Monthly Archives: September 2016

Discovery of the truth…15 (सत्य की खोज…15)

Adventure of the Truth…

Discovery of the truth…15

November 29, 2003, sat,

To make decisions with the help of Pen to paper is the simplest way to solve the mathematics of your dilemma.

-12: 25 a.m.

Diary writing has realized me my success so quickly. Writing made my ideological progress sharp and rapid. There is no other better way of self-progress for a simple intelligence human like me.

-12: 28 a.m.

Hurting sense of humiliation begins a frantic search of the way of revenge immediately.

-12:32 a.m.

On bearing someone’s mistakes every time, we have to suffer ourselves the brunt of his fault.

-12:52 a.m.

There will be frequent landslides in the mountaineering of troubles, as often as we will slide down, every time we will have to try to climb up otherwise it will make our grave down side.

-12:58 a.m.

Be thankful to the troubles, thanks to two plagues, which have increased your courage, strength and willpower each time, which have enhanced your confidence and self-esteem.

-1:10 a.m.

Do not waste your time any more in review of any other person, carry on pursuit of self.

-8: 02 A.m.

Have you ever tried to see that the mind solve problems as quick as a match stick burns, mind is a matchbox full of matchsticks that scatters light and fire of solution on the friction of problems but the problems becomes worse when the match stick has moisture and damp of infirmities and laziness.

-8:05 a.m.

I have known the power of the pen, there is no other weapon powerful than this.

-8:07 a.m.

A child falls, arises, balances then runs. To walk properly, don’t know he repeats this process how many times. This does not mean that he could not walk after falling. Falling is also necessary to learn to walk. Fall is also essential for regeneration.

-9:05 a.m.

I am like a river stream, continuously changing, how could someone respect or insult me? Respect and insult may be of this mortal, fleeting body, not mine.

In the flowing stream of river someone immerses ritual flowers or put rubbish, everything is equal for it. Everything flows with it for a while, then all settle in the bottom or accumulate aside, stream of the river moves forward leaving everything.

What I was yesterday am not today. What I am today will not remain tomorrow. I am changing every moment. My yesterday’s faults do not exist today; today’s faults will not remain tomorrow. I am continuously moving, like an egregious waterfall, making a roar of gurgle.

-9:45 a.m.

Look at past problems that despite failing how you have got success.

-9: 57 a.m.

What is a pilgrimage for you? The place where divine thoughts come to your mind? All creation is a pilgrimage for me now. Temple is pilgrimage, brothel is pilgrimage.

-9:58 a.m.

The time of ideological revolution is coming.

-10: 18 a.m.

The night is meant to identify the daylight.

-10: 27 a.m.

We often leave many things behind in a hurry. We are often deceived in haste. Very often we let right to wrong and wrong to right. Just stop and watch everything consciously. Be still and observe each impulse of your lust, your anger, your pride, your greed, your infirmity carefully, watch them silently, without fear for a while and you will see these will flee. Truth needs a hard patience.

-10:50 a.m.

The inertness within me has finished. Now I am always conscious, ever-changing.

-11: 00 a.m.

I did not anticipate at all that later the discovery of the truth will be so pleasant.

1: 00 p.m.

The responsible for your suffering and vulnerability is not your wife nor your children nor your parents and nor this world. The cause of your suffering and vulnerability is you; it is your own ignorance.

-2:00 p.m.

As night comes, the powers inside me start to roll up and start to shake the nerves of my brain.

-9: 30 p.m.

Worship power. Moreover, no spiritual discipline in this age of Kali (kaliyug). It does not need to go to a temple; it does not need to offer vermilion, flower-garlands, incense, offerings on a picture of a goddess. You just have to increase your powers; you have to awaken dormant powers within you, the only way is ‘Truth’, just mold the truth in your life.

-9: 33 p.m.


सत्य की खोज…15

29 नवंबर २००३

कागज पर कलम की सहायता से निर्णय करना सबसे सरल उपाय है अपनी दुविधा के गणित को हल करने का।

-१२:२५ a.m.

