Monthly Archives: August 2016

Discovery of the truth…13 (सत्य की खोज…13)

Adventure of the Truth…

Discovery of the truth…13

November 27, 2003, Thursday,


How wrong we estimate about ourselves, what we are we don’t accept and we consider ourselves what we are not.

Often dreams are order of your infirmity to your mind.

-12: 00 a.m.

I feel as my childhood has returned.

-8: 20 a.m.

The extreme state of excess of deficiency gives rise to rebellion. When lack of money reaches to its extreme, gives rise to the robbery. When lack of knowledge reaches to its peak, gives rise to obscenity. When lack of strength reaches to its peak, gives rise to violence. Imbalance always produces deuce.

-8: 25 a.m.

Though not required, do not ever favor to show your importance and usefulness. If you do any favor for anyone, give him or her opportunity to show her gratitude otherwise he will consider himself overwhelmed by encumbrances of your favor. And if plurality of your favors should be so much that he feels crushed badly by the encumbrances of your favor then his feelings of respect to you will change in envy. He will disgust with your ability to do favor. Your remembrance will remind him of his incompetence.

Whenever someone comes to meet you, he should feel that He has got something from you, he has not lost anything.

-1:25 p.m.

Whenever you get anything to learn from anyone, don’t forget to thank him, it will transmit power inside you as well as inside him.

-2:04 p.m.

Whenever someone do a mistake, do not punish him physically in any way, embarrass him for that mistake. There is no other better way of elimination and scrape of a mistake. After giving corporal punishment he will forget the mistake in a short time and will repeat the same mistake after an interval of time and a sense of vengeance will take birth within him and he will begin immediately to make way for the retaliation.

Corporal punishment gives rise to the feelings of vengeance not the shame or guilt. No other weapon is powerful than ideas. No other detergent is there than ideas to wash the disorders. There is no other wallop painful than Ideas but in every situation on the condition is that ideas must be rooted in the power of truth. That are ideas those bring the revolution, if the ideas has the power of truth.

My point of view has become broad, micro objects began to give me powerful ideas.

-2: 55 p.m.

Power of truth is an energy, which creates an aura around you that illuminates your face, which spills through your conduct, which reflects in your every little task.

-3: 12 p.m.

To get the energy of the power of truth you do not need to go to a forest or a mountain, it would be reflected eventually in your countenance, you can find it in the same world, just you have to make it your life and truth to your life.

Fearlessness and courage like a lion will reflect in you itself. Your voice will become the battle cry itself. It just requires veneration of the truth. I am a promoter of truth, just do not believe me but experience by direct view.

-3: 22 p.m.

Nowadays literature does not grab the people, lack of power of truth in literature is more responsible than people’s disinterest for that. Nowadays the literature is only imitation of the old literature; it is imitation of truth so it is obvious that imitated object will seem pale.

Only a book immersed in the power of truth is enough to give a revolution. Don’t consider the power of truth just a few ideas or words. It is more powerful than an atom bomb or a nuclear bomb.

I have got the way to extract the juice of bliss by squeezing afflictions. Infirmities, I have found the way to make ice cream by freezing my infirmities. Would you like to know the way? It is- ‘ the continuous search of truth.’

-3: 55 p.m.

I got the true key to success. That is – true courage, true will power, true self-confidence, which comes from the power of truth. The successes achieved by the false way are lie, it is Illusion of success. Don’t confuse in it.

-4: 00 p.m.

Remove all those symbols, all signs, all ideas which recall you your infirmity. Put them away out of your mind and heart. Infirmity is an illusion, not the truth. Truth, truth, truth… Only the truth shall remain in you, around you, in your every pore, nothing else. Nobody would ever say so confidently, the more confidently I am saying.

Listen my battle cry, listen my roar of truth that you are deep bottomless mine of infinite power of truth, recognize your sleeping power, wake up them from sleep of Kumbhakarna giving a battle cry of truth. Recognize your true strength, you forgot your true strengths ahead the strength of lie. Get Ready! to give the roar of truth to awaken the true strength.

My achievement is of no use to you, my success is worthless to you. Your true achievement is your success. Watch yourself every moment thoroughly. Peep your inside and outside every moment. You will immediately know your true power.

-4: 42 p.m.

Do not ever consider the arrogance of power to the battle cry of the power. Power is always true. The arrogance comes from impotence not from the power. True wisdom and real power are always silent, are guileless, like a child’s innocence.

The real power cannot harm anyone. The true power cannot go against the truth in any circumstances. The true power cannot crush even an innocent insect.

True power is all-victorious. Arrogance and ego can’t defeat it. So don’t be confused to consider arrogance or ego to the proudly smile of the power

-4: 48 p.m.

Everything cannot be understood on the basis of arguments, leave everything to your heart and let your experiences decide; let your experiences examine all.

I had not imagined that I will get solution of my every problem so quickly.

-8: 12 p.m.

I’m looking gait of a lion in my gait. I am experiencing the power of the lion in my yawns. I am hearing that roar of the lion in my inhale and exhale before which the roar of the mighty time is also pale.

Life is a magic, life is a long series of miracles.

Man’s greatest root of chaos is his false religion, there is no such dispute than religion in the name of which so civil unrest may have been. Only knowing the truth these evil can be overcome.

People have become accustomed to having their religious exploitation; religious oppression has become an essential part of their lives.

