Monthly Archives: March 2018

Discovery of the absolute truth … 14 (परमसत्य की खोज…14)

Adventure of the Truth…

Discovery of the absolute truth … 14

December 15, 2003

When the fire of enlightenment burns, then it requires satsanga, self-study, self-examination, self-observation etc. to provoke it further so that it may not be extinguished again.

-7:30 a.m.

  • Love is spiritual attraction, lust is physical attraction.
  • Love always sacrifices its desires and remains satisfied and happy even by losing, lust always fulfils its desires and remains dissatisfied every time even after getting.
  • Love is power, lust is weakness.
  • When lust disappears then love appears, these two can never go together at all.
  • Lust is a lower state and love is higher than high.
  • Lust can be transformed into love and when lust is transformed in love then the creeper of love flourishes and spreads its flower’s fragrance in entire world.
  • Love is eternal smile of bliss, lust is the mourning of grief, is the lamentation of dissatisfaction.
  • Love is the dance of the dignity of prosperity, lust is the lamentation of scarcity, is the restlessness of scarcity.

-8:45 a.m.

Those who were baby girls till yesterday, now has become mothers,

Not known, where the world is going so fast?

-11:00 a.m.

The search for my ultimate truth has now become a yajna. My body is the altar of yajna, enlightenment is the ignited fire. All my faults and ignorance have been consumed in this fire. And the external knowledge is the havan material which is raising up this fire further.

-11:07 a.m.

Do not know how many times my goals moved away from me,

Do not know how many times slippers broke,

Do not know how many times I stumbled,

Do not know how many times I forgot the way,

Do not know how often the blisters erupted,

Do not know how many stones moistened,

Still, I’m moving on to my goal,

Faster…  faster…  faster…

Do not know how many times life missed,

Do not know how often beloved took umbrage,

Do not know how many times spring came,

Do not know how many new sprouts came,

Do not know how often the time looted,

Do not know how many times I missed from self,

I have not paused, I have not bent,

I have not even tired for a moment,

I am moving on to my goal,

-12:50 p.m.

(अंतर्यात्रा)

परमसत्य की खोज…14

15 दिसम्बर 2003

जब आत्मज्ञान की अग्नि जल जाती है तो फिर उसे और भड़काने के लिए सत्संग, स्वाध्याय, आत्मपरीक्षण, आत्म-अवलोकन आदि की जरूरत पड़ती है ताकि वह फिर न बुझ जाए।

-7:30 a.m.

  • प्रेम आध्यात्मिक आकर्षण है, वासना शारीरिक आकर्षण।
  • प्रेम हमेशा खोता है और खोकर भी संतुष्ट और प्रसन्न रहता है, वासना हमेशा पाती है और पाकर भी हर बार असंतुष्ट रहती है।
  • प्रेम शक्ति है, वासना दुर्बलता।
  • जब वासना मिटती है तभी प्रेम जागृत होता है, ये दोनों एक साथ कभी नहीं चल सकते।
  • वासना निम्नतर अवस्था है और प्रेम उच्च से भी उच्चतर।
  • वासना मिटकर प्रेम में पनपती है और प्रेम की बेल फैलकर अपनी खुशबू सम्पूर्ण संसार में बिखेर देती है।
  • प्रेम आनंद की चिरस्थायी मुस्कान है, वासना दुःख का करुण क्रंदन है, असंतुष्टि का मातम है।
  • प्रेम सम्पन्नता की गरिमा का नृत्य है, वासना अभाव का विलाप, अभाव की छटपटाहट है।

-8:45 a.m.

कल तक जो बच्चियां थीं, अब माँ बन चली हैं,

ये दुनिया इतनी तेज, न जाने कहाँ पर चली है।

-11:00 a.m.

मेरी परम सत्य की खोज अब यज्ञ हो गई है। मेरा शरीर यज्ञ की वेदी है, आत्मज्ञान प्रज्वलित अग्नि है। मेरे सारे दोष तथा अज्ञान इस अग्नि में जलकर भस्म हो चुके हैं तथा बाह्य ज्ञान हविष्य (हवन सामग्री) है जो इस अग्नि को और बढ़ाते जा रहा है।

-11:07 a.m.

न जाने कितनी बार मंजिलें रूठीं,

न जाने कितनी बार चप्पलें टूटीं,

न जाने कितनी बार ठोकरें खाईं,

न जाने कितनी बार राह भुलाई,

न जाने कितनी बार फूटे छाले,

न जाने कितने पत्थर तर कर डाले,

फिर भी बढे चला जा रहा हूँ अपनी मंजिल पर,

और तेज… और तेज… और तेज…

न जाने कितनी बार जीवन छूटा,

न जाने कितनी बार प्रियतम रूठा,

न जाने कितनी बहारें आईं-गईं,

न जाने कितनी कोंपलें आईं नईं,

न जाने कितनी बार समय ने लूटा,

न जाने कितनी बार मुझसे मैं छूटा,

रुका नहीं हूँ, झुका नहीं हूँ,

एक पल को भी थका नहीं हूँ,

बढे जा रहा हूँ अपनी मंजिल पर,

और तेज… और तेज… और तेज…

-12:50 p.m.

