and for me even a topless young woman seems a little girl.

-9: 53 a.m.

Now I’m not afraid of losing my path. I see a clear path straight.

-9: 38 a.m.

Artificial Beauty can never match the natural beauty; artistic beauty is always an imitation of the scenic beauty.

-10: 02 a.m.

Now I started to enjoy the game of power.

-10:05 a.m.

True curiosities raise our level and make us successor of knowledge.

-10: 12 a.m.

The one get the truth, who opposes the lie, who revolts the untrue, who rebel.

-10:15 a.m.

When I have exempted from all the rules, all the bondages, all restrictions, all the limitations so why not from this cigarette? What is in it? Which keeps me shackled? There is a momentary liberation from suffering; there is a stagnation of the afflictions, there is an acquittal relief from sorrow for a while.

-10: 45 a.m.

Beauty of the inner world is ineffable, indescribable and unimaginable.

-10: 50 a.m.

If the woman is the door to hell then male is the worm of hell. Then the woman is out of Hell and a way to escape from hell but males do not want to avoid her, he feels comfort to go to hell.

-11: 07 a.m.

To abstain is the confusion of abstaining, to undergo is to abstain in the true sense.

My lust has now turned into father’s love. Now in the smile of an old woman I see the innocent smile of her infancy. Seeing laughing teenager girls my fatherhood gets satisfied.

No way to truth, no choice, but to come to me.

-11: 15 a.m.

If the power of the truth shall have within you, then your every action will automatically become worship. Worship occurs, is not performed by action. Worship is an event, not an action.

-11: 20 a.m.

No one can be your ideal greater than yourself, you have to set your ideal yourself.

-11: 32 a.m.

Why does resonating cadence by far feel pleasant, because it matches with your heartbeats. Why does tone of flute feel pleasant, because it matches with rhythm of your breath. Why do you like music, because it is impression of the divinity of your inner music. External music is only a fraction of the imitation of the divinity of your inner world. The real music is your inner world. The music of your outer world is only a model of the music of inner world, only a limited hypothesis of the mysterious inner world.

-12:42 p.m.

If a stone have been lied in the way we say it barrier and if the same stone is weighed down by way we say it path. The difference is only of position, the stone is the same. Path is made on obstacles only. The path is constructed even on obstacles. Put your obstacles way side, it will also become the path.

-1:12 p.m.

Power itself creates the nature, power produces world itself, power itself makes its own path.

-1:15 p.m.

Before I used to think the greatest achievement of world is fame and now for me the value of it is not worth a penny, now for me, the most valuable is the pursuit of truth.’

-1:35 p.m.

It is possible to proceed on the path of truth but it is not possible to turn back.

-4: 00 p.m.

What a surprise! It was me, only a few days before lust danced in whose mind, which used to try Indulge itself by the scenes around it and it is me whose mind now deny recognizing the lust. My mind has satisfied now from the world’s stunts.

First I used to see a macabre of lust and now I used to see the orgy of power.

-5: 14 p.m.

Truth, truth, truth! Nothing else, if the sorrow is truth then let be sorrow, if ignorance is truth the let be ignorance, if disorder is truth then let be disorders. I do not need anything other than the truth.

-5: 30 p.m.

The whips of ideas are going to hit on my mind and brain and I’m going to move forward, struggling with them.

-5: 58 p.m.

What is the thirst of dissatisfaction, which is pushing me all the time in the deep well of sadness?

-6: 20 p.m.

The stone idols, whom I devoutly worshiped a few days ago, mind doesn’t like to negate them. It feels just like a child be sat in solitude upset with his parents over something and they are persuading him lovingly, and calling him. Whenever vision stay on those statues, they attract, calls me near and my emotional mind cries within, the sentimentality wants to shed me on that side, but the next moment my courage  stood in front of me and says –

‘Do you want to flow again into the filthy drains of lies and fraud? The waterfall of bliss is flowing just for you and you want to quench your thirst with water of dirty drain? Truth stands outstretched arms in front of you and you want to go into the same drain leaving the truth? Well, if you can, go, even you try you will not be able to raise even one step that side because a man can move from lie to truth but can never move from truth to lie therefore it is useless to try.’

And then I go ahead, on the deserted, dreary path of the truth, alone, held the burden of my questions, with a resolution that ‘to get to the truth, I will drop everything if needed.’

-6: 50 p.m.