Truth’ cannot ever be a sect because the truth is the individual religion to every person. There is no uniformity in the individual religion. The goal could be one but everyone has different ways. Two people cannot get the truth ever walk together. Both will have to walk separately to get their truth. Truth breaks you, split you in fragments because you are nothing else, you are a stiff shell of layer of confusions. Truth breaks your this hard layer.

Sect is a dead religion. A sect is a corpse of a religion. A sect does not carry anything but corpse of a religion.

To lift up a weapon is also a fear, it is lack of confidence, it is lack of will power, it is the fear of life but the truth is fearless, truth is not afraid of death, even death cannot kill It. The death is equally true that life therefore truth does not allow you to retaliate the death.

Who can do the high courage to embrace death laughingly other than the truth?

The courage to walk on the path of truth does not have in sheep but occurs in lions. People will walk the sheep move and the crowd will always be on the side of falsehood, but remember that one lion is enough for thousand sheep so truth cannot die in any situation.

Violence is not the solution to any problem. The truth is just enough to answer all the problems, truth is enough in itself, Just, just the truth and nothing else.

-9: 32 p.m.

Today I found the answer to my first question that people’s God is nothing but a symbol of the power. The true God is nowhere else other than this power. He is not in these symbols; the power is in that truth.

Now I am waiting for the answer of my second question that how does the power operates the creation? Now I have to meet the same absolute power.

  1. A girl / woman’s honor is in danger,
  2. Many lives are at risk,
  3. The country’s security is in danger,
  4. Parents’ reputation is in danger,

If you are not counteracting the injustice the above conditions then you are a coward, you are a fugitive, you are a timid not the follower of truth.

In these circumstances the truth allows to use weapons and violence when needed because in these conditions have no choice to defend truth and justice. That is not true but weakness that could not protect justice.

-9:50 p.m.

Falsehood is also essential for the balance of creation. Falsehood reaches behind the truth automatically. In the same manner the dark remains with the light and the night stays with the day so the false and imaginary God is required to run the world because if everybody would have the courage to get to the truth, so far the world has become a paradise. Without the falsehood truth cannot be imagined in this world so the falsehood too will continue with the truth, much like the shadow with the person.

-11:42 p.m.


सत्य की खोज…13

27 नवंबर २००३

कितना गलत अनुमान लगाते हैं हम अपने बारे में, जो हम होते हैं वह स्वीकारना नहीं चाहते और जो हम नहीं होते वह हम स्वीकार किये बैठे होते हैं।

प्रायः स्वप्न आपकी दुर्बलताओं के आपके मन को आदेश होते हैं।

-१२:०० a.m.

लगता है जैसे मेरा बचपन लौट आया है।

-८:२० a.m.

अभाव के आधिक्य की चरम अवस्था विद्रोह को जन्म देती है। धन का अभाव जब चरम सीमा पर पहुँचता है तो लूट-पाट को जन्म देता है। ज्ञान का अभाव जब चरम सीमा पर पहुँच जाता है तो फूहड़ता को जन्म देता है। बल का अभाव जब चरम सीमा पर पहुँच जाता है तो हिंसा को जन्म देता है। असंतुलन सदैव उपद्रव पैदा करता है।

-८:२५ a.m.

आवश्यक न होते हुए भी अपना महत्त्व और अपनी उपयोगिता बताने के लिए कभी उपकार मत करो। यदि किसी पर कोई उपकार करो तो उसे कृतज्ञता प्रकट करने का अवसर दो अन्यथा वह स्वयं को आपके उपकार के ऋणभार से दबा हुआ मानेगा और यदि आपके उपकारों की बहुलता इतनी अधिक हो जाए कि वह इनके ऋणभार से बुरी तरह दब जाए तो उसकी दृष्टि में आपके प्रति सम्मान की भावना ईर्ष्या में परिवर्तित हो जाएगी। वह आपके उपकार करने की क्षमता से घृणा करने लगेगा, आपका स्मरण ही उसे उसकी अक्षमता की याद दिलाता रहेगा।

जब भी कोई तुमसे मिलने आए तो उसे ये लगे कि वह तुमसे कुछ पाकर गया है, कुछ खोकर नहीं।

-१:२५ p.m.

जब भी किसी से तुम्हें कोई सीख मिले तो उसे धन्यवाद देना मत भूलो, यह तुम्हारे अंदर भी शक्ति का संचार करेगा और उसके अंदर भी।

-२:०४ p.m.

जब भी कोई गलती करे तो उसे किसी प्रकार का कोई शारीरिक दंड मत दो। उसे शर्मिंदा करो उस गलती के लिए। गलती के उन्मूलन तथा परिमार्जन का इससे अच्छा उपाय कुछ हो ही नहीं सकता। शारीरिक दंड देने पर तो वह उस गलती को थोड़ी ही देर में भूल जाएगा और बाद में वही गलती फिर से दोहराएगा और एक प्रतिशोध की भावना उसके भीतर जन्म ले लेगी और वह तुरंत इस प्रतिशोध का मार्ग बनाने में जुट जाएगा। शारीरिक दंड प्रतिशोध की भावना उत्पन्न करते हैं, लज्जा या ग्लानि नहीं। विचारों से शक्तिशाली और कोई अस्त्र नहीं। विकारों को धोने का विचारों से अच्छा डिटर्जेंट और कोई नहीं। विचारों की मार से पीड़ादायक और कोई मार नहीं, पर हर परिस्थिति में शर्त ये है कि विचारों में सत्य की शक्ति निहित होना चाहिए। विचार ही क्रांति लाते हैं, अगर विचारों में सत्य की शक्ति हो तो।

मेरा दृष्टिकोण विस्तृत हो गया है, सूक्ष्म से सूक्ष्म वस्तुएं भी मुझे शक्तिशाली विचार देने लगीं हैं।

-२:५५ p.m.