Discovery of the absolute truth … 13 (परमसत्य की खोज…13)

Adventure of the Truth…

Discovery of the absolute truth … 13

December 14, 2003

The man is so happy even in his ignorance that he feels proud even sitting above the heap of ignorance (evil) as if he has achieved the height of the Everest.

-12:50 a.m.

In order to avoid their problems, People run away from their problems and hide in such a cave, which is an open mouth of a crocodile of death.

-7:15 a.m.

Higher truth is an explosion, after knowing which the ware does not remain the same, which he was before, he becomes transformed completely.

Not obeying the celibacy is to deceit ourselves, it is to deceive with our own soul and conscience.

-4:15 a.m.

My competition is with myself own and not anyone.

-11:55 a.m.

The animals and fools do not work till they are tortured, so here Gandhi ji’s non-violence theory does not apply.

-12:15 p.m.

The true worship is the feeling of gratitude towards that supreme God, but the worship of people is not a true gratitude, but a pretense of gratitude. When people do not want to know that superpower, then how can their gratitude be true, those who ignore him, how can love him? Those who can’t love him how can worship. People’s worship is not love but fear. They are afraid of that ultimate truth, they are afraid of that supreme power, so they worship him.

-12:30 p.m.

Power! Power! Power!

Power is the only truth. Truth is the only power.

-12:35 p.m.

My present life is the effect of the actions of my prior life. If my prior actions has been so high that I will get their return in this birth and my soul will reach the climax and merge in God, Then I will get salvation and if my previous deeds are not so effective, then my current karmas (deeds) will make my path of salvation so I can’t leave doing good deeds in any case I can’t leave the path of truth in any case because my extreme goal is to meet with absolute power (salvation).

-10:45 p.m.

The science of spirituality is not so difficult as hard as the ignorance of people has made it.

-10:50 p.m.

People often leave their hard work on their faith, but they do not know that fate is nothing but the result of past actions and further destiny will also be created by the current karma.

-11:00 p.m.

(अंतर्यात्रा)

परमसत्य की खोज…13

14 दिसम्बर 2003

आदमी अपने अज्ञान में भी इतना खुश रहता है कि अज्ञान (बुराइयों) के ढेर के ऊपर बैठकर भी गर्व महसूस करता है कि मानो उसने एवरेस्ट की ऊंचाई हासिल कर ली हो।

-12:50 a.m.

लोग अपनी समस्याओं से बचने के लिए, अपनी परेशानियों से भागकर ऐसी कंदरा (गुफा) में जा छिपते हैं जो काल रुपी मगरमच्छ का खुला हुआ मुंह होती है।

-7:15 a.m.

उच्चतर सत्य एक विस्फोट होता है जिसे जानने के बाद जानने वाला वह नहीं रह जाता, जो वह पहले रहता है, वह पूरी तरह रूपांतरित हो चुका होता है।

ब्रह्मचर्य का पालन न करना स्वयं से कपटाचरण करना है, अपनी आत्मा तथा विवेक से छल करना है।

-4:15 a.m.

मेरा कॉम्पीटीशन (स्पर्धा) खुद से है और किसी से नहीं।

-11:55 a.m.

जानवरों और मूर्खों को जब तक प्रताड़ित न किया जाए तब तक वे अपना काम नहीं करते अतः यहाँ गाँधी जी का अहिंसा का सिद्धांत लागू नहीं होता।

-12:15 p.m.

सच्ची पूजा कृतज्ञता का भाव है उस परमसत्य परमात्मा के प्रति, परन्तु लोगों की पूजा सच्ची कृतज्ञता नहीं बल्कि कृतज्ञता का ढोंग है। जब लोग उस परमशक्ति को जानना ही नहीं चाहते तो फिर उनकी कृतज्ञता सच्ची कैसे हो सकती है, जो लोग उसकी उपेक्षा करते हैं वे उससे प्रेम कैसे कर सकते हैं, जो लोग प्रेम नहीं कर सकते वे पूजा कैसे कर सकते हैं? लोगों की पूजा प्रेम नहीं भय है। वे डरते हैं उस परम सत्य से, उस परम शक्ति से, इसलिए वे उसकी पूजा करते हैं।

-12:30 p.m.

शक्ति! शक्ति! शक्ति!

शक्ति ही सत्य है। सत्य ही शक्ति है।

-12:35 p.m.