Intuitive life, wait and philosophy (self-observation). it would be appropriate for me to walk on these paths.

-7: 50 p.m.

At which place I have arrived, where every spree is a crime.

-8: 15 p.m.

World lay of juggler and life is a monkey.

-8: 20 p.m.

‘Effort is in my hands, not the result.’  The point emphasizes the presence of the third power. And the same power is pulling me towards it.

The predominance and excess of my distraction and anguish and the big clash with them are telling that my achievement will be very large.

-8: 50 p.m.

Don’t give any name as principle, rule, policy, etc to my thoughts. Tell them only the truth, and nothing else.

-9: 55 p.m.

It is also important to be prepared you before disembarkation of the power on you to receive that power otherwise the result will be similar to fill water in the raw pitcher. Afflictions strengthen you.

-10: 00 p.m.

Inspiration is only the voice of your conscience. Listen carefully and recognize it.

-11: 32 p.m.

How long will you keep crying your sorrow in front of others? How long? How long you will feel yourself inferior, helpless and shall cry putting your head before the stone, how long will you keep begging for power? When someone gets power in alms? How long you will look others face to overcome your dilemmas? How long will you suffer trouble and injustice imagining a superman that he will come to save you? God is nothing else, the power is God. The same strength engulfs everywhere in the world. You are a vessel (pot), a vessel which can give desired size itself. Grow your size, contain all the power within you and become the owner of all powers.

Today, most of a religion requires is power. No need to sing any hymns, praise. Do battle cry of truth; accept this religion, live as a king having a lot of power in your treasure not a beggar. Get fill your pot from the endless ocean of the power and pour in the world and show the world that power is the truth; the power is God, the power is religion.

-11: 50 p.m.

I am proud that I have chosen for this work by the power.

-11: 35 p.m.

(अंतर्यात्रा)

सत्य की खोज…10

24 नवंबर २००३

 इतना रोमांच! मेरी सत्य की खोज में! मैं सम्भाल नहीं पा रहा हूँ इस रोमांच को।

-१२:०० p.m.

मैं बुरी तरह थक गया हूँ इस सत्य की खोज में। इसकी तीव्रतम गति से मेरी सांस फूलती जा रही है, मेरा मस्तिष्क कुछ भी निर्णय नहीं कर पा रहा है। शरीर आगे बढ़ जाता है पर मन पीछे रह जाता है। मन बार-बार जाकर एक शून्य पर अटक रहा है। मन एक विराम चाहता है, दस दिन की तीव्रतम गति से थक देने वाली इस यात्रा से, पर आत्मा कहती है कि विराम? कैसा विराम? इस यात्रा में विराम का कोई स्थान नहीं और मैं फिर उलझ जाता हूँ शक्ति के इस खतरनाक खेल में।

शरीर मस्तिष्क का साथ नहीं दे पा रहा है, मस्तिष्क मन का साथ नहीं दे पा रहा है, मन आत्मा का साथ नहीं दे पा रहा है और हाथ मेरा साथ नहीं दे पा रहे हैं, मेरी कलम लड़खड़ाने लगी है, उस शक्ति के भूचाल से।

-१२:२० a.m.

मैं अपने चारों तरफ एक शक्ति का (ऊर्जा) का घेर अनुभव कर रहा हूँ, जो मेरे साथ-साथ चलता है, उठता है, सोता है। निद्रा में भी एक चेतनता का आभास होता है। मैं चाह कर भी नहीं सो पाता। एक व्याकुलता मुझे बार-बार झिंझोड़ कर जगा देती है। जागने पर एक अपरिचित संसार मेरी आँखों के सामने आ जाता है और मुझसे पूछता है- ‘ तू कौन है?’ मैं उत्तर देना चाहता हूँ लेकिन शब्द गले में अटक कर रह जाते हैं और फिर मैं भी भूल जाता हूँ कि मैं कौन हूँ? और फिर मैं अपने आप से ही पूछने लगता हूँ कि मैं कौन हूँ ? पर उत्तर के स्थान पर मिलती है वही अनुगूंज मेरे प्रश्न की – ‘मैं कौन हूँ?’

-१२:३५ a.m.