सत्य की शक्ति एक ऊर्जा है, जो आपके चारों तरफ एक आभामंडल निर्मित करती है, आपके मुखमंडल को प्रदीप्त करती है,, आपके आचरण से छलकती है, आपके हर छोटे से छोटे कार्य में भी झलकती है।

-३:१२ p.m.

सत्य की शक्ति की इस ऊर्जा को पाने के लिए आपको किसी जंगल या पहाड़ पर जाने की जरूरत नहीं, वह अपने आप झलकेगी आपके मुखमंडल से, उसे आप इसी दुनिया में पा सकते हैं,बस आपको सत्य को अपना जीवन बनाना होगा और अपने जीवन को सत्य।

सिंह जैसी निर्भयता और साहस आपमें स्वयं ही झलकेगा। आपकी वाणी स्वयं ही सिंघनाद बन जाएगी। बस आवश्यकता है सत्य की उपासना की। मैं तो सत्य का प्रचारक हूँ, मुझ पर जरा भी विश्वास न करना बल्कि प्रत्यक्ष करके देखना।

-३:२२ p.m.

आजकल के साहित्य लोगों को आकर्षित नहीं कर पाते, इसका कारण लोगों की अरुचि कम और साहित्य में सत्य की शक्ति का अभाव ज्यादा है। आजकल का साहित्य केवल नक़ल है पुराने साहित्य की, नक़ल है सत्य की और नकली चीज तो फीकी लगेगी ही, नकली चीज की चमक तो कम होगी ही।

सत्य की शक्ति में डूबी हुई एकमात्र किताब ही क्रांति मचा देने के लिए पर्याप्त है। सत्य की शक्ति को केवल कुछ विचार या शब्द मत समझिये। ये अणु बम, परमाणु बम और नुक्लेयर बम से भी ज्यादा शक्तिशाली है।

वेदनाओं को निचोड़कर आनंद का रस निकालने का तरीका मुझे मिल गया। दुर्बलताओं को जमाकर शक्ति की आइसक्रीम बनाने का तरीका मुझे मिल गया। क्या आप जानना चाहेंगे वह तरीका? वह है- ‘सत्य की सतत खोज।’

-3:५३ p.m.

सच्ची सफलता का मंत्र मुझे मिल गया। वह है – सच्चा साहस , सच्चा आत्मबल, सच्चा आत्मविश्वास, जो आता है सत्य की शक्ति से। झूठ से हासिल होने वाली सफलताएं झूठी हैं, भ्रम हैं सफलताओं का। इनमे भ्रमित न हों।


हटा दो वो सारे प्रतीक, सारे चिन्ह, सारे विचार जो तुम्हे दुर्बलता की याद भी दिलाते हैं, निकाल फेंको इन्हें अपने मन और ह्रदय के बाहर। दुर्बलता भ्रम है, सत्य नहीं। सत्य, सत्य, सत्य। केवल सत्य ही रह पाए तुम्हारे भीतर, तुम्हारे बाहर, तुम्हारे रोम -रोम में, और कुछ नहीं। इतने आत्मविश्वास से आज तक किसी ने भी नहीं कहा होगा जितने आत्मविश्वास से मैं कह रहा हूँ।

सुन लो मेरा सिंहनाद, सुन लो मेरी सत्य की गर्जना कि तुम अनंत शक्ति की गहरी अथाह खान हो। पहचानों अपनी सोई हुई शक्ति को, जगा दो इन्हें कुम्भकर्णी निद्रा से, सत्य का सिंहनाद करके। पहचानों अपनी सच्ची ताकत को, झूठी ताकत के आगे तुम अपनी सच्ची ताकत को भुला बैठे हो। हो जाओ तैयार ! सत्य की दहाड़ मारने के लिए, सच्ची ताकत को जगाने के लिए।

मेरी उपलब्धि तुम्हारे किसी काम की नहीं, मेरी सफलता तुम्हारे लिए दो कौड़ी की भी नहीं। तुम्हारी सच्ची उपलब्धि ही तुम्हारी सफलता है। टटोल-टटोल कर देखो हर पल अपने आपको। झाँक-झांक कर देखो हर समय अपने भीतर, अपने बाहर, तुम्हे अतिशीघ्र तुम्हारी शक्ति का सच्चा ज्ञान हो जाएगा।

-४:४२ p.m.

शक्ति के सिंहनाद को कभी शक्ति का दम्भ मत समझना। शक्ति सर्वदा सत्य होती है। दम्भ अशक्ति का होता है, शक्ति का नहीं। सच्चा ज्ञान और सच्ची शक्ति सदैव निर्विकार होते हैं, निश्छल होते हैं, किसी बच्चे की मासूमियत की तरह।

सच्ची शक्ति कभी किसी का अपकार नहीं कर सकती। सच्ची शक्ति किन्ही भी परिस्थितियों में सत्य के खिलाफ नहीं जा सकती। सच्ची शक्ति एक निर्दोष कीड़े तक को नहीं कुचल सकती।

सच्ची शक्ति सर्वविजित होती है। दम्भ और अहंकार भी इसे परास्त नहीं कर सकते अतः शक्ति की गर्वीली मुस्कान को दम्भ या अहंकार समझने की भूल न करें।

-४:५८ p.m.