डायरी लेखन ने ही मुझे इतनी शीघ्रता से मेरी सफलता का आभास कराया है। लेखन ने ही मेरी वैचारिक प्रगति को प्रखर और तीव्रगामी बनाया है। आत्म प्रगति का मुझ जैसी साधारण बुद्धि मानव के लिए इससे अच्छा उपाय और कोई नहीं है।

-१२:२८ a.m.

अपमान का आहत भाव तुरंत प्रतिशोध का मार्ग तलाशने में जुट जाता है।

-12:32 a.m.

 हर बार किसी की गलतियों को सहन करने पर उसकी गलती का खामियाजा खुद को भुगतना पड़ता है। -१२:५२ a.m.

मुसीबतों के पर्वतारोहण में बार बार स्खलन तो होगा ही, जितनी बार हम स्खलित होंगे, उतनी बार ही ऊपर चढ़ने की कोशिश करनी होगी। नहीं तो नीचे ही कब्र बन जाएगी दुर्बलताओं की।

-१२:५८ a.m.

मुसीबतों का शुक्रिया अदा करो, विपत्तियों को धन्यवाद दो, जिन्होंने तुम्हारे साहस, शक्ति तथा आत्मबल को हर बार बढ़ाया है, आत्मविश्वास और आत्मगौरव को बढ़ाया है।

-१:१० a.m.

किसी और की समीक्षा में समय व्यर्थ न करो, स्वयं की खोज जारी रखो।

-८:०२ a.m.

क्या आपने कभी यह देखने की कोशिश की है कि मन उतनी ही शीघ्रता से समस्याओं का समाधान देता है, जितनी तेजी से एक माचिस की तीली जलती है। मन एक माचिस की भरी हुई डिब्बी है, जो समस्याओं के घर्षण मात्र से ही समाधान का उजाला और अग्नि बिखेर देता है, पर समस्याएँ तब विकराल हो जाती हैं, जब इस माचिस पर दुर्बलता, आलस्य और विकारों की नमी और सीलन चढ़ जाती है।

-८:०५ a.m.

मैं जान गया इस कलम की ताकत को, इससे शक्तिशाली कोई अस्त्र नहीं।

-८:०७ a.m.

एक बच्चा गिरता है, उठता है, संभलता है, फिर चलता है। ठीक से चलने के लिए वह यह प्रक्रिया न जाने कितनी बार दोहराता है, इसका मतलब ये तो नहीं कि भविष्य में वह कभी चल ही नहीं सकता गिरने के बाद। गिरना भी जरूरी है, सँभलने के लिए। पतन भी जरूरी है उत्थान के लिए।

-९:०५ a.m.

मैं तो नदी की बहती जलधारा के समान हूँ, सतत परिवर्तनशील। मेरा कोई मान या अपमान कैसे कर सकता है? मान-अपमान तो इस नश्वर, क्षण-भंगुर शरीर का हो सकता है, मेरा नहीं।

नदी की बहती जलधारा में कोई पूजा के फूल चढ़ाए या कूड़ा-करकट डाले, उसके लिए तो सब एक सामान है, थोड़ी देर तक वह कचरा उसके साथ चलता है फिर आप ही तली में बैठ जाता है, नदी की धारा तो आगे बढ़ जाती है, उस कचरे को छोड़।

जो मैं कल था वो आज नहीं। जो आज हूँ, वो कल नहीं रहूँगा।  मैं क्षण-प्रतिक्षण सतत परिवर्तित हो रहा हूँ। मेरे कल के दोष आज नहीं हैं, आज के दोष कल नहीं रहेंगे, मैं निरंतर आगे बढ़ रहा हूँ, प्रबल झरने की तरह ‘कल-कल’ ‘कल-कल’ का गर्जन करते हुए।

-९:४५ a.m.

पिछली समस्याओं को देखो कि आप असफल होने के बावजूद भी कैसे सफल हुए थे।

-९:५७ a.m.

तीर्थ आप किसे कहते हैं? उस जगह को, जहाँ जाकर आपके मन में सद्विचार आते हैं। मेरे लिए तो अब सारी सृष्टि ही तीर्थ है। मंदिर भी तीर्थ है, वेश्यालय भी तीर्थ है।

-९:५८ a.m.