एक विचित्र से ताप ने मेरी साँसों को तेज और गर्म कर रखा है। कोई विचित्र सी चीज मेरे सिर के बिलकुल मध्य भाग को फाड़ कर बाहर निकलना चाहती है। एक विचित्र से चक्कर से मेरा सिर और मेरी आँखें घूमने लगती हैं। मैं अपने आप को संभालने की कोशिश करता हूँ और अपनी दृष्टि किसी वस्तु पर टिका देता हूँ, पर दृष्टि उस वस्तु और नेत्रों के बीच शून्य में खो जाती है।

मोटर साइकिल चलते समय दुर्घटना का खतरा बढ़ गया है, इस दृष्टि-शून्यता के चलते, मगर मोटर साइकिल चलते समय मैं बार-बार अपने आप को चेतता हूँ इस खतरे से।

धड़कने ह्रदय की दीवारों पर धक्के मारती है और कभी-कभी अचानक तेज हो जाती हैं, कभी हलके-हलके दर्द के साथ ह्रदय की धमनियों और शिराओं को तोड़कर बाहर आना चाहता है, तो कभी गर्म स्पर्श का आभास देता है। चलते समय मेरे क़दमों की चाप आश्चर्य पैदा करती है और ये आश्चर्य सामने खड़ा होकर मुझसे पूछता है – ‘क्या तेरे साथ कोई और भी है?’ मैं हैरान होकर अपने अगल-बगल में झांकता हूँ और फिर चल देता हूँ इसी प्रश्न को दोहराते हुए – ‘क्या मेरे साथ कोई और भी है?’

मेरा साहस उछल कर मेरे सामने आ खड़ा होता है और आह्वान करता है -‘आओ! आ जाओ! सामने आ जाओ, यदि तुम कोई और हो तो मुझसे नजरें मिलाकर बात करो, इस तरह कायरों की भांति मेरा अनुगमन मत करो। यदि तुम शक्ति हो तो मुझमे विलीन हो जाओ या फिर मुझे आजमाओ, मगर एक बार सामने आ जाओ। दीवार पर मेरे सर के पीछे लगा शेर मानो तस्वीर से निकलकर मुझमे समां जाता है और मेरे भीतर से दहाड़ता है – ‘शक्ति ही सत्य है।’ और शक्तियों का तांडव रुक जाता है।

-१:१८ a.m.

इतना रहस्य! मेरे जीवन में?

मैंने कभी सोचा भी नहीं था।

-१:२५ a.m.

क्या कोई शक्ति मुझे भयाक्रांत करना चाहती है? तो जान ले वह कि मैं अंतिम सांस तक भी लड़ता रहूंगा मगर पराजय स्वीकार नहीं करूंगा और अगर मरने के बाद भी किसी ने मुझसे पूछा कि बता तू कौन है? तो मेरा शव बोलेगा – ‘सत्य की खोज।’

-1:30 a.m.

बाहरी सुंदरता क्षणिक है लेकिन उद्दीपक है हमारी आतंरिक सुंदरता के लिए।

-७:३० a.m.

न तो मैंने कभी किसी को गुरु माना है और न ही किसी को अपना शिष्य मानूंगा। हमारे स्वयं के अनुभवों, हमारी स्वयं की असफलताओं से बढ़कर कोई और गुरु नहीं हो सकता। हमारी सच्ची जिज्ञासा, हमारी स्वयं की प्यास से बढ़कर कोई और शिष्य नहीं हो सकता।

-७:५० a.m.

चिन्ह, परिपाटी, मर्यादाएं, नियम ये सब अब मेरे लिए महत्वहीन हैं, अर्थहीन हैं क्योंकि मैं इन सबसे ऊपर उठ चुका हूँ।

-८:०० a.m.

पूजा क्या है? एक उच्च स्तरीय सम्मान की भावना है, ईष्ट के प्रति, लेकिन स्वयं को जाने बिना, स्वयं का सम्मान किये बिना आप किसी और का सच्चा सम्मान नहीं कर सकते अतः सावधान रहें, जो व्यक्ति आज आपका सम्मान कर सकता है, कल वह अपमान भी कर सकता है, जो आदमी झूठी पूजा करता है, कल वह मूर्तियों को उठाकर फेंक भी सकता है और किन्ही परिस्थितियों में प्रायः फेंकता भी है।

-८:१५ a.m.