हर बात तर्कों के आधार पर नहीं समझी जा सकती, सब कुछ छोड़ दीजिये अपने हृदय पर और करने दीजिये निर्णय अपने अनुभवों को, परखने दीजिये सब कुछ अपने अनुभवों को।

मैंने सोचा भी नहीं था कि मुझे अपनी हर समस्या का समाधान इतनी शीघ्रता से मिलता चला जाएगा।

-८:१२ p.m.

मैं अपनी चाल में एक सिंह की चाल देख रहा हूँ। अपनी अंगड़ाइयों में सिंह की शक्ति का अनुभव कर रहा हूँ। अपनी श्वास-प्रश्वास में सिंह का वह गर्जन सुन रहा हूँ जिसके सामने उस प्रबल काल का गर्जन भी फीका है।

जिंदगी एक जादू है, करिश्मों की एक लंबी श्रृंखला है।

अराजकता की सबसे बड़ी जड़ व्यक्ति का झूठा धर्म ही है, धर्म के अलावा ऐसा कोई विवाद नहीं जिसके नाम पर इतने दंगे-फसाद हुए हों। केवल सत्य को जानकार ही इन बुराइयों को दूर किया जा सकता है।

लोग अपना धार्मिक शोषण करवाने के आदी हो चुके हैं, धार्मिक शोषण उनके जीवन का अनिवार्य अंग बन गया है।

‘सत्य’ का कभी संप्रदाय नहीं बन सकता क्योंकि सत्य हरेक व्यक्ति का व्यक्तिगत धर्म है। कोई समानता नहीं है इस व्यक्तिगत धर्म में। लक्ष्य एक हो सकता है पर मार्ग सबके अलग-अलग हैं। दो लोग कभी एक साथ चलकर सत्य को प्राप्त नहीं कर सकते। दोनों को अलग-अलग चलना पड़ेगा, अपने-अपने सत्य को पाने के लिए। सत्य तोड़ता है आपको, विखंडन करता है आपका क्योंकि आप और कुछ नहीं, भ्रमों की परत का एक कड़ा आवरण हैं। सत्य तोड़ता है आपके ऊपर की इस कड़ी परत को।

संप्रदाय धर्म का शव है। संप्रदाय कुछ और नहीं धर्म की लाश ढोता है।

अस्त्र उठाना भी एक भय है, आत्मविश्वास की कमी है, आत्मबल की कमी है, प्राणों का भय है पर सत्य निर्भय है, उसे मृत्यु का भी डर नहीं, उसे मृत्यु भी नहीं मार सकती। मृत्यु भी उतनी ही सत्य है जितना कि जीवन इसलिए सत्य आपको मृत्यु का प्रतिकार करने की भी अनुमति नहीं देता।

मृत्यु को भी हँसते हँसते गले लगाने का उच्च स्तरीय साहस और कौन कर सकता है सत्य के सिवा।

सत्य के मार्ग पर चलने का साहस भेड़ों में नहीं शेरों में होता है। लोग वही भेड़चाल चलते रहेंगे और भीड़ हमेशा असत्य की तरफ ही जाएगी, फिर भी याद रखिये कि एक शेर ही हज़ारों भेड़ों पर भारी पड़ता है इसलिए सत्य कभी किसी परिस्थिति में नहीं मर सकता।

हिंसा किसी समस्या का हल नहीं। बस एक सत्य ही पर्याप्त है सारी समस्याओं का जवाब देने के लिए, सत्य ही पर्याप्त है अपने आप में। बस, सिर्फ सत्य और कुछ नहीं।

-९:३२ p.m.

आज मुझे अपने पहले प्रश्न का उत्तर मिल गया कि लोगों का ईश्वर कुछ और नहीं बल्कि उसी शक्ति का प्रतीक है। सच्चा ईश्वर और कहीं नहीं है इस शक्ति के सिवा। वह इन प्रतीकों में नहीं, सत्य में ही वह शक्ति है।

अब मुझे अपने दूसरे प्रश्न के उत्तर की प्रतीक्षा है कि वह शक्ति इस सृष्टि का संचालन कैसे करती है? अब मुझे उसी परमशक्ति से मिलना है।


१. किसी लड़की/स्त्री की इज्जत खतरे में हो,

२. कई लोगों की जानें खतरे में हों,

३. देश की सुरक्षा खतरे में हो,

४. माता-पिता की प्रतिष्ठा खतरे में हो,

यदि उपरोक्त परिस्थितियों में आपने अन्याय का प्रतिकार नहीं किया तो आप कायर होंगे, भगौड़े होंगे, डरपोक होंगे, सत्य के उपासक नहीं।

इन परिस्थितियों में सत्य आपको आवश्यकता पड़ने पर अस्त्र उठाने तथा हिंसा का प्रयोग करने की भी अनुमति देता है क्योंकि इन स्थितियों में सत्य और न्याय की रक्षा का और कोई विकल्प नहीं होता। वह सत्य नहीं दुर्बलता है जो न्याय की रक्षा न कर सके।

-९:५० p.m.