मेरा वर्तमान जीवन मेरे पूर्वजन्मों के कर्मों का प्रभाव है। यदि मेरे पूर्वकर्म इतने उच्चतर रहे होंगे कि उनका प्रतिफल मुझे इसी जन्म में मिल जाएगा और मेरी आत्मा चरमोत्कर्ष पर पहुँच कर विलीन हो जाएगी परमात्मा में, तो मैं मुक्त हो जाऊँगा और यदि मेरे पूर्व कर्म इतने प्रभावशाली नहीं हुए तो, मेरे वर्तमान कर्म ही मेरी मुक्ति का मार्ग बनाएँगे इसलिए मैं अच्छे कर्म करना किसी दशा में नहीं छोड़ सकता, सत्य का मार्ग किसी स्थिति में नहीं छोड़ सकता। क्योंकि मेरा चरम लक्ष्य परम शक्ति से मिलन (मुक्ति) है।

-10:45 p.m.

इतना गूढ़ और इतना कठिन नहीं है आध्यात्म का विज्ञानं, जितना लोगों की अज्ञानता (न जानने की इच्छा तथा उपेक्षा) ने बना रखा है।

-10:50 p.m.

लोग अक्सर अपने कठिन कामों को भाग्य के भरोसे छोड़ कर बैठ जाते हैं पर वे ये नहीं जानते कि भाग्य और कुछ नहीं बल्कि पूर्व कर्मों का परिणाम है तथा आगे का भाग्य भी वर्तमान कर्म ही बनाएँगे।     -11:00 p.m.

Discovery of the absolute truth … 12

Adventure of the Truth…

Discovery of the absolute truth … 12

December 13, 2003

Satsang (Good accompaniment) removes bigger demerit too. (Dream message)

-7: 05 a.m.

Always keep away from ignorance; even a little touch of ignorance contaminates the knowledge.

Do not spend your power by preaching to fools. Ignorance can only end with the knowledge of oneself, not by the discourses of others.

-10:10 a.m.

Trying to remove the ignorance of others is vain like sprinkling petrol on ash to try to burn the fire. Petrol of preach can work only when the fire of enlightenment has arisen within.

-10:15 a.m.

Today Tolstoy introduced me to three deep truths –

1- The most important time – which is in front of you.

2- The most important person – who stands before you.

3- The most important thing – what you are doing.

-12:07 p.m.

The only way to avoid temptations is to –

Keep yourself busy every day, every hour, every minute, every second. Think of your present work as the most important and keep up with full dedication.

-6:30 p.m.

Every Mother of today’s world understands that our country needs the saints like Shankaracharya, Ramkrishna, Vivekananda, Gandhi, Osho, we need the priests of truth like these, but she thinks that he should not be born in our house, he should be born in our neighbor’s house.

People want to get quality of high level but do not want to pay the price. People want a lot but they do not want to sacrifice desirable for it.

-10:34 p.m.

(अंतर्यात्रा)

परमसत्य की खोज…12

13 दिसम्बर 2003

सत्संग बड़े से बड़े दुर्गुण को भी दूर कर देता है। (स्वप्न सन्देश)

-7: 05 a.m.

अज्ञान से हमेशा दूर रहो, अज्ञान का तनिक सा भी स्पर्श ज्ञान को दूषित कर देता है।

मूर्खों को उपदेश देकर अपनी शक्ति व्यय मत करो। अज्ञान केवल स्वयं के ज्ञान से ही ख़त्म हो सकता है, दूसरों के उपदेशों से नहीं।

-10:10 a.m.

दूसरों के अज्ञान को दूर करने की कोशिश करना बुझी राख पर पेट्रोल छिड़ककर आग जलाने की कोशिश के समान व्यर्थ है। उपदेश का पेट्रोल केवल तभी काम कर सकता है, जब भीतर ज्ञान की अग्नि सुलग उठी हो।

-10:15 a.m.

आज टॉलस्टॉय ने मुझे तीन गहरे सत्यों से परिचित कराया –

१-सबसे महत्त्वपूर्ण समय – जो तुम्हारे सामने है।

२- सबसे महत्त्वपूर्ण व्यक्ति – जो तुम्हारे सामने खड़ा है।

३- सबसे महत्त्वपूर्ण कार्य – जो तुम कर रहे हो।

-12:07 p.m.

प्रलोभनों से बचने का एकमात्र उपाय है –

हर दिन, हर घंटे, हर मिनट, हर सेकंड स्वयं को व्यस्त रखो। अपने वर्तमान कार्य को सबसे महत्त्वपूर्ण समझो और उसी में पूरी लगन के साथ जुटे रहो।

-6:30 p.m.

आज की दुनिया की हर माँ समझती है कि हमारे देश को शंकराचार्य, रामकृष्ण, विवेकानंद, गाँधी, ओशो, जैसी संतानों की जरूरत है, इनके जैसे सत्य के पुजारियों की जरूरत है, पर वह ये सोचती है कि ये हमारे घर में पैदा न हों, हमारे पड़ोसी के घर में पैदा हो जाएं।

लोग गुणवत्ता तो उच्चतर स्तर की पाना चाहते हैं पर उसकी कीमत नहीं चुकाना चाहते। लोग पाना तो बहुत कुछ चाहते हैं पर उसके लिए वांछनीय त्याग नहीं करना चाहते।

-10:34 p.m.