समाचार पत्रों में छपने वाली स्त्रियों की अर्धनग्न तस्वीरों को मैं अब भी देखता हूँ, पर वासना की दृष्टि से नहीं बल्कि सुंदरता की दृष्टि से, बिलकुल उसी तरह, जिस तरह कोई सुन्दर फूल को देखता है। इनमे मैं वही सौंदर्य अनुभव करता हूँ जो आपको शायद उस समय अनुभूत हो, जब कोई नन्ही बालिका नग्नावस्था में आपके समक्ष आ जाए।

-८:३५ a.m.

श्रद्धा और दूसरों पर किया गया विश्वास प्रायः धोखा खा जाते हैं, परन्तु आत्मविश्वास धोखा नहीं खाता।

-८:४६ a.m.

एक छोटी लहर उठी, फिर एक बड़ी लहर उठी। एक छोटी मछली उछली, एक बड़ी मछली उछली और छोटी मछली बड़ी मछली के मुंह में समां गई। खून की कुछ बूँदों के साथ बड़ी लहर शांत हुई, छोटी लहर शांत हुई और फिर सब कुछ शांत हो गया।

-९:०० a.m.

हर कदम पर आप अपने लिए अजनबी हैं, पर घबराने की कोई बात नहीं, आपके साहस का मार्गदर्शन भी आपके साथ है।

-९:१५ a.m.

घोर आश्चर्य! लोग एक नन्ही बालिका में भी एक तरुणी, एक युवती की कल्पना कर उसके साथ दुष्कर्म कर लेते हैं और मुझे तो किसी अर्धनग्न तरुणी या युवती में भी एक नन्ही बालिका दिखाई देती है।

-९:५३ a.m.

अब मुझे भटकने का कोई भय नहीं रहा। मुझे रास्ता सीधा साफ़ दिखाई दे रहा है।

-९:३८ a.m.

नैसर्गिक सौंदर्य की बराबरी कृत्रिम सौंदर्य कभी नहीं कर सकता क्योंकि कलात्मक सौंदर्य सदैव नक़ल होती है, उस नैसर्गिक सौंदर्य की।

-१०:०२ a.m.

शक्ति के इस खेल में अब आनंद आने लगा है।

-१०:०५ a.m.

सच्ची जिज्ञासाएं हमारे स्तर को उठाकर हमें ज्ञान का उत्तराधिकारी बना देती हैं।

-१०:१२ a.m.

सत्य उसी को मिलता है, जो झूठ की खिलाफत करते हैं, झूठ से बगावत करते है, विद्रोह करते हैं।

-१०:१५ a.m.

जब मैं सारे नियमों, सारे बंधनो, सारी मर्यादाओं से छूट चूका हूँ तो फिर इस सिगरेट से क्यों नहीं छूट पाया? क्या है इसमें ऐसा? जो मुझे बांधकर रखता है? इसमें है दुखों से क्षणिक मुक्ति, थोड़ी देर को वेदनाओं का ठहराव, थोड़ी देर के लिए दुखों से छूट जाने की राहत।

-१०:४५ a.m.

अकथनीय, अवर्णनीय, अकल्पनीय सौंदर्य है अंतर्जगत का।

-१०:५० a.m.

अगर नारी नर्क का द्वार है तो नर नर्क का कीड़ा। नारी तो फिर भी नर्क के बाहर है और नर्क से बचने का मार्ग है पर नर उससे बचना ही नहीं चाहता, उसे नर्क में जाकर ही चैन मिलता है।

-११:०७ a.m.

बचना, बचने का भ्रम है, भोगना ही सही अर्थों में बचना है।

मेरा काम (सेक्स) अब पितृ वात्सल्य में परिणित हो गया है। अब मैं एक बूढी औरत की मुस्कान में भी उसकी शैशवावस्था की निर्दोष मुस्कान देखता हूँ। खिलखिलाती हुई तरुणियों को देखकर मेरा पितृत्व भाव तृप्त होता है।

सत्य के पास अब कोई मार्ग नहीं, कोई विकल्प नहीं, मुझ तक आने के सिवा।

-११:१५ a.m.

यदि तुम्हारे भीतर सत्यता की शक्ति होगी तो तुम्हारा हर कार्य स्वयमेव पूजा बन जाएगा। पूजा घटित होती है, की नहीं जाती। पूजा घटना है, क्रिया नहीं।

-११:२० a.m.

आपसे बढ़कर और कोई आपका आदर्श नहीं हो सकता आपको स्वयं अपने ही लिए आदर्श स्थापित करना है।

-११:३२ a.m.