असत्य भी आवश्यक है इस सृष्टि के संतुलन के लिए। असत्य स्वयं ही पहुँच जाता है जहाँ सत्य होता है, उसी प्रकार जिस प्रकार कि प्रकाश के साथ अँधेरा रहता है तथा दिन के साथ रात रहती है अतः संसार को चलाने के लिए झूठे तथा कल्पित ईश्वर की आवश्यकता पड़ती है क्योंकि सत्य को पाने का साहस यदि हर किसी में होता तो अब तक दुनिया स्वर्ग बन चुकी होती। असत्य के बिना इस दुनिया में सत्य की भी कल्पना नहीं की जा सकती अतः असत्य भी चलता रहेगा सत्य के साथ उसी तरह जिस तरह कि व्यक्ति के साथ उसकी छाया।

-11:42 p.m.

Discovery of the truth…12 (सत्य की खोज…12)

Adventure of the Truth…

Discovery of the truth…12

November26, 2003, Wednesday,

Loneliness…! So much loneliness is there in this way that that your own voice will scare you, your shadow will give you inkling of someone else, and you will see someone else inside you.

-8:00 a.m.

The question arises in my mind suddenly while walking that if I am not going to wrong direction and then I ask myself that if I’m not straying, then a storm of powers arises within and these forces say- don’t you trust on us? Our growing size doesn’t assure you that you are going right?’ I say – ‘No, now no one can persuade me, except the third power, not even you, my patience is being broken.’

-8: 40 a.m.

To look in a mirror is self-observation which fills confidence in me, which shows me that I am continuously being changed. Power is shining in my eyes, it is glistening from my face, and it is glistening in my movements.

-8:50 a.m.

Current Events are long series of events occurred in the past. It seems that the events are taking place themselves on the allusion of someone else, we are the only materials needed for the event, it seems that some other strength is using us in accordance to our utilities and qualities. Who is it? How is it? What is that power?

-8: 55 a.m.

What does appear to be true to my persistent fantasies? Incidents that occurred since my childhood were first seen scattered. They are now added to a power as further links of a long-chain.

-8: 57 a.m.

The feeling of ‘what would be on the other side?’ fills me with countless secrets and adventures.

-9: 37 a.m.

Intuition! Intuition! Intuition! Many times I had done the intuition of that third power, I can’t wait anymore. Soon it had to come ahead of me in every situation.

-10: 00 a.m.

First my vision, then hearing power, then the power of speech and now, my sense of smell have become more powerful and more intense. Remembering of my dreams gives me the sense of enhancement in my memory, awakening and consciousness in sleep.

I am going to be drowned in the inebriation of thoughts. The speed of thoughts is going to be so fast that I’m feeling it difficult to hold them to express. Now I am feeling the limitations of words and time to express them.

All type of quality is present here; all type of quality is available. If you have to increase your quality you have to pay the price.

How much interests take people in telling and listening dirty-filthy things. Dirty scenes, dirty thoughts, dirty words do not grab me now but they have now merged and purified in the power of my soul.

Every voice of the soul emerged from the heart is genuine.

-10:30 a.m.

Strength can only do the devotion, not weakness. As water can’t stay in leaky vessel, even though how big it might be. Infirmity is the leakage of your mind. Until you close these leakages of your infirmity by the power of your spirit, devotion cannot stay in you till then.

The mind of a devotee is that vessel, which has no leakages of infirmities, who is capable to assimilate the ultimate power, this ability appears as his simple heartedness and people start to imitate this simple heartedness assuming it as an infirmity. People assume psalm to pitiful cry of the agony of the heart of a devotee and match the tone to devotee’s voice and imitate as jackals make the sound ‘huaaan… huaaan’ hearing other jackal’s voice and consider that devotion is a simple task. Devotion is the state of human mind, where he has true curiosity, where he has true thrust, where he has true yearning, where he has true waiting for the ultimate power, where he has the true capability to assimilate that power. Inability may not have anything…

-11:00 a.m.

The true call of the devotee is the true yearning; it’s the true ardor to get the strength. The sad cry of agony due to the lack of power is true devotion.

True warriors also cry but they have explosion of power in their cry, not the tears.

-11:17 a.m.

Every day is a new experiment for me, every next morning is awaited to know the result of experiment of earlier day.

-11:27 a.m.

Every day new chapters of my life are opening, every day I go one step ahead but I see stairs only, I don’t see any end of the stairs.

-11:40 a.m.

Earlier I used to worship (false worship) ten minutes every day, now I do true worship twenty four hours. True worship means to increase our eligibility.

-11:44 a.m.

Not mercy, achieve eligibility. The power will be automatically in your bag, you have to just expand the size of your bag that there remains no any other place for the power bigger and better. Power looks for the biggest space to hide itself, because its stature is huge. It doesn’t fit in any bag even if it wants. Only its toe nail tears the bag and turns it into wire. Make your bag of eligibility strong and extensive.

-11: 52 a.m.

Before, there was the darkness in front of me on opening eyes in front of sun and now there is the light in front of me in black moonless night even if my eyes are closed.

-11:55 a.m.

The self worthy is the highest truth and nothing else.

-12: 05 p.m.

The life is not to shed the tears; it is to shed the power.

-12:08 p.m.

Before, my waking state was latencies, now my latencies are awakening. Even before my attention was a daydream, now my dreams are the part of my meditation.