वैचारिक क्रांति की बेला आ रही है।

-१०:१८ a.m.

रात भी दिन के उजाले की पहचान के लिए होती है।

-१०:२७ a.m.

जल्दबाजी में अक्सर हम बहुत कुछ पीछे छोड़ आते हैं। जल्दबाजी में अक्सर हम धोखा खा जाते हैं। जल्दबाजी में अक्सर हम सही को गलत और गलत को सही समझ बैठते हैं। थमकर देखों हर चीज को। थमकर देखो काम, क्रोध, मद, लोभ, दुर्बलता और विकार के प्रत्येक आवेग को। थमकर देखो इन्हें थोड़ी देर, बिना भयभीत हुए और तुम देखोगे कि ये कैसे भाग खड़े होते हैं। सत्य कड़ा धैर्य मांगता है।

-१०:५० a.m.

मेरे भीतर जो जड़ था वह ख़त्म हो गया, अब मैं नित्य चेतन हूँ, सतत परिवर्तनशील।

-११:०० a.m.

मुझे तनिक भी अनुमान नहीं था कि आगे चलकर सत्य की खोज इतनी सुहावनी हो जाएगी।

-१:०० p.m.

तुम्हारे दुखों और दुर्बलताओं की जिम्मेदार न तो तुम्हारी पत्नी है, न ही तुम्हारे बच्चे हैं, न ही तुम्हारे माता-पिता और न हीं ये संसार। तुम्हारे दुखों और दुर्बलताओं का कारण तुम स्वयं हो, तुम्हारा स्वयं का अज्ञान है।

-२:०० p.m.

रात होते ही मेरे अंदर की शक्तियां करवटें बदलने लगती हैं और मेरे दिमाग की नसों को झिंझोड़ने लगती हैं।

-९:३० p.m.

शक्ति की आराधना करो, इससे बढ़कर और कोई आराधना नहीं इस कलयुग में। इसके लिए किसी मंदिर में जाने की जरूरत नहीं, किसी देवी की तस्वीर पर सिन्दूर, फूल-माला, अगरबत्ती प्रसाद चढाने की जरूरत नहीं। तुम्हे सिर्फ अपनी शक्तियां बढ़ानी हैं, अपने भीतर की सुप्त शक्तियों को जगाना है, जिसका केवल एक ही तरीका है, ‘सत्य’, सत्य को ढाल लो अपने जीवन में।

-९:३३ p.m.



Discovery of the truth…14 (सत्य की खोज…14)

Adventure of the Truth…

Discovery of the truth…14

November 28, 2003, Friday,


In nights negative powers become more effective but my positive powers defeat them.

-8: 45 a.m.

It’s not needed that I should get involve more in this world now, because I’ve understood what truth is and what is the dream?

-8: 50 a.m.

It is the Ignorance of the people that have been nurturing the evil is.

-8: 52 a.m.

I’m listening roaring of winds, thunder of vehicles and melodious music of the chirping of birds, which are saying the same thing that ‘Truth is the power.’

-9: 07 a.m.

In a person’s life, importance of mother decreases on the arrival of wife, mother’s priority becomes secondary ahead wife; the attachment toward mother reduces after entering the wife, why? Because the mother poses the question in a person’s life and the wife appears as answer. The wife introduces the same power in subtle. After meeting his wife power of a person becomes double but I want to make my power infinite times, by meeting the absolute power.

-9:35 a.m.

What will happen to the world when the absolute power will begin to beg? Could the absolute power beg? People are doing the same, asking for donations in the name of God and religion. We are giving alms to the absolute power, by feeling proud and the people are taking alms in the name of absolute power, feeling honored too.

Does that power may be true ever that needs your alms to survive? No, never. That absolute power has dead, on the name of which people are giving and taking alms. Absolute power takes account of your power, not alms, charity or bailout. Those who declares themselves insolvent, it seizes everything from them.

-10:00 a.m.

The imaginations often make us to wander and alienate us to from the truth.

-12: 32 p.m.

Only six days later a childbirth falsehood starts to enter in a child’s life.

Sensual erotic gestures of a prostitute will seem to me now playfulness of an innocent girl.

-1:10 p.m.