कहीं दूर से गूंजती हुई ताल आपको क्यों अच्छी लगती है? क्योंकि वह आपकी धड़कनो से मिलती है। बांसुरी की स्वर लहरियां आपको क्यों अच्छी लगती हैं? क्योंकि वह आपकी साँसों की लय से मिलती है। संगीत आपको क्यों अच्छा लगता है? क्योंकि वह आपको आपके अंतर्जगत के संगीत की दिव्यता का आभास कराता है। बाह्य संगीत तो केवल एक अंश है अंतर्जगत की दिव्यता की नक़ल का। बाहर का संगीत केवल एक मॉडल है उसका, केवल एक सीमित सी परिकल्पना है उसकी।

-१२:४२ p.m.

यदि कोई पत्थर मार्ग पर पड़ा हो तो उसे हम बाधा कहते हैं और यदि वही पत्थर मार्ग के नीचे दबा हो तो उसे हम मार्ग कहते हैं। केवल स्थिति का फर्क है, पत्थर तो वही है। मार्ग बाधाओं पर ही बनता है। मार्ग का निर्माण  बाधाओं पर ही होता है। आप अपनी बाधाओं को मार्ग के किनारे डाल दीजिए, वह भी मार्ग बन जाएगा।

-१:१२ p.m.

शक्ति स्वयं ही सृष्टि करती है, शक्ति स्वयं ही निर्माण करती है, शक्ति स्वयं ही अपना रास्ता बन लेती है।

-१:१५ p.m.

पहले मैं समझता था कि प्रसिद्धि ही संसार की सबसे बड़ी उपलब्धि है और अब मेरे लिए इसका मूल्य दो कौड़ी का भी नहीं है, अब मेरे लिए सबसे मूल्यवान है ‘सत्य की खोज।’

-१:३५ p.m.

सत्य के मार्ग पर आगे बढ़ना तो संभव है पर पीछे लौटना संभव नहीं।

-४:०० p.m.

कैसा आश्चर्य! कि वो मैं ही था जिसके मन में कुछ दिन पहले काम-वासना नृत्य किया करती थी, अपने चारों तरफ के दृश्यों से अपने आप को तृप्त करने का प्रयत्न किया करती थी और ये भी मैं हूँ जिसका मन अब-वासना को पहचानना भी नहीं चाहता। मेरा मन तृप्त हो चुका है, अब इस संसार के करतबों से। पहले मैं कामशक्ति का तांडव देखा करता था और अब मैं शक्ति का तांडव देखा करता हूँ।

-५:१४ p.m.

सत्य,सत्य, सत्य! बस और कुछ नहीं। यदि दुःख सत्य ही है तो दुःख ही सही, यदि अज्ञानता ही सत्य है तो अज्ञानता ही सही, यदि विकार ही सत्य है तो विकार ही सही। सत्य के सिवा मुझे और कुछ नहीं चाहिए।

-५ :३० p.m.

विचारों के चाबुक पर चाबुक पड़ते जा रहे हैं मेरे मन-मस्तिष्क पर और मैं बढ़ते जा रहा हूँ आगे, इनसे जूझते हुए।

-५:५८ pm.

ये कैसी असन्तुष्टि की प्यास है, जो हर समय मुझे उदासी के गहरे कुँए में धकेल रही है।

-६:२० p.m.

जिन पाषाण प्रतिमाओं को मैं कुछ दिन पहले श्रद्धा से पूजता था, उनको नकारने का मन नहीं करता, ठीक ऐसा महसूस होता है जैसे कोई बालक किसी बात पर अपने माता-पिता से रुष्ट होकर एकांत में जा बैठा हो और वे उसे पुचकार कर मना रहे हों, बुला रहे हों जब भी उन प्रतिमाओं पर दृष्टि जाती है, वे आकर्षित करती हैं, बुलाती हैं अपनी तरफ और मेरा भावुक मन भीतर से रोता है, भविक्त बहा देना चाहती है उस तरफ मुझे, लेकिन अगले ही क्षण मेरा साहस डटकर मेरे सामने खड़ा हो जाता है और कहता है –