Contraction is infirmity; contraction is the lack of power. Expansion is power, expansion is the excess of power. Expansion is the flow of power. Expansion is the flood of power.

-12:25 p.m.

The heart would be so huge that it can hold that much, I did not imagine even in dreams.

-12: 25 p.m.

The roots of life are infinite, and how deep these roots are, I didn’t guess it. I was living considering all and everything these shallow roots.

-12: 28 p.m.

Difference is not in sight, it is in the object.

-12: 00 p.m.

Man made God may be question to the truth, it may be closed door to the truth, it may be the Icons of the truth but not the truth. There is the difference of many stages between a question and its answer. After going through several stages a question becomes the answer.

A person does not renounce anything, but it is renounced automatically, when it becomes futile for him. Man’s nature is not to relinquish but to catch.

-1:40 p.m.

To solicit is dangerous because on solicit you have to accept those things which you don’t want. When you achieve something, you achieve what you want to achieve.

-1:50 p.m.

Now the length of the cigarette seems too much.

-1: 55 p.m.

The pleasure and the satisfaction that are in the company and cohabitation of truth where the pleasure and satisfaction in the company and cohabitation of a woman.

-2:20 p.m.

Comparison is not the truth. Truth is incomparable but to understand the truth a laymen, it is needed to take the support of comparison then, when there is no other way.

-2: 25 p.m.

Self-observation is the solution to every problem.

-3: 12 p.m.

Everyone’s problems are personal; everyone’s solution will be personal. True solution can never be universal.

There is no other fragrance better than the fragrance of your virtue.

-3:22 p.m.

Truth does not request, it attacks, who has true courage, they fight with it till they do not recognize it and those who have no courage and they flee from it and take refuge of untruth. When the truth test the courage of the courageous thoroughly, then it puts him with its heart, it comprises him within it.

-4:10 p.m.

It is simple human nature that he attracts towards the curtain, he wants to know the hidden objects, he wants to reveal it and he seeks to uncover secrets. Hidden objects give rise to curiosity in him.

-4: 43 p.m.

Only insecurity and risk embolden.

-5: 54 p.m.

External changes led to external observation and internal changes for self-observation.

-4: 59 p.m.

Meditation should not be said meditation but self-observation.

-5:00 p.m.

Strong impulse of power wants revolution.

-5: 03 p.m.

Simplicity of mind, drift the thought and speech into poetry, that’s why a poetic rhythm is heard in the words of a child.

-5: 06 p.m.

People do not know that they abuse the mother and sister every day and insult the source to which they are born.

-10: 30 p.m.


सत्य की खोज…12

26 नवंबर २००३


अकेलापन…! इतना अकेलापन है इस मार्ग में कि तुम्हारी अपनी ही आवाज़ तुम्हे डरा देगी, तुम्हारी परछाई तुम्हे किसी और का आभास देगी, तुम्हारे अंदर कोई और नजर आएगा।

-८:०० a.m.

चलते चलते अचानक मेरे मन में प्रश्न उठता है कि कहीं मैं गलत दिशा में तो नहीं जा रहा हूँ, और फिर मैं अपने आप से पूछता हूँ कि कहीं मैं भटक तो नहीं रहा, तभी अंदर शक्तियों का एक भूचाल उठता है और ये शक्तियां कहतीं हैं – तुम्हें हम पर भी विश्वास नहीं? प्रतिदिन हमारा बढ़ता आकार क्या तुम्हे ये विश्वास नहीं दिलाता कि तुम सही जा रहे हो? मैं कहता हूँ – ‘नहीं, अब मुझे कोई नहीं बहला सकता, उस तीसरी शक्ति के सिवा, तुम भी नहीं, मेरा धैर्य टूटता जा रहा है।’

-८:४० a.m.

दर्पण में प्रतिबिम्ब देखना भी आत्म-अवलोकन है जो मुझमे आत्मविश्वास भरता है, जो मुझे दिखाता है कि मैं सतत परिवर्तित होता जा रहा हूँ। शक्ति मेरी आँखों में चमक रही है, मेरे चेहरे से झलक रही है, मेरी चाल में झलक रही है।

-८:५० a.m.

वर्तमान घटनाएं लंबी श्रृंखला है पूर्व में घटित हुई घटनाओं की। लगता है घटनाएं स्वयं ही घटित होती जा रही हैं किसी और के संकेत पर, हम केवल आवश्यक सामग्री हैं घटना के लिए, लगता है हमारी शक्तियों और उपयोगिताओं तथा गुणवत्ता के आधार पर हमारा चयन कर कोई और शक्ति हमारा उपयोग कर रही है।  कौन है? कैसी है? क्या है वह शक्ति?

-८:५५ a.m.

मेरी कल्पनाओं का लगातार सत्य होते जाना क्या प्रकट करता है? मेरी बचपन से अब तक घटित हुई घटनाएं पहले तो बिखरी हुई नजर आ रहीं थीं पर अब किसी शक्ति ने इन्हें एक लंबी जंजीर के आगे की कड़ियों के रूप में जोड़ दिया है।

-8:५७ a.m.

मेरी कल्पनाओं का लगातार सत्य होते जाना क्या प्रकट करता है? मेरी बचपन से अब तक घटित हुई घटनाएं पहले तो बिखरी हुई नजर आ रहीं थीं पर अब किसी शक्ति ने इन्हें एक लंबी जंजीर के आगे की कड़ियों के रूप में जोड़ दिया है।

-8:५७ a.m.