Now I’ve come out ahead by breaking the circumferences of respect and honor. Respect and honor are now clay toys for me, my heart will not involve in it because now I have got the real Kohinoor diamond from the mine of my life. These clay toys of respect and honor are useless for me now.

-1:35 p.m.

Answer to each question lies in the origin of the question.

-1:55 p.m.

Attraction of sex is not as shallow as it appears or as much as we understand. It is the thirst of many births; it cannot be erased by the indulgence of many births. It is the thirst of the power that will calm by merging to the sea of absolute power.

-1:34 p.m.

Do not claim ever that you have defeated sex, anger, pride and greed. Sex, Anger, pride, greed cannot be won, can only be known. Knowing them, these become the ultimate friend to a man. Do not make them slaves; do not consider them your servant. These are your friends. Do not try to beat them, do not try to fight them, make friendship with them.

-3: 22 p.m.

Now emptiness feels good.

-3: 50 p.m.

New creation or new construction is a transformation of energy. The birth of a baby is the conversion of the power of the mother. It is the conversion of a woman’s sex-energy into mother’s love. It is the gradual advancement of women’s sex-energy into mother’s love. So after achieving happiness of motherhood she does not have interest in sexual intercourse as before.

-4: 00 p.m.

To know the truth hidden in the prevailing religions do not have much further to go. Its initial word reveals the truth. How? Not understand? Come and see-

  1. BHAGWAAN – means full of grandeur, when you will know your own grandeur then you will begin to believe yourself lucky and you will get BHAGWAAN automatically.
  2. KHUDA – KHUD + AA (You come yourself). When you will move in yourself, then you’ll find KHUDA in yourself. You just have to move forward in your existence simply, and you have to peek inside your body, in your soul.
  3. WAHEGURU – Who will become the master of his own will find his WAHEGURU.
  4. ISHWAR – ISHWAR has two meanings: – 1. Master, 2- soul. When you wil become the master of your own, then you will become the soul. If you’ll be the Spirit ISHWAR (absolute power) will be available to you.
  5. GOD – GO + aheaD. Go ahead, when you will go ahead, you will find yourself the God standing within you, so just move on. According to the real meaning of ‘GOD’ means ‘DEV’ ie give. So you will get only when you will give others. When you will gather strength and distribute in others, you will find God.
  6. OM – Look at the sound of constant accent of OM. What does it sounds –

a-u-m —- a-u-m—- a-u-m—-aum—-  aum —————- aum—- om—-om —-om—-a-m—- a-m—- a-m—-am—- am—-am

After a while, the constant repetition of this will reach you at ‘am’, namely ‘I’.

God is within you, if you want to find him, you will have to enter the cave of your I (ego). After entering you will be surprised to see that your ‘ego’ is drabbed with ‘absolute power’. You are no longer there, only the absolute power remained there.

-6: 38 p.m.

Now the power of truth is thrilling me.

-4: 45 p.m.

There is a third power which makes us to play the game of Strength and disorder. I will not take rest before knowing that power.

Today my anger was at the extreme. Today I have defeated with my negative powers. Now I have to increase my positive powers.

Only the imagination of power causes the infirmities to flee. The only truth is the power.

  1. As much you will be happy equally you have to be disappointed.
  2. As higher you will get up equally you have to fall.
  3. As much you will enjoy the power equally you have to embrace the infirmities.
  4. As much you will suffer the infirmities equally you will get the power.

1’.If you want to get rid of suffering than you have to escape from happiness.

2’. If you don’t want the trouble to fall, you have to be stable on the ground of reality.

3’. If you want freedom from infirmities than you have to be free from the ego of power.

4’. If you will escape from infirmities, you will lose the remaining power.

Do not get distracted on your infirmities, stand firmly in front of them and test your actual powers. The sooner the burden of the false powers removed the better. False powers will have to give off if you want true power. When you will know your own true power, infirmities will be left behind itself.

-10: 50 p.m.

Power is not false, ego of power is false.

Self-testing is essential in every situation, lest you assume the truth to the arrogance of your power or to the illusion of your power. It is not even be that somewhere you may not recognize your true strengths.