‘फिर उन्ही गन्दी नालियों में बहना चाहते हो झूठ और फरेब की? आनंद का झरना तुम्हारे ही लिए बह रहा है, और तुम गन्दी नाली के पानी से अपनी प्यास बुझाना चाहते हो? सत्य बाहें पसारे खड़ा है तुम्हारे सामने और तुम फिर उसी नाली में जाना चाहते हो सत्य को छोड़ कर? ठीक है, जा सकते हो तो जाओ, कोशिश करने पर भी तुम एक कदम उस तरफ नहीं बढ़ा सकोगे क्योंकि आदमी झूठ से सच की तरफ तो जा सकता है लेकिन सच से झूठ की तरफ कभी नहीं जा सकता इसलिए तुम्हारी कोशिश बेकार है। और फिर मैं बढ़ जाता हूँ सत्य के वीरान, सुनसान रास्तों पर, एकाकी, अपने प्रश्नों का बोझ उठाए, एक संकल्प लिए हुए कि ‘सत्य को पाने के लिए मैं आवश्यकता पड़ने पर सब कुछ छोड़  दूंगा।’

-६:५० p.m.

सहज जीवन, प्रतीक्षा और दर्शन (आत्म-अवलोकन) इन्ही रास्तों पर चलना मेरे लिए उपयुक्त होगा।

-७:५० p.m.

ये किस जगह आ पहुंचा हूँ मैं, जहाँ हर ख़ुशी गुनाह है।

-८:१५ p.m.

दुनिया मदारी का खेल है और जीवन बन्दर।

-८:२० p.m.

प्रयत्न ही मेरे हाथ में है, परिणाम नहीं। ये बात उस तीसरी शक्ति की उपस्थिति को और दृढ़ करती है। वही शक्ति मुझे अपनी और खींच रही है।

मेरी व्याकुलता और वेदना की प्रबलता तथा अतिशयता और इनसे कड़ा संघर्ष ये बता रहे हैं कि मेरी उपलब्धि बहुत बड़ी होगी।

-८:५० p.m.

मेरी बातों को सिद्धांत, नियम, नीति आदि का कोई नाम मत दो, इन्हें केवल सत्य कहो, सिर्फ सत्य और कुछ नहीं।

-९:५५ p.m.

उस शक्ति के शक्तिपात से पूर्व आपका तैयार होना भी जरूरी है, उस शक्ति को ग्रहण करने के लिए, अन्यथा परिणाम कच्चे घड़े में पानी भरने जैसा ही होगा। वेदनाएं आपको पकाती हैं।

-१०:०० p.m.

प्रेरणा तुम्हारी अंतरात्मा की ही आवाज है। उसे ध्यान पूर्वक सुनो और पहचानो।

-११:३२ p.m.

कब तक दूसरों के सामने अपने दुखड़े रोते रहोगे? कब तक? कब तक अपने आप को दीन- हीन, असहाय समझकर पत्थर पर सिर टिकाकर रोते रहोगे, कब तक उससे शक्ति की भीख मांगते रहोगे? कब किसी को शक्ति की भीख मिलती है? कब तक अपनी दुविधाओं को दूर करने के लिए दूसरों का मुंह ताकोगे? कब तक अपने कष्टों के निवारण के लिए मंदिरों में घंटियां बजा-बजा कर उस ईश्वर को धरती पर उतरने की गुहार लगाते रहोगे? कब तक एक अतिमानव की कल्पना कर कष्ट, अन्याय सहते रहोगे कि वह तुम्हे बचाने आएगा?

ईश्वर और कुछ नहीं, शक्ति ही ईश्वर है। वही शक्ति संसार में सब जगह समाई है। तुम एक पात्र (बर्तन) हो, एक ऐसा बर्तन जो अपने आपको मनचाहा आकार दे सकता है। बढ़ाओ अपना आकार, समाहित कर लो सारी शक्तियां अपने भीतर और बन जाओ अखिल शक्तियों के स्वामी।

आज के समय में यदि किसी धर्म की सबसे अधिक आवश्यकता है तो वह है शक्ति। कोई भजन, कोई स्तुति गाने की जरूरत नहीं। सत्य का सिंहनाद करो, स्वीकार करो इस धर्म को और भिखारी नहीं एक राजा बनकर जिओ, शक्तियों का खजाना लेकर। भरते जाओ अपना पात्र, शक्ति के अथाह समुद्र से और उड़ेलते जाओ इस संसार में और दिखा दो इस संसार को कि शक्ति ही सत्य है, शक्ति ही ईश्वर है, शक्ति ही धर्म है।

-११:५० p.m.

मैं गौरवान्वित हूँ कि शक्ति ने इस कार्य के लिए मुझे चुना है।

-११:३५ p.m.