‘उस पर न जाने क्या होगा?’ का भाव मुझे अनगिनत रहस्यों और रोमांचों से भर देता है।

-९:३७ a.m.

आभास! आभास! आभास! बहुत कर चुका आभास उस तीसरी शक्ति का, अब और प्रतीक्षा नहीं कर सकता।  जल्दी ही उसे मेरे आगे प्रत्यक्ष होना होगा हर परिस्थिति में।

-१०:०० a.m.

पहले मेरी दृष्टि, फिर श्रवण शक्ति (सुनने की शक्ति) फिर वाक शक्ति (बोलने की शक्ति, आवाज़ ) और अब मेरी घ्राण शक्ति (सूंघने की शक्ति) पहले से अधिक प्रबल व तीव्र हो गई हैं। स्वप्नों का स्मरण मेरी स्मरण शक्ति में वृद्धि, शयन में जाग्रति तथा चेतनता का बोध कराता है।

विचारों के नशे में मैं डूब चला जाता हूँ। विचारों की गति इतनी तीव्र हो चली है कि मैं इन्हें पकड़कर व्यक्त करने में कठिनाई महसूस कर रहा हूँ। शब्दों व समय की सीमितता का अब मुझे ज्ञान हो चला है।

हर तरह की गुणवत्ता यहाँ मौजूद है, उपलब्ध है। यदि तुम्हे अपनी गुणवत्ता बढ़ानी है तो उसकी कीमत चुकानी होगी।

लोग कितना रस ले लेकर गन्दी-गन्दी बातें करते और सुनते हैं। गंदे दृश्य, गंदे विचार, गंदे शब्द अब मुझे आकर्षित नहीं करते, विलीन होकर शुद्ध हो चुके हैं ये मेरी आत्मा की शक्ति में।

ह्रदय से निकली आत्मा की हर आवाज़ सच्ची होती है।

-१०:३० a.m.

शक्ति ही भक्ति कर सकती है, दुर्बलता नहीं। जिस प्रकार फूटे बर्तन में पानी नहीं ठहर सकता, भले ही वह कितना ही बड़ा क्यों न हो। दुर्बलता आपके मन के छेद हैं। जब तक आप इन विकार रुपी छेदों को आत्मबल की शक्ति से बंद नहीं कर देते, तब तक भक्ति आपमें नहीं ठहर सकती। भक्त के मन की अंतर्वेदना की करुण पुकार को भजन समझ उसके स्वर में स्वर मिलाकर सियार की तरह हूआं-हूआं करने लगते हैं और भक्ति को अत्यंत सरल कार्य समझने लगते हैं। भक्ति वह अवस्था है मनुष्य की, जहाँ उसकी सच्ची जिज्ञासा है, सच्ची प्यास है, सच्ची तड़प है, सच्ची प्रतीक्षा है उस परम शक्ति की, सच्ची समर्थता है उस शक्ति को ग्रहण करने की। असमर्थता कभी कुछ नहीं पा सकती, अक्षमता कभी कुछ नहीं पा सकती।

-११:०० a.m.

भक्त की सच्ची पुकार, सच्ची तड़प है, सच्ची ललक है शक्ति को पाने की। उस शक्ति के अभाव की तीव्र पीड़ा का करुण रुदन ही है सच्ची भक्ति।

सच्चे योद्धा भी रोते हैं लेकिन उनके रुदन में बल का विस्फोट होता है, आंसुओं का नहीं।

-११:१७ a.m.

हर दिन मेरे लिए एक नया प्रयोग है, जिसका परिणाम जानने के लिए मुझे हर अगली सुबह की उत्सुकता से प्रतीक्षा रहती है।

-११:२७ a.m.

हर दिन मेरे जीवन के नए-नए अध्याय खुलते जा रहे हैं, हर दिन मैं एक-एक सोपान आगे बढ़ता जाता हूँ परंतु फिर भी सीढियां ही सीढियां दिखाई देती हैं।  सीढ़ियों का कोई अंतिम छोर दिखाई नहीं देता।

-११:४० a.m.

पहले मैं हर दिन दस मिनट की झूठी पूजा किया करता था, अब मैं हर दिन चौबीस घंटे की सच्ची पूजा करता हूँ। सच्ची पूजा याने अपनी पात्रता को बढ़ाना।

-११:४४ a.m.

दया नहीं पात्रता, पात्रता हासिल करो। शक्ति खुद-ब-खुद तुम्हारी झोली में होगी, बस तुम्हे अपनी झोली का आकार इतना बढ़ाना है कि शक्ति के लिए उससे बड़ी और अच्छी जगह कोई और न रहे। शक्ति बड़े से बड़ा स्थान ढूंढती है खुद को छिपाने के लिए, क्योंकि उसका कद बहुत बड़ा है। वह चाहकर भी नहीं समां पाती किसी की झोली में, शक्ति बड़े से बड़ा स्थान ढूंढती है, खुद को छिपाने के लिए, क्योंकि उसका कद बहुत बड़ा है।  वह चाहकर भी नहीं समां पति किसी की झोली में, केवल उसके पैर के अंगूठे का नाखून ही उस झोली को फाड़कर तार तार कर देता है। मजबूत, दृढ़ और विस्तीर्ण बनाओ अपनी झोली को, अपनी पात्रता को।

-११:५२ a.m.