Let’s do a self-test in every situation; the absolute power will have some tests itself. Don’t run away by distracting with them and by assuming illusion to your true power rather be stable and try to identify your true power. Try to distinguish your real strengths and virtual powers. You will remain nowhere if you flee. Defeat in any circumstances will not be your defeat but will be your victory. There is no defeat on the path of truth. Your current defeat will be your victory in future. Just keep moving on your way persistently.

Today’s failure has brought messages of further successes for me. Perseverance of ideas is paramount requirement to walk on this path.

Do not be happy at the success, If you become happy then you will have to cry further. Assume just a single step to every success to lead you for further success.

The clouds of debilitating ideas will also come, that will scare you, will intimidate you, will rain on you, will force you to escape but do not run in any circumstances. You make horrific roar of your power, make fierce battle cry of your powers, they will immediately fly away.

-11:10 p.m.

Cry of infirmities will make you more infirm. The only solution to remove disorders is – First look thoroughly disorders, then your inner powers, disorders will go itself. Assume the test of absolute power to every calamity, infirmity and dilemma.

-11: 15 p.m.

There is no greater strength than truth, integrity and ethics in the world. No power on earth can beat this strength. Whatever appears is an illusion. Do not get confused by trapping in illusion. Look at the truth, the only truth, just the truth and nothing else.

-11: 20 p.m.

How terrible irony! On the one hand the honor of women has been plundered, rivers of blood of innocent men are flowing, on the other hand people are enjoying singing hymns and are trying to recite their false hymns to their false gods.

-11: 27 p.m.

Even if the world snatched everything from me and make me naked, even if I shall be stoned and become bloody, still my religion will be – ‘the discovery of truth.’ Even if I shall be proved crazy, my madness will also be – ‘discovery of truth.’ No power in the world can distract me from my path.

-11: 33 p.m.

Even one day’s hunger makes a man mad; do not do any injustice with your hunger and thirst.

-11: 60 p.m.


सत्य की खोज…14

28 नवंबर २००३


रातों को नकारात्मक शक्तियां अधिक प्रभावी हो जाती हैं किन्तु मेरी सकारात्मक शक्तियां इन्हें परास्त कर देतीं हैं।

-८:४५ a.m.

मुझे अब इस संसार में और उलझने की आवश्यकता नहीं रही क्योंकि मैं जान चुका हूँ कि सत्य क्या है और स्वप्न क्या है ?

-८:५० a.m.

लोगों का अज्ञान ही बुराइयों को पोषित किये हुए है।

-८:५२ a.m.

मैं सुन रहा हूँ, हवाओं का गर्जन, वाहनों की गड़गड़ाहट, पंछियों की चहचहाहट का मधुरिम संगीत, जो एक ही बात कह रहे हैं कि ‘शक्ति ही सत्य है।’

-९:०७ a.m.

पत्नी के आ जाने पर एक व्यक्ति के जीवन मे उसकी माता का महत्त्व कम हो जाता है, पत्नी के आगे माता की प्राथमिकता द्वितीयक हो जाती है, पत्नी के आ जाने पर माता से लगाव कम हो जाता है, क्यों? क्योंकि व्यक्ति के जीवन में माता प्रश्न उत्पन्न करती है और पत्नी उत्तर। वह पत्नी सूक्ष्म रूप में उसी शक्ति का साक्षात्कार कराती है। पत्नी से मिलन के पश्चात व्यक्ति की शक्ति द्विगुणित हो जाती है, परंतु मैं तो अपनी शक्ति को अनंत गुणित करना चाहता हूँ, परमशक्ति से मिलकर।

-९:३५ a.m.

क्या होगा संसार का जब वह परमशक्ति ही भीख मांगने लगे? क्या कभी वह परमशक्ति भी भीख मांग सकती है? लोग तो यही कर रहे हैं, ईश्वर और धर्म के नाम पर चंदा मांगकर। हम उस परमशक्ति को भीख दे रहे हैं, गौरव अनुभव करके और लोग उस परमशक्ति के नाम पर भीख ले भी रहे हैं गौरवान्वित अनुभव करके।

क्या वह शक्ति कभी सत्य हो सकती है, जिसे जीवित रहने के लिए आपकी भीख की जरूरत पड़े? नहीं, कभी नहीं। वह परमशक्ति (ईश्वर) मर चूका है जिसके नाम पर लोग भीख ले और दे रहे हैं। परमशक्ति हिसाब लेती है आपकी शक्ति का, भीख, दान या खैरात नहीं। जो लोग दिवालिया घोषित कर देते हैं खुद को, उन पर यह कुर्की कर देती है, उनका सब कुछ छीन लेती है।

-१०:०० a.m.