पहले सूरज के सामने आँखें खोलने पर भी मेरे सामने अँधेरा था और अब अमावस की काली रात में आँखें बंद करने पर भी मेरे सामने उजाला है।

-११:५५ a.m.

स्वयं की पात्रता ही सर्वोच्च सत्य है और कुछ नहीं।

-१२:० ५ p.m.

ये जीवन आंसू बहाने के लिए नहीं, शक्ति बहाने के लिए है।

-१२:०८ p.m.

पहले जाग्रत अवस्था भी सुप्तावस्था थी, अब सुप्तावस्था भी जाग्रति है। पहले मेरा ध्यान भी एक दिवास्वप्न था अब मेरे स्वप्न भी एक सतत ध्यान प्रक्रिया के अंश हैं।

संकुचन दुर्बलता है, शक्ति का अभाव है। प्रसार शक्ति है, शक्ति की अतिशयता है, शक्ति का प्रवाह है, शक्ति का उफान है।

-१२:२५ p.m.

ये ह्रदय इतना विशाल होगा कि इसमें इतना कुछ समा सकता है, इसकी कल्पना मुझे स्वप्न में भी नहीं थी।

-१२:२५ p.m.

इस जीवन की अनंत जड़ें हैं और ये जड़ें कितनी गहराई तक गई हैं, इसका मुझे अनुमान भी नहीं था, मैं तो उथली जड़ों को ही सब कुछ समझ कर जी रहा था।

-१२:२८ p.m.

भेद वस्तु में नहीं दृष्टि में है।

-१२:५० p.m.

मनुष्य प्रणीत ईश्वर प्रश्न हो सकते हैं सत्य के, बंद द्वार हो सकते हैं सत्य के मार्ग के, प्रतीक हो सकते हैं सत्य के लेकिन सत्य नहीं। प्रश्न तथा उत्तर के बीच कई अवस्थाओं का अंतर है। कई अवस्थाओं से गुजरने के बाद प्रश्न उत्तर बनता है। कोई व्यक्ति किसी चीज को नहीं छोड़ता बल्कि वह स्वयं छूट जाती है, जब वह व्यर्थ हो जाती है। आदमी का स्वभाव छोड़ना नहीं पकड़ना है।

-१:४० p.m.

माँगना खतरनाक है क्योंकि मांगने पर आपको वो सब भी स्वीकारना पड़ेगा जो आप नहीं चाहते, हासिल करने में आप वही हासिल करते हैं जो आप चाहते हैं।

-१:५० p.m.

अब सिगरेट की लंबाई बहुत अधिक लगती है।

-१:५५ p.m.

सत्य की शक्ति के सान्निध्य और सहवास में जो आनंद और संतुष्टि है वह किसी स्त्री के सान्निध्य और सहवास में कहाँ।

-२:२० p.m.

तुलना सत्य नहीं होती, सत्य अतुलनीय होता है लेकिन अल्पज्ञों को सत्य समझाने के लिए तब इसका आश्रय लेना पड़ता है जब कोई और रास्ता नहीं बचता।

-२:२५ p.m.

आत्म-अवलोकन ही हर समस्या का समाधान है।

-३:१२ p.m.

सबकी समस्याएं व्यक्तिगत हैं, सबके समाधान भी व्यक्तिगत होंगे। सच्चे समाधान कभी सार्वजनीन नहीं होते।

आपके सत्कर्मों की खुशबू से बढ़कर कोई और खुशबू नहीं।

-३:२२ p.m.

सत्य आग्रह नहीं करता, आक्रमण करता है, जिनमे सच्चा साहस होता है, वे इससे तब तक लड़ते हैं जब तक इसे पहचान नहीं लेते और जिनमे साहस नहीं होता वे इससे भागकर असत्य की शरण ले लेते हैं। जब सत्य साहसी के साहस की भली-भांति परीक्षा कर लेता है, तब वह उसे अपने कलेजे से लगा लेता है, स्वयं में समां लेता है।

-४:१० p.m.

मानव का साधारण सा स्वभाव है कि वह परदे की ओर आकर्षित होता है, छिपी हुई वस्तु को जानना चाहता है, उद्घाटित करना चाहता है। रहस्यों को उजागर करना चाहता है। छिपी हुई वस्तु उसमे उत्सुकता व कुतूहल पैदा करती है।

-४:४३ p.m.

असुरक्षा तथा खतरे ही साहस पैदा करते हैं।

-४:५४ p.m.

बाह्य परिवर्तन बाह्य अवलोकन के लिए प्रेरित करता है और आतंरिक परिवर्तन आत्म-अवलोकन के लिए।

-४:५९ p.m.

ध्यान को ध्यान न कह कर आत्म-अवलोकन कहना चाहिए।

-५:०० p.m.

शक्ति का प्रबल आवेग क्रांति चाहता है।

-५:०० p.m.

मन की सरलता, विचार तथा वाणी को काव्य में प्रवाहित करती है, तभी तो एक बच्चे की बातों में एक काव्यात्मक लय सुनाई देती है।

-५:०६ p.m.

लोग नहीं जानते कि वे माँ और बहन की गन्दी-गन्दी गलियां बक कर रोज उस स्त्रोत ही अपमान करते हैं जिससे वे पैदा हुए हैं।

-१०:३० p.m.