कल्पनाएं प्रायः हमें सत्य से भटका कर दूर कर देती हैं।

-१२:३२ p.m.

बच्चे के जन्म के छह दिन पश्चात ही उसके जीवन में असत्य का प्रवेश शुरू हो जाता है।

कामुक से कामुक च्येष्ठाऐं करती हुई वेश्या में भी अब मुझे निर्दोष बालिका की मासूमियत से भरी अठखेलियां ही नजर आएंगी।

-१:१० p.m.

अब मैं मान सम्मान की परिधियों को तोड़कर काफी आगे निकल आया हूँ। अब मान सम्मान मेरे लिए मिटटी के खेल खिलौने हैं, मेरा मन अब इनमे नहीं रमेगा क्योंकि अब मैं अपने जीवन की खान से असली कोहिनूर हीरा पा चुका हूँ। अब मान सम्मान के ये मिटटी के खिलौने मेरे लिए बेकार हैं।

-१:३५ p.m.

हर प्रश्न का उत्तर उस प्रश्न के उद्गम में ही छिपा है।

-१:५५ p.m.

काम (सेक्स) का आकर्षण उतना उथला नहीं है जितना कि दिखाई देता है या जितना कि हम समझते हैं। ये तो जन्मों जन्मों की प्यास है, जो जन्म-जन्मांतर के भोग से भी नहीं मिट सकती। यह शक्ति की वह प्यास है जो परमशक्ति के समुद्र में विलीन होकर ही शांत होगी।

– २:३४ p.m.

कभी दावा मत करो कि मैंने काम, क्रोध, मद और लोभ को पराजित कर दिया है। काम, क्रोध, मद, लोभ को जीत नहीं जा सकता, केवल जाना जा सकता है। इन्हें जान लेने के बाद ये मनुष्य के परम हितैषी बन जाते हैं। इन्हें अपना गुलाम मत बनाओ, अपना दास मत समझो।  ये तो आपके मित्र हैं। इन्हें परास्त करने का प्रयत्न मत करो इनसे लड़ने की कोशिश मत करो, इनसे मित्रता करो।

-३:२२ p.m.

अब खालीपन अच्छा लगता है।

-३:५० p.m.

नव-सृजन या नव-निर्माण शक्ति का रूपांतरण है, एक शिशु का जन्म माता की शक्ति का रूपांतरण है। एक स्त्री की सेक्स-ऊर्जा का रूपांतरण है माता के वात्सल्य में, क्रमिक उन्नति है स्त्री की सेक्स-ऊर्जा की माता के वात्सल्य में। इसलिए मातृत्व सुख प्राप्त करने के बाद उसकी सम्भोग में पहले जैसी रूचि नहीं रह जाती।

-४:०० p.m.

प्रचलित धर्मो में छिपे सत्य को जानने के लिए ज्यादा आगे जाने की जरूरत नहीं है। उनके प्रारंभिक शब्द ही उस सत्य को प्रकट करते हैं। नहीं समझे कैसे? आइये देखिये-

१. भगवान् – का अर्थ है ऐश्वर्यशाली, जब तुम अपना स्वयं का ऐश्वर्य जान लोगे तब तुम स्वयं को भाग्यवान मानने लगोगे और भगवान् तुम्हे स्वयं ही मिल जाएगा।

२. खुदा – खुद + आ। जब तुम खुद में आगे बढ़ोगे, तब तुम्हे खुद में खुद भी मिल जाएगा। बस सिर्फ तुम्हे अपने वजूद में आगे बढ़ना है और अपने बदन के अंदर झांकना है अपनी रूह को।

३. वाहेगुरु – जो स्वयं का गुरु बन जाएगा उसे वाहेगुरु भी मिल जाएगा।

४. ईश्वर – ईश्वर के दो अर्थ होते हैं – १. स्वामी, २- आत्मा। जब तुम स्वयं के स्वामी बन जाओगे तब तुम आत्मा बन जाओगे, जब तुम आत्मा हो जाओगे तो ईश्वर (परमशक्ति) को उपलब्ध हो जाओगे।

५. गॉड (GOD) – GO + aheaD. गो अहेड याने आगे बढ़ो, जब तुम खुद में आगे बढ़ोगे तब तुम्हे गॉड भी खड़ा मिलेगा अपने भीतर।

वास्तविक अर्थ के अनुसार ‘GOD’ का अर्थ होता है ‘देव’ तो जब तुम दोगे तभी तुम्हे मिलेगा और जब तुम शक्ति बटोरकर बाटोगे दूसरों में, तभी तुम्हे GOD मिलेगा।

६. ॐ – ओमकार का लगातार उच्चारण करने पर देखो क्या सुनाई देता है –

अ – उ – म —> अ – उ – म —> अ – उ – म —> औम —> औम —> औम ———  ओम —-> ओम —-> ओम —-> अ – म —> अ – म —> अ – म —> अम —> अम —> अम

इस प्रकार लगातार पुनरावृत्ति  करने पर थोड़ी देर बाद आप ‘अम’ पर पहुँच जाएंगे, ‘अम’ अर्थात ‘अहम्’, ‘अहम्’ याने मैं।

ईश्वर तुम्हारे भीतर ही है, यदि उसे ढूंढना है तो मैं (अहम्) की गुफा के भीतर प्रवेश करना पड़ेगा। प्रवेश करने के बाद तुम्हे यह देखकर आश्चर्य होगा कि तुम्हारा ‘अहम्’ याने ‘मैं’ उस परमशक्ति के साथ एकाकार हो गया है, तुम बचे ही नहीं, केवल वही शक्ति बची रह गई।

-४:३८ p.m.

अब सत्य की शक्ति मुझे पुलकित कर रही है।

-४:४५ p.m.

कोई तीसरी शक्ति ही है जो हमें शक्ति और विकार के खेल खिलाती है, मैं जानकर ही दम लूँगा उस शक्ति को।

आज मेरा क्रोध चरम सीमा पर था। आज मैं पराजित हो गया अपनी नकारात्मक शक्तियों से। मुझे अपनी सकारात्मक शक्तियां और बढ़ानी होंगी।

शक्तियों के विचार मात्र से ही दुर्बलताएँ भाग जाती हैं। शक्ति ही सत्य है।


१. जितना खुश होओगे, उतना ही दुखी होना पड़ेगा।

२. जितना ऊंचा उठोगे, उतना ही गिरना भी पड़ेगा।

३. जितनी शक्तियों को भोगोगे, उतनी ही दुर्बलताओं को भी गले लगाना पड़ेगा।

४. जितनी दुर्बलताओं को भोगोगे, उतनी ही शक्ति भी आएगी।


१’. दुखों से छूटना चाहते हो तो सुखों से भी छूटना पड़ेगा।

२’. गिरने का कष्ट नहीं चाहते तो स्थिर होना पड़ेगा, वास्तविकता के धरातल पर।

३’. दुर्बलता से मुक्ति चाहते हो तो शक्ति के मद से मुक्त होना पड़ेगा।

४’. दुर्बलताओं से भागोगे तो रही-सही शक्ति भी भागने में ही गँवा बैठोगे।


विचलित मत हो अपनी दुर्बलताओं पर, डट कर खड़े हो जाओ इनके सामने और परीक्षण करो अपनी वास्तविक शक्तियों का। झूठी शक्तियों का बोझ जितनी जल्दी उतर जाए उतना ही अच्छा। सच्ची शक्ति चाहते हो तो झूठी शक्तियों को छोड़ना पड़ेगा। जब तुम स्वयं अपनी सच्ची शक्ति को जान लोगे तो दुर्बलताएँ स्वयं ही पीछे छूट जाएंगी।

-१०:५० p.m.

शक्ति कभी झूठी नहीं होती, शक्ति का मद झूठ होता है।

आत्म परीक्षण हर परिस्थिति में जरूरी है, कहीं ऐसा न हो कि तुम अपनी शक्ति के अहंकार को, शक्ति के भ्रम को ही सत्य मान बैठो।

कहीं ऐसा भी न हो कि तुम अपनी वास्तविक शक्तियों को पहचान भी न सको।

करते चलो आत्म परीक्षण हर परिस्थिति में, कुछ परीक्षण तो परमशक्ति स्वयं ही करेगी। इनसे विचलित होकर अपनी सच्ची शक्ति को भी भ्रम समझ कर कहीं भाग मत जाना बल्कि स्थिर होकर पहचानने की कोशिश करना अपनी वास्तविक शक्तियों को, भेद करने की कोशिश करना अपनी वास्तविक शक्तियों और आभासी शक्तियों में। भागने पर तुम कहीं के न रहोगे। किन्ही भी परिस्थितियों में पराजय तुम्हारी पराजय नहीं होगी , तुम्हारी जय होगी। सत्य के मार्ग पर पराजय होती ही नहीं है। तुम्हारी वर्तमान हार तुम्हारी भविष्य की जीत होगी। बस,दृढ़तापूर्वक बढ़ते रहना अपने मार्ग पर।

आज की असफलता मेरे लिए आगे की सफलताओं का सन्देश लेकर आई है। विचारों की दृढ़ता इस मार्ग पर चलने के लिए सर्वोपरि आवश्यकता है।

सफलता पर खुश भी मत होना, यदि खुश हुए तो आगे रोना भी पड़ेगा। हर सफलता को केवल एक सीढ़ी बस समझना, आगे की सफलता के लिए।

कमजोर विचारों के बादल भी आएँगे, तुम्हे डराएंगे, धमकाएंगे, बरसेंगे, भागने पर विवश करेंगे लेकिन भागना मत किसी भी परिस्थिति में। भीषण गर्जन करना अपनी शक्तियों का। भयंकर सिंहनाद करना अपनी शक्तियों का, वे तुरंत उड़कर दूर चले जाएंगे।

-११:१० p.m.

दुर्बलता का रुदन तुम्हे और दुर्बल बनाएगा। विकारों को दूर करने का एकमात्र उपाय है – पहले विकारों को भली-भांति देखो, फिर अपने भीतर की शक्तियों को।  विकार अपने आप चले जाएंगे।  हर विपत्ति, दुर्बलता और दुविधा को परमशक्ति की परीक्षा समझो।

-११:१५ p.m.

सच्चाई, ईमानदारी और नैतिकता की ताकत से बड़ी ताकत इस दुनिया में और कोई नहीं। दुनिया की कोई ताकत इस ताकत को हरा नहीं सकती। जो दिखता है, वह भ्रम है। भ्रम में फंसकर भ्रमित मत हो। सत्य को देखो, बस सिर्फ सत्य, सत्य और कुछ नहीं।

-११:२० p.m.

कैसी घोर विडम्बना है कि एक तरफ नारियों की लाज लुट रही है, निर्दोष आदमियों के खून की नदियां बह रही हैं और दूसरी तरफ लोग भजन गाकर आनंद प्राप्त कर रहे हैं। उस झूठे ईश्वर को सुनाने की कोशिश कर रहे हैं अपने झूठे भजन।

-११:२७ p.m.

ये संसार भले ही मुझसे मेरा सब कुछ छीनकर मुझे नंगा कर दे, भले ही मुझे पत्थर मार-मार कर लहू-लुहान कर दे, तब भी मेरा धर्म होगा – ‘सत्य की खोज।’ भले ही मैं पागल साबित कर दिया जाऊं, मेरा पागलपन भी होगा – ‘सत्य की खोज।’ दुनिया की कोई शक्ति मुझे मेरे मार्ग से विचलित नहीं कर सकती।

-११:३३ p.m.

एक दिन की भूख भी आदमी को पागल बना देती है, अपनी भूख और प्यास के साथ कभी अन्याय मत करो।

-११:६० p.m.